OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार

OMG! इस प्रदेश में कुत्तों से अधिक खूंखार बिल्लियां, अभी तक इतने लोग हुए शिकार

तिरुवनंतपुरम: केरल में लोगों को कुत्तों से अधिक डर बिल्लियों का है और प्रदेश में पिछले कुछ सालों में बिल्लियों के काटने के मुद्दे कुत्तों के काटने की तुलना में कहीं अधिक सामने आए हैं इस वर्ष केवल जनवरी माह में ही बिल्लियों के काटने के 28,186 मुद्दे सामने आए जबकि कुत्तों के काटने के 20,875 मुद्दे थे

राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने हाल ही में एक आरटीआई (सूचना का अधिकार) के उत्तर में यह जानकारी दी

राज्य स्वास्थ्य निदेशालय के अनुसार, पिछले कुछ सालों से बिल्लियों के काटने का उपचार कराने वालों की संख्या कुत्तों के काटने का उपचार कराने वालों से अधिक है

आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष केवल जनवरी में बिल्लियों के काटने के 28,186 मुद्दे सामने आए जबकि कुत्तों के काटने के 20,875 मुद्दे थे प्रदेश के पशु संगठन, ‘एनिमल लीगल फोर्स’ द्वारा दाखिल आरटीआई के उत्तर में यह आंकड़े दिए गए इसमें 2013 और 2021 के बीच कुत्तों और बिल्लियों द्वारा काटने के आंकड़ों के साथ ‘एंटी-रेबीज’ टीके और सीरम पर खर्च की गई राशि की भी जानकारी दी गई है

आंकड़ों के अनुसार, 2016 से बिल्लियों के काटने के मुद्दे में वृद्धि हुई है 2016 में बिल्लियों से काटने का 1,60,534 इतने लोगों ने उपचार कराया जबकि कुत्तों के काटने के 1,35,217 मुद्दे सामने आए 2017 में बिल्लियों के काटने के 1,60,785 मामले, 2018 में 1,75,368 और 2019 और 2020 में यह बढ़कर क्रमश: 2,04,625 और 2,16,551 हो गए दक्षिणी प्रदेश में 2014 से लेकर 2020 तक बिल्लियों के काटने के मामलों में 128 फीसदी वृद्धि हुई

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 2017 में कुत्तों के काटने के 1,35,749, साल 2018 में 1,48,365, साल 2019 में 1,61,050 और साल 2020 में 1,60,483 मुद्दे सामने आए रेबीज से पिछले वर्ष पांच लोगों की मृत्यु हुई थी


बहादुर मां ने ऐसे बचाई अपने बच्चे की जान

बहादुर मां ने ऐसे बचाई अपने बच्चे की जान

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसे देख आप हैरान हो जाएंगे। इस वीडियो में एक मां ने न केवल ममता, बल्कि बहादुरी की भी मिसाल पेश की है। लोग वीडियो देख मां की बहादुरी की जमकर तारीफ कर रहे हैं। इस वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि बंदर का एक बच्चा बिजली की तार पर लटक रहा है। वह उतरने की पूरी कोशिश करता है, लेकिन सफल नहीं हो पाता है।


वीडियो देख ऐसा लगता है कि कई बंदर एक झुंड में छत पर आराम फरमा रहे हैं। इनमें बंदरनी यानी बच्चे की मां भी है। बंदर का बच्चा इठला-इठला कर इधर-उधर उछल रहा है। तभी बच्चे के मन में शरारत सूझती है और वह छत की दीवार पर जाकर बैठ जाता है। इतना ही नहीं, इसके बाद वह उछलकर बिजली की तार पर चढ़ जाता है। हालांकि, उसे पता नहीं होता है कि बिजली की तार पर ड्रामा करना खतरे से खाली नहीं होता है।

उस समय बच्चे की मां की नजर अपने बच्चे पर पड़ती है। वह व्याकुल हो उठती है कि बिजली की तार पर लटकने और झूलने से करेंट भी लग सकता है। यह देख सभी बंदर परेशान हो जाते हैं। सभी मदद करना चाहते हैं, लेकिन कर नहीं पा रहे हैं। बंदर का बच्चा अपनी तरफ से पूरी कोशिश करता है। इसके बावजूद वह छत पर उतर नहीं पा रहा है। जब मां से रहा नहीं जाता है, तो वह उछलकर तार पर जाकर बैठ जाती है। इस क्रम में वह अपना वजन संतुलित नहीं कर पाती है। यह जान वह वापस छत पर आ जाती है। इसके बाद एक बार फिर कोशिश करती है। इस कोशिश में वह सफल हो जाती है। उस समय मां और बच्चे दोनों हैप्पी होते हैं।

इस वीडियो को भारतीय सेवा अधिकारी Rupin Sharma IPS ने सोशल मीडिया ट्विटर पर अपने अकांउट से शेयर किया है। इसके कैप्शन में उन्होंने लिखा है-मां का प्यार या जरूरत पर दोस्त। इस वीडियो को खबर लिखे जाने तक 1 हजार बार देखा गया है। वहीं, कुछ लोगों ने पसंद कर कंमेटस किए हैं।