अब्बा ने बिस्कुट का लालच देकर साढ़े तीन वर्ष की बच्ची को कमरे में बुलाया व फिर

अब्बा ने बिस्कुट का लालच देकर साढ़े तीन वर्ष की बच्ची को कमरे में बुलाया व फिर

साढ़े तीन वर्ष की बच्ची जिसको अब्बा कहकर पुकारती थी, उसी अब्बा (अभियुक्त) ने बिस्कुट का लालच देकर अपने कमरे में बुलाया व बलात्कार किया. पोक्सो की विशेष न्यायालय ने बलात्कार के आरोप में दोषी करार मकान मालिक मो।

शकील अहमद को 20 वर्ष की सजा सुनाई, साथ ही 40 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है. जुर्माने की राशि जमा नहीं करने पर अभियुक्त को अलावा एक वर्ष कारागार काटनी होगी. 

पोक्सो की विशेष न्यायालय ने बुधवार को उक्त आरोप में पोक्सो की भिन्न-भिन्न चार धाराओं में दोषी पाया था. सभी धाराओं में 20-20 वर्ष की सजा सुनाई गई है. सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी. अभियुक्त सदर थाना क्षेत्र के गौसनगर गड्ढाटोली निवासी है. बच्ची को अपने दरिंदगी का शिकार चार मार्च 2019 की प्रातः काल 9.45 बजे बनाया था. घटना को लेकर बच्ची के पिता ने सदर थाना में काण्ड संख्या 118/19 के तहत प्राथमिकी दर्ज करवायी थी. अभियुक्त घटना के बाद से ही कारागार में है. घटना को लेकर बच्ची के पिता ने सदर थाने में नामजद प्राथमिकी दर्ज करवायी थी. लॉकडाउन के कारण दो महीने विलंब से निर्णय आया. पूरी सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई. सुनवाई के दौरान अभियुक्त को बिरसा मुंडा केन्द्रीय कारा होटवार से पेश किया गया था. 

बिस्कुट का लालच देकर किया दुष्कर्म 
जिस समय बच्ची न्यायालय में गवाही देने पहुंची, उसकी आयु चार वर्ष दो महीने थी. बच्ची ने न्यायालय में बोला कि अब्बा (अभियुक्त) बिस्कुट दिखाकर अपने साथ कमरे में ले गया. इसके बाद लेटाकर गलत हरकत की. चिल्लाने की आवाज सुनकर अम्मा कमरे में पहुंची थी. बच्ची जिसको अब्बा कहकर पुकारती थी, उसी अब्बा ने उसके साथ घिनौना क्राइम किया. एपीपी एके राय ने बताया कि मुद्दे के जाँच ऑफिसर विरेन्द्र एक्का, पीड़ित बच्ची, उसके माता-पिता समेत सात लोगों की गवाही न्यायालय में दर्ज की गई थी. वहीं बचाव पक्ष की ओर से तीन गवाहों को प्रस्तुत किया गया था.