पुलिस ने सुपर कार से पहुंचाई अस्पताल को किडनी, सफलता से हुआ मरीज का ट्रांसप्लांट

पुलिस ने सुपर कार से पहुंचाई अस्पताल को किडनी, सफलता से हुआ मरीज का ट्रांसप्लांट

नई दिल्ली। आपने अर्जेन्ट ऑर्गन ट्रंसप्लांट की स्थिति में बाई एयर ऑर्गन का ट्रांसपोर्ट तो सुना ही होगा लेकिन इटली से एक चौकाने वाला मामला सामने आया है जिसमें पुलिस ने सुपर कार की मदद से डोनर किडनी को अस्पताल तक पहुंचाया, जिससे जल्द से जल्द मरीज के शरीर में ये किडनी लगाई जा सके और उसकी जान बचाई जा सके। ये मामला बेहद ही हैरतअंगेज है क्योंकि ये शायद पहला मौक़ा है जब सुपर कार की मदद से ऐसा किया गया है।

ज्यादातर मौकों पर हवाई जहाज या हेलीकॉप्टर की मदद से ऐसा किया जाता है जिससे बिना किसी रुकावट के अस्पताल पहुंचा जा सके। दरअसल इस तरह के मामलों में मरीज की जान को लेकर काफी जोखिम रहता है ऐसे में मेडिकल स्टाफ ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया जल्द से जल्द करता है। इसके लिए डोनर के ऑर्गन को तेजी से अस्पताल पहुंचाया जाता है।

इस मामले में इटली की पुलिस ने नीले रंग की अपनी Lamborghini Huracan की मदद से जेमली यूनिवर्सिटी अस्पताल तक का सफर किया। आमतौर पर जब अस्पतालों में इमरजेंसी होती है तो पुलिस की मदद ली जाती है और यहां पर भी ऐसा ही किया गया है और सफलतापूर्वक किडनी को पहुंचाया गया है। जानकारी के अनुसार इस अस्पताल में हेलीपैड नहीं था और इसलिए, एक सुपरकार को ऑप्शन के रूप में इस्तेमाल किया गया और सफलतापूर्वक इस महान काम को अंजाम दिया गया।

Lamborghini Huracan को इटली की पुलिस इस्तेमाल करती है। ये एक सुपरकार है जिसकी मदद से पुलिस जुर्म पर लगाम लगाती है साथ ही जरूरत पड़ने पर लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहती है। आपको बता दें कि ये कार 602 hp की मैक्सिमम पावर जेनरेट करने में सक्षम है। अपनी इस जबरदस्त पावर की मदद से Lamborghini Huracan ने महज 2 घंटे में 489 किमी की दूरी तय की जो इटली की राजधानी से अस्पताल के बीच है। इस दौरान सुपरकार को 233 kmph की रफ़्तार से चलाया जा रहा था। आम वाहनों को ये दूरी तय करने में 6 से 8 घंटे का समय लगता है।  


मीडिया रिपोर्ट्स में दावा- नॉर्वे में वैक्सीनेशन के बाद 23 लोगों की मौत, फाइजर की वैक्सीन पर सवाल

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा- नॉर्वे में वैक्सीनेशन के बाद 23 लोगों की मौत, फाइजर की वैक्सीन पर सवाल

कई देशों में कोरोना वायरस से निपटने के लिए वैक्सीनेशन शुरू हो गया है। इस बीच नॉर्वे से एक हैरान करने वाली खबर आई है। चीन के अखबार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, यहां वैक्सीन लगवाने के बाद 23 लोगों की मौत हो गई। बताया जाता है कि इन सभी को अमेरिकी कंपनी फाइजर की वैक्सीन लगाई गई थी।

नॉर्वे में नए साल के जश्न के 4 दिन बाद वैक्सीनेशन शुरू किया गया था। देश में 33 हजार लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है। नॉर्वे की मेडिसिन एजेंसी के अनुसार, अब तक 29 लोगों में साइड इफेक्ट दिखे हैं। 23 मरीजों की मौत हो गई है। इनमें से 13 की पुष्टि हुई है। नॉर्वे में कोरोना के 57 हजार 736 केस सामने आ चुके हैं।

मरने वालों में ज्यादातर की उम्र 80 साल से ज्यादा थी
एजेंसी के डायरेक्टर स्टाइनर मैडसेन ने कहा कि मरने वालों में ज्यादातर की उम्र 80 साल से ज्यादा थी। जांच में पाया गया कि इनमें से कई अस्पताल में एडमिट थे। कुछ लोगों ने वैक्सीन लगने के बाद बुखार और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत की थी। फिर उनकी हालत बिगड़ गई।

मैडसेन से कहा है कि ऐसे मामले बहुत रेयर हैं। हजारों लोगों को बिना किसी साइड इफेक्ट के वैक्सीन लगाई गई है। इस तरह यह माना जा सकता है कि जिन लोगों की मौत हुई, वे दिल की बीमारी या किसी अन्य गंभीर बीमारी से पीड़ित थे।

एक्सपर्ट का दावा- वैक्सीन जल्दबाजी में डेवलप की गई
रूस की न्यूज एजेंसी स्पूतनिक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 29 लोगों में साइड इफेक्ट की सूचना आई थी। इनमें से 23 की मौत हो गई। इन्हें वैक्सीनेशन से जोड़ा जा रहा है। वहीं ग्लोबल टाइम्स ने शुक्रवार को कहा कि देश के हेल्थ एक्सपर्ट्स ने फाइजर की mRNA बेस्ड वैक्सीन का इस्तेमाल रोकने के लिए गुजारिश की है। चीन के एक्सपर्ट के मुताबिक यह वैक्सीन जल्दबाजी में डेवलप की गई थी।


सीएम योगी, कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा के पिता को दी श्रद्धांजलि       यूपी में बची इतनी वैक्सीन, 22 जनवरी को फिर टीकाकरण       वैक्सीन से मौत! टीका लगवाने के 24 घंटे बाद तोड़ा दम, UP में हड़कंप       लखनऊ में कोरोना हारा, 6 महीने में सिर्फ इतने संक्रमित       लखनऊ में रेल हादसा, पटरी से उतरे ट्रेन के डिब्बे       यूपी कैबिनेट विस्तार, 26 जनवरी के बाद कई मंत्रियों की छुट्टी       पाकिस्तान में मोदी-मोदी, अलग सिंधु देश की उठी मांग       WHO पर हावी है चीन, तो कैसे पता चलेगा कोरोना का स्रोत       वुहान लैब के वैज्ञानिकों ने उगला राज, ‘कोरोना’ पर दुनिया के सामने बेनकाब हुआ चीन       अब तक 10 से ज्यादा पत्रकारों की मौत, इस देश में दो जजों की गोली मारकर हत्या       वैक्सीन लाई करीब, कोरोना से जंग में ओली के साथ मोदी सरकार       खुले स्कूलः इन नियमों का पालन होगा जरुरी, बच्चे क्लासेज के लिए तैयार       फिर थर्राई धरती, भूकंप ने लोगों की उड़ाई नींद       शराब पर बैन, खरीदने-बेचने पर 1000 जुर्माना       एक्सप्रेस-वे पर भीषण हादसा, आपस में टकराईं 10 से ज्यादा गाड़ियां       पाकिस्तान का हमला! अंधेरे में तड़तड़ाई गोलियां, श्रीनगर में गूंजी चीखें       आमने -सामने से भिड़ी गाड़ियां, जोरदार टक्कर में 13 घायल       कंपकपाती ठंड का अलर्टः घने कोहरे- बर्फीली हवाओं का सितम जारी       बंगाल में भाजपा के खिलाफ ममता की बड़ी रणनीति, रथयात्राओं का जवाब पदयात्राओं से       ट्रेन में डिलिवरी, 3 Idiots का रेंचो बना लैब टेक्निशन