woman set on fire : बिस्तर पर सो रही अपनी बीमार मां पर तड़के मिट्टी का ऑयल डालकर लगा दी आग

woman set on fire : बिस्तर पर सो रही अपनी बीमार मां पर तड़के मिट्टी का ऑयल डालकर लगा दी आग

लॉकडाउन ( COVID-19 Lockdown in India ) के चलते अपनी जॉब खो चुके निर्माणकार्य से जुड़े एक मेहनतकश ( labourer ) ने कथितरूप से बिस्तर पर सो रही अपनी बीमार मां ( mother ) पर बुधवार तड़के मिट्टी का ऑयल डालकर आग ( woman set on fire ) लगा दी.

पुलिस के मुताबिक कि हैदराबाद ( Hyderabad ) से 120 किलोमीटर दूर नलगोंडा के नरसिंगबाटला गांव निवासी तिरुमला लिंगास्वामी (45) ने कथित तौर पर अपनी बहनों को बताया कि वह अब उसकी ( मां ) देखभाल करने की स्थिति में नहीं है. घटना के बाद वह मौके से भाग गया व पुलिस ( Police ) उसकी तलाश कर रही है.


जानकारी के मुताबिक पांच वर्ष पहले बाथरूम में गिरने से टी शांताम्मा (65) के कूल्हे की हड्डी टूट गई थी, तब से उसे बेडरेस्ट (बिस्तर पर ही आराम) करने के लिए बोला गया था. लिंगास्वामी व उनकी तीन बहनों ने अपनी मां की देखभाल के लिए एक देखभाल करने वाले को कार्य पर रखा था, लेकिन लॉकडाउन के दौरान भुगतान ना किए जाने के चलते उसने हाल ही में कार्य पर आना बंद कर दिया.

पड़ोसियों ने शांताम्मा को कुछ खाना तो दे दिया लेकिन उसकी मदद करने से इसलिए मना कर दिया क्योंकि वह अपनी सफाई का ध्यान नहीं रख पा रही थी नलगोंडा ग्रामीण पुलिस स्टेशन के सब-इंस्पेक्टर राजेश्वर रेड्डी ने कहा, "उनकी बेटी जो पड़ोस के गांव में रहती है, उसकी साफ-सफाई के लिए सप्ताह में एक बार आती थी व उसे नहला देती थी, नहीं तो बुजुर्ग औरत घर में अकेली थी व उसकी कोई मदद नहीं करता था."

लॉकडाउन की घोषणा के बाद लिंगास्वामी कुछ दिनों तक एक निर्माण स्थल पर रहा, लेकिन कुछ दिनों के बाद गांव पहुंचने में सफल हो गया. घर पहुंचकर उसने देखा कि लॉकडाउन के कारण न तो देखभाल करने वाले व न ही उनकी बहनें अपनी मां के घर आ पाईं.


सूत्रों के अनुसार बिस्तर पर पड़ी अपनी बीमार मां को देख ना पाने व किसी अन्य देखभालकर्ता को नियुक्त करने में असमर्थ लिंगास्वामी अप्रैल के पहले हफ्ते में हैदराबाद लौटा व जिम्मेदारी से बचने के लिए अपनी बहनों से सभी सम्पर्क बंद कर दिए.

पुलिस ने बोला कि तेलंगाना सरकार द्वारा 5 मई को प्रतिबंधों में ढील देने के बाद लिंगास्वामी ने गांव में वापसी की व देखभाल करने वाले को मनाने की प्रयास की, जिसने कार्य पर आने से मना कर दिया.

तीन बहनों के बयान दर्ज करने के बाद पुलिस ने बोला कि लिंगास्वामी वित्तीय संकट से निपटने के लिए शांतम्मा पर घर बेचने का दबाव डाल रहा था. उनकी बहनों ने बताया कि उनके पास पैसे नहीं थे क्योंकि सभी पैसे लॉकडाउन के दौरान खर्च हो गए थे. उसने अपनी बहनों पर दबाव डाला कि वे अपनी मां को घर बेचने के लिए कहें.


एक पुलिस ऑफिसर ने बोला कि उनकी बहनों ने बोला कि शायद अपनी देखभाल करने में असमर्थ मां व उसके घर बेचने से मना करने से वह इस क्राइम को अंजाम देने के लिए आगे बढ़ा. हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि वह अपनी मां की देखभाल के लिए पैसे का उपयोग करना चाहता था या किसी अन्य कार्य के लिए.

एक ऑफिसर ने बोला पुलिस यह भी जाँच कर रही है कि क्या उसकी वैवाहिक समस्याओं के कारण तो उसने यह कदम नहीं उठाया क्योंकि उसकी पत्नी ने हाल ही में अपने दो वर्ष के बच्चे के साथ उसे छोड़ दिया. उसकी बहनों का दावा है कि लॉकडाउन के दौरान वह शराब का बहुत सेवन कर रहा था.