सोनीपत में बड़ा हादसा, रिक्शा ड्रेन में गिरा, बच्ची की मौत

सोनीपत में बड़ा हादसा, रिक्शा ड्रेन में गिरा, बच्ची की मौत

प्याऊ मनियारी के पास सोमवार को रिक्शा अनियंत्रित होकर ड्रेन नंबर-8 में गिरने से बच्ची की मौत हो गई और उसके मामा लगने वाले दो बच्चे डूब गए। बच्चे अपनी बहन के साथ रिक्शा में सवार होकर दुकान से सामान लेने जा रहे थे। रिक्शा चला रही बच्ची ने कूदकर जान बचाई तो अन्य सभी ड्रेन में बह गए। पुलिस उनकी तलाश कर रही है। 

मूलरूप से यूपी के जिला बदायूं के गांव ककराला का सलीम अपने परिवार के साथ फिलहाल प्याऊ मनियारी में रहता है। सलीम की 11 वर्षीय बेटी अफसाना सोमवार शाम को रिक्शा में अपनी भांजी अलीफशाह (4), भाई माजिद (5) और मुजाहिद (2) के साथ उन्हें  बिस्कुट दिलाने दुकान पर जा रही थी। 

तीनों बच्चे रिक्शा में पीछे बैठे थे और अफसाना रिक्शा चला रही थी। जब वह ड्रेन के पास से गुजर रही थी तो अचानक रिक्शा अनियंत्रित होकर ड्रेन में गिर गया। रिक्शा चला रही अफसाना ने कूदकर जान बचाई। लेकिन रिक्शा में सवार उसकी भांजी अलीफशाह, भाई माजिद और मुजाहिद ड्रेन में डूब गए। 

घटना के बाद अफसाना ने शोर मचा दिया। जिस पर आसपास के लोग व बच्चों के परिजन भी मौके पर पहुंच गए। मामले की सूचना पर कुंडली थाना पुलिस व प्रशासनिक टीम भी मौके पर पहुंची और बच्चों की तलाश के लिए अभियान शुरू किया। तलाश के दौरान ड्रेन से अलीफशाह का शव बरामद किया गया है। जिसे पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल में भिजवा दिया है। दोनों मासूम बच्चों की तलाश का प्रयास किया जा रहा है। 

अपनी मां नूरजहां के साथ ननिहाल आई थी अलीफशाह
ड्रेन में डूबकर जान गंवाने वाली अलीफशाह सलीम की बेटी नूरजहां की बेटी है। नूरजहां की शादी यूपी के गाजियाबाद में हुई है। अलीफशाह तीन दिन पहले ही गाजियाबाद से प्याऊ मिनयारी अपने ननिहाल आई थी। एक हादसे ने उसकी जान ले ली। 

मजदूरी करता है सलीम, परिजनों का रोकर बुरा हाल 
बदायूं के ककराला गांव का सलीम चार साल पहले प्याऊ मनियारी में आकर रहने लगा था। वह मेहनत मजदूरी कर परिवार का लालन-पालन करता है। उसकी बड़ी बेटी नूरजहां की शादी हो चुकी है। वह दो बेटी अफीजा और अफसाना है। दो बेटे ड्रेन में डूब चुके है। जिनकी तलाश जारी है। एक तीन वर्षीय बेटा और है। हादसे के बाद से परिजनों का रोकर बुरा हाल है। 

दहिसरा घाट के पास पुलिस प्रशासन ने लगाया जाल
बच्चों की तलाश के लिए पुलिस और प्रशासनिक अमला लगातार प्रयास कर रहा है। इसके लिए गोताखोरों के साथ ही अन्य लोगों की भी मदद ली जा रही है। वहीं प्रशासनिक अमले ने गांव दहिसरा के पास जाल लगा दिया है। जिससे बच्चे बहते हुए वहां पहुंचे तो जाल में अटक सके। वहीं स्थानीय लोगों ने ड्रेन में पानी का बहाव करने की भी मांग की है।