असली नकली की पहचान के लिये कुत्तों का होगा DNA टेस्ट

असली नकली की पहचान के लिये कुत्तों का होगा DNA टेस्ट

मध्य प्रदेश में तीन वर्षीय लैब्राडोर कुत्ते के मालिक और माता पिता की जांच के लिए उसका डीएनए टेस्ट किया जायेगा. मध्य प्रदेश पुलिस ने उसके माता-पिता का पता लगाने के प्रयास में डीएनए परीक्षण करने का फैसला किया है. इससे कुत्ते के असली मालिक का पता लगेगा क्योंकि दो लोगों ने उसपर दावा किया है.

होशंगाबाद पुलिस इस मामले में कोई भी रिस्क नहीं लेना चाहती है कुत्ते पर मालिकाना हक जतानेवाला एक पत्रकार है और दूसरा राजनीतिक कार्यकर्ता है. इस मामले मे होशंगाबाद देहात थाना प्रभारी, हेमंत श्रीवास्तव ने कहा कि लगभग तीन महीने पहले, एक पत्रकार शादाब खान ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उनका तीन साल का कुत्ता कोको गायब था.

बता दें कि 18 नवंबर को शादाब खान ने दावा किया उनका कुत्ता अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के नेता कार्तिक शिवहरे के घर में में है. शादाब ने पुलिस को बुलाया और कुत्ते को अपने साथ ले गया. बाद में, 19 नवंबर को, शिवहारे पुलिस स्टेशन पहुंचे और दावा किया कि कुत्ता उनका था. उन्होंने कहा कि कुत्ते का नाम टाइगर है और उन्होंने कुछ हफ्ते पहले इटारसी से कुत्ता खरीदा था. जबकि होशंगाबाद देहात थाना प्रभारी ने कहा कि कुत्ता दोनों नामों, कोको और टाइगर, और दोनों दावेदारों के साथ दोस्ताना व्यवहार कर रहा है.

उन्होंने कहा कि दोनो ही इस कुते पर स्वामित्व का दावा कर रहे थे इसलिए हमने डीएनए परीक्षण करने का फैसला किया. शादाब खान ने कहा कि कुत्ते के माता-पिता पंचमढ़ी में थे, जबकि शिवहरे ने कहा कि उसके कुत्ते के माता-पिता इटारसी में हैं.

कुत्ते की डीएनए जांच के लिए हेमंत श्रीवास्तव ने कुत्ते के माता-पिता के रक्त के नमूने एकत्र करने के लिए पंचमढ़ी और इटारसी में एक पुलिस दल भेजा है. कुत्ते का रक्त के नमूने शुक्रवार रात जिला पशु चिकित्सक द्वारा एकत्र किए गए थे और पुलिस ने शिवहरे को कुत्ते को रखने की अनुमति देने का फैसला किया.

खान और शिवहरे दोनों ने जोर देकर कहा कि परीक्षण से सच्चाई का पता चलेगा. खान ने कहा, "मैंने अपना स्वामित्व साबित करने के लिए पुलिस को एक टीकाकरण कार्ड सहित सभी दस्तावेज जमा किए हैं और मैंने डीएनए परीक्षण पर जोर दिया है. वहीं शिवहरे ने कहा, "शादाब ने मेरी अनुमति के बिना मेरे घर से कुत्ते को ले लिया और अब डीएनए टेस्ट में सच सामने आयेगा.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक इस बीच, पशु कार्यकर्ता समूह पीपुल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (PETA) ने पुलिस को असंवेदनशील होने का दोषी ठहराया. राज्य में पेटा के समन्वयक स्वाति गौरव भदौरिया ने कहा कि उचित देखभाल नहीं होने के कारण कुत्ते बीमार पड़ गए हैं. वह तेज बुखार से पीड़ित है. हम चाहते हैं कि पुलिस और उस व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए जिसने पशु क्रूरता निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत झूठे स्वामित्व का दावा किया है.


जाने आखिर अमेरिका में जेल तोड़कर भीड़ ने दो लोगों को निकाला बाहर और पार्क में लटकाया जिंदा

जाने आखिर अमेरिका में जेल तोड़कर भीड़ ने दो लोगों को निकाला बाहर और पार्क में लटकाया जिंदा

अमेरिका से ही लिंचिंग की उत्पत्ति हुई यह कहना गलत नहीं होगा. अमेरिका के इतिहास को उठाकर देखें तो विश्व के सबसे पुराने लोकतंत्र में लिंचिंग के सबसे अधिक मामले का जिक्र मिलता है. एक ऐसा ही मामला कैलिफ़ोर्निया 26 नवंबर 1933 को सामने आया था जब एक भीड़ ने हत्या के दो आरोपियों को जेल तोड़कर बाहर निकाला था और फिर उन्हें पार्क में जिंदा टंगा दिया था, जिससे इन दोनों की मौत हो गई थी. इसके बाद वहां लोगों ने इन दोनों की मृत लाशों के साथ फोटो लिए थे.

कैलिफ़ोर्निया के सैन होज़े में लोगों की भीड़ ने उस जेल को पूरी तरह से तहस-नहस कर दिया जिसमें थॉमस थरमंड और जॉन होम्स को रखा गया था. इन दोनों पर आरोप था कि उन्होंने स्थानीय स्टोर के मालिक के 22 वर्षीय बेटे ब्रुक हार्ट का अपहरण करके उसकी हत्या कर दी थी. 9 नवंबर 1933 को ब्रुक हार्ट को उनके स्टुडबेकर से अपहरण कर लिया गया था.


इसके बाद अपहरण करने वाले ने उनके परिवार से $ 40,000 फिरौती की मांग की. इसके कुछ देर बाद हार्ट का बटुआ पास के एक खाड़ी में एक टैंकर जहाज पर पाया गया. पुलिस ने मामले की जांच की और उनकी जांच होम्स और थरमंड तक पहुंची. पुलिस ने इन दोनों से अलग अलग पूछताछ कि जिसमें दोनों ने अलग अलग बयान दिए और फंस गए. हालांकि, दोनों ने स्वीकार किया कि हार्ट को पिस्तौल की बट से मारा गया था और उसके बाद सैन मेटो ब्रिज से फेंक दिया गया था.

25 नवंबर को जब हार्ट का शरीर किनारे पर मिला तो एक भीड़ बनने लगी थी. समाचार पत्रों ने एक लिंचिंग की संभावना की सूचना दी और स्थानीय रेडियो स्टेशनों ने योजना का प्रसारण किया. लेकिन गवर्नर जेम्स रॉल्फ ने सहायता भेजने के नेशनल गार्डस को भेजने की पेशकश को अस्वीकार कर दिया. उन्होंने कथित तौर पर कहा कि वह लिंचिंग में शामिल लोगों को क्षमा करेंगे.

26 नवंबर को, गुस्साई भीड़ ने जेल में धावा बोल दिया और गार्ड्स को पीटा, एक बैटरिंग राम का उपयोग करके सलाखों को तोड़ दिया. इसके बाद भीड़ थरमंड और होम्स को घसीटकर लाई और बाहर पार्क में एक बड़े पेड़ से लटका दिया गया.

वहीं कैलिफ़ोर्निया की आम जनता से भीड़ द्वारा इतनी बुरी तरह से किसी व्यक्ति की मौत का स्वागत किया. घटना के बाद, थरमंड और होम्स को जिस रस्सी से लटकाया गया था, उसके टुकड़े जनता को बेचे गए. वहीं सैन जोस समाचार ने लिंचिंग की तस्वीरों को प्रकाशित करने से इनकार कर दिया और उसने इस कृत्य की निंदा की .

सत्रह वर्षीय एंथनी कैटाल्डी ने दावा किया था कि वो भीड़ का नेता था, लेकिन उसकी भागीदारी के लिए उसे जिम्मेदार नहीं ठहराया गया था. दूसरी तरफ स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में एक प्रोफेसर ने अपने छात्रों से लिंचिंग करने वाले लोगों का स्वागत करने और उनके लिए तालियां बजाने को कहा. राज्य के गवर्नर रॉल्फ ने सार्वजनिक रूप से भीड़ की प्रशंसा की. गवर्नर रॉल्फ ने कहा,"देश का अब तक का सबसे अच्छा सबक."


बाथरूम में लम्बे समय तक बैठने से भी हो सकता है यूरीन इंफैक्शन       अगर खर्राटों से परेशान तो आज ही कर लें ये उपाय       क्या आप भी जान बूझकर रोकते हैं छींक, बढ़ सकती है दिल की समस्याएं       बच्चों में बार-बार उल्टी होने पर करें ये उपाय, जल्दी मिलेगी राहत       शरीर पर चोट लगने पर तुरंत करें ये काम, जल्दी भरेंगे घाव       लड़कियों को मासिक धर्म के दर्द से छुटकारा दिला सकते है ये उपाय       अपने घर को कोरोना से बचाव के लिए इस तरह बनाएं स्वच्छ       अगर शरीर में दिखाई दें ये लक्षण तो हो जाएं सावधान!       जहरीले सांप के काटने पर तुरंत करें ये उपाय, नहीं तो...       पेट की समस्या और कब्ज से छुटकारा पाने के लिए करें इस चीज का सेवन       अगर आप भी है अपने स्तनों के दर्द से परेशान तो छुटकारा पाने के लिए करें ये...       लगातार चल रही हिचकियों को रोकने के लिए करें ये घरेलू उपाय       आखिर किन महिलाओं को होता है ब्रेस्‍ट कैंसर का ज्यादा खतरा       महिलाओं के ज्यादा कोल्ड ड्रिंक्स के सेवन से हो सकती है ये बड़ी बीमारी       पेट की बिमारियों के लिए बहुत फायदेमंद है फल और सब्जियों के बीज       नाभि में तेल डालने से दूर हो जाती है महिलाओं की ये समस्या       महिलाओं में उन दिनों की समस्या में फायदेमंद है चुकंदर की चाय       चोट लगने पर क्यों लगाया जाता है टिटनेस का इंजेक्‍शन, जानें       भारत में वायु प्रदूषण से 2019 में 1.16 लाख से ज्यादा शिशुओं की हुई मौत       ज्यादा अंडे खाने से बढ़ सकता है हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा