स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में होम क्वारंटाइन किए गए तीन लोग हुए फरार, तलाश में जुटी पुलिस

स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में होम क्वारंटाइन किए गए तीन लोग हुए फरार, तलाश में जुटी पुलिस

फरीदाबाद के सेक्टर-23 और संजय कॉलोनी इलाके से स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में होम क्वारंटाइन किए गए तीन लोग फरार हो गए. जब पुलिस की टीम स्वास्थ्य विभाग की ओर से बताए गए एड्रैस पर जाँच करने पहुंची तो वहां इन तीनों के नाम से कोई भी आदमी नहीं मिला. तीनों के नाम व एड्रैस गलत मिले. पुलिस ने मुद्दा दर्ज कर तीनों की तलाश प्रारम्भ कर दी है.

एनआईटी डीसीपी की स्पेशल टास्क फोर्स में शामिल पुलिस की टीम स्वास्थ्य विभाग की ओर से होम क्वारंटाइन किए गए तीन लोगों का पता लगाने उनके घर पहुंची. जहां पुलिस ने देखा कि सेक्टर-23 में क्वारंटाइन किया गया सचिन, संजय कॉलोनी की गली नंबर 26 में रहने वाला बीर सिंह और संजय कॉलोनी में रहने वाला बाली चरण उस एड्रैस पर नहीं है तथा न ही इन नामों के यहां कोई रहता है.

इसके बाद पुलिस टीम ने स्वास्थ्य विभाग के रिकार्ड में पता और मोबाइल नंबर का मिलान किया तो वे ठीक मिले. इसे लेकर माना जा रहा है कि ये तीनों स्वास्थ्य विभाग को गलत पता व मोबाइल नंबर देकर चम्पत हो गए. इससे संभावना जताई जा रही है कि इन तीनों के गायब होने से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बन सकता है. ऐसा करके उन्होंने आदेश की अवेहलना की है. पुलिस ने इस विषय में गुरुवार को मुद्दा दर्ज कर तीनों की तलाश प्रारम्भ कर दी है.

मरीज स्वस्थ होकर घर लौटा

फरीदाबाद. जिले में शुक्रवार का दिन राहत भरा रहा. कोरोना का कोई नया मुद्दा सामने नहीं आया. वहीं कोरोना से संक्रमित मरीज को अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड से छुट्टी दे दी गई. एहतियात के तौर पर उन्हें घर पर ही 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन किया गया है. इससे पहले उन्हें इलाज के लिए घौज स्थित अल्फला मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में भर्ती किया गया था. इसके साथ जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण से अच्छा होने वालों की संख्या बढ़कर 29 हो गई. कोविड-19 से संक्रमित लोगों का इलाज के लिए कर्मचारी प्रदेश बीमा निगम अस्पताल व अल्फला मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में भर्ती किया गया है. यह जानकारी डिप्टी सिविल सर्जन डाक्टर रामभगत ने दी. उन्होंने बताया कि जिला में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए नमूने लेने की संख्या बढ़ा दी गई है. अब तक सौ नमूने लिए गए.