रेप केस में मऊ सांसद अतुल राय परआज होगा फैसला

रेप केस में मऊ सांसद अतुल राय परआज होगा फैसला

मऊ जिले के घोसी लोकसभा 2019 के बीएसपी सांसद अतुल राय पर लड़की के साथ दुराचार के मुद्दे में आज 6 अगस्त को वाराणसी न्यायालय में निर्णय आने वाला है. जिसमें उनके समर्थकों में बैचेनी बढ़ गई है. इस वजह से सांसद के मऊ के मुख्यालय बलिया मोड़ स्थित कार्यालय पर बिल्कुल सन्नाटा पसरा है.

सपा-बसपा गठबंधन से जीते थे अतुल राय

स्थानीय निवासी विनय ज्ञान चंद्र ने बताया कि बीएसपी से सांसद अतुल राय 2019 में घोसी लोकसभा से समाजवादी पार्टी बीएसपी गठबंधन की उपज है. जब से यह जीते हैं यहां इनका मुख्यालय पर एक कैंप कार्यालय है. उनके प्रतिनिधि गोपाल राय हैं. वही अतुल राय की गैरमौजूदगी में क्षेत्रीय मुद्दों एवं समस्याओं की सुनवाई करते हैं. यथासंभव उनकी सहायता भी करते हैं. जहां इनके कार्यालय पर सुबह से ही अपनी समस्याओं को लेकर आने वालों का तांता लग जाता है.

बसपा के कार्यालय में अतुल राय का यह बैनर भी लगा हुआ है.

आज पसरा है सन्नाटा

आज अभी कार्यालय पर सन्नाटा पसरा हुआ है. चर्चा है कि जब से अतुल राय पर न्यायालय ने अपने निर्णय को सुरक्षित रखा है. तब से ही कार्यकर्ता निर्णय को लेकर बैचेन है. उनका मानना है कि कहीं सजा न हो जाए. सजा हुई तो अतुल राय की सांसदी भी चली जाएगी. आज जब उनके मुख्यालय का दौरा किया गया तो वहां खाली कुर्सियां पड़ी हुई दिखाई पड़ी. जहां रोज भीड़ लगती थी. वहां कोई नहीं था.

रेप का आरोप लगाने वाली लड़की ने कर लिया था आत्मदाह ​​​​​​​

उनके समर्थकों में यह विश्वास हो चला है कि निर्णय उनके उल्टा होगा. क्योंकि आरोप लगाने वाली लड़की ने न्याय मांगने के लिए और अपनी बात सुनवाई के वास्ते दिल्ली में उच्चतम न्यायालय के सामने आत्मदाह का कोशिश किया था. जिसकी उपचार के दौरान मृत्यु हो गई थी. जिसमें मरने से पहले लड़की ने अतुल राय के विरूद्ध अपना बयान दे दिया था. इन्हीं आशंकाओं के चलते उनके समर्थकों में बड़ी ही मायूसी है कि लड़की के अंतिम बयान के आधार पर न्यायालय उनके विरूद्ध निर्णय दे सकती है. जिससे कि उनकी लोकसभा की कुर्सी भी खतरे में पड़ जाएगी.

इसी कोठी में अतुल राय का कार्यालय बना हुआ है<span class='red'>.</span>

इसी कोठी में अतुल राय का कार्यालय बना हुआ है.