बस आने वाली है Coronavirus Vaccine, Moderna ने बताया कितनी होगी कीमत

बस आने वाली है Coronavirus Vaccine, Moderna ने बताया कितनी होगी कीमत

करीब एक साल से दुनिया में हाहाकार मचाने वाली कोरोना वायरस की महामारी के खिलाफ वैक्सीन कब आएगी, इस पर तो लोगों की निगाहें हैं ही, इस बात पर भी हैं कि असरदार और सुरक्षित वैक्सीन की कीमत कितनी होगी। अमेरिकी फार्मा कंपनी Moderna Inc ने बताया है कि उसकी कोरोना वायरस वैक्सीन के लिए सरकारों को एक खुराक की कीमत 25 (1,854) से 37 (2,744) डॉलर देनी होगी। सरकारें जितनी मात्रा में वैक्सीन का ऑर्डर देंगी, कीमत भी उसी के आधार पर तय होगी। कंपनी के चीफ एग्जिक्युटिव ऑफिसर स्टेफन बैंसल ने यह जानकारी दी है। इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि वैक्सीन की कीमत फ्लू के शॉट के बराबर होगी जो 10 से 50 डॉलर के बीच आता है।

यूरोपियन कमीशन के साथ बात

वैक्सीन के लिए यूरोपियन कमीशन Moderna के साथ डील करना चाहता है। लाखों खुराकों के लिए 25 डॉलर से कम दाम पर खरीद को लेकर डील की जा रही है। बैंसल ने बताया है कि अभी कुछ फाइनल नहीं हुआ है लेकिन बातचीत जारी है। उन्होंने कहा कि कंपनी यूरोप में डिलिवर करना चाहती है और सकारात्मक दिशा में बातचीत जारी है। दोनों के बीच जुलाई से डील पर बात चल रही है।

सबसे ज्यादा असरदार

इससे पहले Moderna ने बताया था कि उसकी वैक्सीन कोविड-19 को रोकने में 94.5% असरदार है। आखिर स्टेज के क्लिनिकल ट्रायल से मिले अंतरिम डेटा के आधार पर यह ऐलान किया गया था। Moderna के अलावा सिर्फ Pfizer ने इतने सफल नतीजे दिए हैं। Moderna की वैक्सीन भी उसी mRNA तकनीक पर आधारित है जिस पर Pfizer की वैक्सीन। युवाओं के साथ-साथ ज्यादा उम्र के लोगों में Moderna की वैक्सीन ने ऐंटीबॉडी पैद की जिसने वायरस के खिलाफ ऐक्शन किया।

Pfizer ने मांगा FDA अप्रूवल

अपनी कोरोना वायरस वैक्सीन को इमर्जेंसी में इस्तेमाल की इजाजत के लिए Pfizer ने अमेरिका के नियामक प्राधिकरण को आवेदन दिया है। माना जा रहा है कि यह प्रक्रिया पूरी होने पर अगले महीने सीमित संख्या में वैक्सीन की खुराकें तैयार हो सकती हैं। कंपनी ने कहा है कि वायरस से सुरक्षा के साथ गंभीर साइड इफेक्ट न होने से वैक्सीन इस्तेमाल के लिए फूड ऐंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन (FDA) की इजाजत के लिए आवेदन कर सकती है। इसके बाद इसकी फाइनल टेस्टिंग भी की जा सकती है।

क्रिसमस तक आएगी ऑक्सफर्ड की वैक्सीन?

ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी और AstraZeneca के वैक्सीन ट्रायल के लीडर प्रफेसर ऐंड्रू पोलार्ड का कहना है कि टीम को उम्मीद है कि क्रिसमस तक वैक्सीन को मंजूरी मिल जाएगी। उनका कहना है कि यह Pfizer से 10 गुना सस्ती होगी। दरअसल, Pfizer की वैक्सीन को -70 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर रखना होगा और कुछ हफ्ते के अंतर पर दो इंजेक्शन लगाने होंगे। ऑक्सफर्ड की वैक्सीन को फ्रिज के तापमान पर रखना होगा।


जाने आखिर अमेरिका में जेल तोड़कर भीड़ ने दो लोगों को निकाला बाहर और पार्क में लटकाया जिंदा

जाने आखिर अमेरिका में जेल तोड़कर भीड़ ने दो लोगों को निकाला बाहर और पार्क में लटकाया जिंदा

अमेरिका से ही लिंचिंग की उत्पत्ति हुई यह कहना गलत नहीं होगा. अमेरिका के इतिहास को उठाकर देखें तो विश्व के सबसे पुराने लोकतंत्र में लिंचिंग के सबसे अधिक मामले का जिक्र मिलता है. एक ऐसा ही मामला कैलिफ़ोर्निया 26 नवंबर 1933 को सामने आया था जब एक भीड़ ने हत्या के दो आरोपियों को जेल तोड़कर बाहर निकाला था और फिर उन्हें पार्क में जिंदा टंगा दिया था, जिससे इन दोनों की मौत हो गई थी. इसके बाद वहां लोगों ने इन दोनों की मृत लाशों के साथ फोटो लिए थे.

कैलिफ़ोर्निया के सैन होज़े में लोगों की भीड़ ने उस जेल को पूरी तरह से तहस-नहस कर दिया जिसमें थॉमस थरमंड और जॉन होम्स को रखा गया था. इन दोनों पर आरोप था कि उन्होंने स्थानीय स्टोर के मालिक के 22 वर्षीय बेटे ब्रुक हार्ट का अपहरण करके उसकी हत्या कर दी थी. 9 नवंबर 1933 को ब्रुक हार्ट को उनके स्टुडबेकर से अपहरण कर लिया गया था.


इसके बाद अपहरण करने वाले ने उनके परिवार से $ 40,000 फिरौती की मांग की. इसके कुछ देर बाद हार्ट का बटुआ पास के एक खाड़ी में एक टैंकर जहाज पर पाया गया. पुलिस ने मामले की जांच की और उनकी जांच होम्स और थरमंड तक पहुंची. पुलिस ने इन दोनों से अलग अलग पूछताछ कि जिसमें दोनों ने अलग अलग बयान दिए और फंस गए. हालांकि, दोनों ने स्वीकार किया कि हार्ट को पिस्तौल की बट से मारा गया था और उसके बाद सैन मेटो ब्रिज से फेंक दिया गया था.

25 नवंबर को जब हार्ट का शरीर किनारे पर मिला तो एक भीड़ बनने लगी थी. समाचार पत्रों ने एक लिंचिंग की संभावना की सूचना दी और स्थानीय रेडियो स्टेशनों ने योजना का प्रसारण किया. लेकिन गवर्नर जेम्स रॉल्फ ने सहायता भेजने के नेशनल गार्डस को भेजने की पेशकश को अस्वीकार कर दिया. उन्होंने कथित तौर पर कहा कि वह लिंचिंग में शामिल लोगों को क्षमा करेंगे.

26 नवंबर को, गुस्साई भीड़ ने जेल में धावा बोल दिया और गार्ड्स को पीटा, एक बैटरिंग राम का उपयोग करके सलाखों को तोड़ दिया. इसके बाद भीड़ थरमंड और होम्स को घसीटकर लाई और बाहर पार्क में एक बड़े पेड़ से लटका दिया गया.

वहीं कैलिफ़ोर्निया की आम जनता से भीड़ द्वारा इतनी बुरी तरह से किसी व्यक्ति की मौत का स्वागत किया. घटना के बाद, थरमंड और होम्स को जिस रस्सी से लटकाया गया था, उसके टुकड़े जनता को बेचे गए. वहीं सैन जोस समाचार ने लिंचिंग की तस्वीरों को प्रकाशित करने से इनकार कर दिया और उसने इस कृत्य की निंदा की .

सत्रह वर्षीय एंथनी कैटाल्डी ने दावा किया था कि वो भीड़ का नेता था, लेकिन उसकी भागीदारी के लिए उसे जिम्मेदार नहीं ठहराया गया था. दूसरी तरफ स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में एक प्रोफेसर ने अपने छात्रों से लिंचिंग करने वाले लोगों का स्वागत करने और उनके लिए तालियां बजाने को कहा. राज्य के गवर्नर रॉल्फ ने सार्वजनिक रूप से भीड़ की प्रशंसा की. गवर्नर रॉल्फ ने कहा,"देश का अब तक का सबसे अच्छा सबक."


बाथरूम में लम्बे समय तक बैठने से भी हो सकता है यूरीन इंफैक्शन       अगर खर्राटों से परेशान तो आज ही कर लें ये उपाय       क्या आप भी जान बूझकर रोकते हैं छींक, बढ़ सकती है दिल की समस्याएं       बच्चों में बार-बार उल्टी होने पर करें ये उपाय, जल्दी मिलेगी राहत       शरीर पर चोट लगने पर तुरंत करें ये काम, जल्दी भरेंगे घाव       लड़कियों को मासिक धर्म के दर्द से छुटकारा दिला सकते है ये उपाय       अपने घर को कोरोना से बचाव के लिए इस तरह बनाएं स्वच्छ       अगर शरीर में दिखाई दें ये लक्षण तो हो जाएं सावधान!       जहरीले सांप के काटने पर तुरंत करें ये उपाय, नहीं तो...       पेट की समस्या और कब्ज से छुटकारा पाने के लिए करें इस चीज का सेवन       अगर आप भी है अपने स्तनों के दर्द से परेशान तो छुटकारा पाने के लिए करें ये...       लगातार चल रही हिचकियों को रोकने के लिए करें ये घरेलू उपाय       आखिर किन महिलाओं को होता है ब्रेस्‍ट कैंसर का ज्यादा खतरा       महिलाओं के ज्यादा कोल्ड ड्रिंक्स के सेवन से हो सकती है ये बड़ी बीमारी       पेट की बिमारियों के लिए बहुत फायदेमंद है फल और सब्जियों के बीज       नाभि में तेल डालने से दूर हो जाती है महिलाओं की ये समस्या       महिलाओं में उन दिनों की समस्या में फायदेमंद है चुकंदर की चाय       चोट लगने पर क्यों लगाया जाता है टिटनेस का इंजेक्‍शन, जानें       भारत में वायु प्रदूषण से 2019 में 1.16 लाख से ज्यादा शिशुओं की हुई मौत       ज्यादा अंडे खाने से बढ़ सकता है हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा