शनिवार से मेडिकल काॅलेजों में ई-ओपीडी होगी शुरू, अब घर बैठे मिलेगा इलाज

शनिवार से मेडिकल काॅलेजों में ई-ओपीडी होगी शुरू, अब घर बैठे मिलेगा इलाज

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में सरकार कोरोना वायरस (Corona Virus) के अलावा अन्य बीमारियों के इलाज के लिए अब नई व्यवस्था करने जा रही है। ऐसे सभी जरूरतमन्द रोगियों के लिए एम्बुलेंस की उपलब्धता के साथ ही आगामी शनिवार से प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में ई-ओपीडी (E-OPD) की व्यवस्था लागू की जा रही है। इसके अलावा उन्होंने प्रत्येक पुलिस लाइन तथा पीएसी अस्पताल में दो ऑक्सीजन कॉन्सेन्ट्रेटर (Oxygen Concentrator) उपलब्ध कराने को कहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज अधिकारियों की बैठक में कहा कि ऑक्सीजन आडिट की रिपोर्ट के आधार पर ऑक्सीजन की अधिकतम उपयोगिता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने ऑक्सीजन टैंकरों की संख्या में वृद्धि किये जाने पर बल देते हुए कहा कि क्रायोजेनिक टैंकरों के सम्बन्ध में ग्लोबल टेण्डर जारी करने की प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ायी जाए।

ऐसे अस्पतालों के खिलाफ की जाए सख्त कार्रवाई
मुख्यमंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ाने के लिए सभी जरूरी कदम उठाये जा रहे हैं। सीएचसी स्तर से लेकर बड़े चिकित्सालयों तक ऑक्सीजन कॉन्सेन्ट्रेटर उपलब्ध कराए गये हैं। जिलों की जरूरतों के अनुसार और ऑक्सीजन कॉन्सेन्ट्रेटर खरीदे जाएं। मुख्यमंत्री योगी ने प्रदेश के सभी अस्पतालों की चिकित्सा व्यवस्था को प्रभावी और सुदृढ़ किये जाने के निर्देश देते हुए कहा कि निजी अस्पतालों की व्यवस्था को बेहतर किया जाए। कोविड मरीजों के इलाज में शिथिलता बरतने अथवा शोषण करने वाले निजी अस्पतालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए।


सीएम योगी ने कहा कि नॉन-कोविड रोगियों के उपचार की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। गम्भीर रोग से ग्रसित मरीजों की आपात आवश्यकता के लिए समुचित चिकित्सा प्रबन्ध किये जाएं। हर जिले में न्यूनतम एक अस्पताल ऐसे मरीजों के लिए डेडिकेट किया जाए। महिलाओं तथा बच्चों के उपचार के लिए जिला महिला चिकित्सालय में सभी प्रबन्ध किये जाएं। ऐसे सभी जरूरतमन्द रोगियों के लिए एम्बुलेंस की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाए। आगामी शनिवार से प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में ई-ओपीडी की व्यवस्था लागू की जा रही है।

ICCC की व्यवस्था को प्रभावी बनाने पर दिया जोर
मुख्यमंत्री ने प्रत्येक जनपद में इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर (ICCC) की व्यवस्था को प्रभावी बनाये रखने पर बल देते हुए कहा कि जनपद की आबादी के अनुसार आईसीसीसी में फोन लाइन्स की संख्या बढ़ायी जाए। आईसीसीसी में विभिन्न कार्यों यथा टेलीकन्सल्टेशन, होम आइसोलेशन बेड की उपलब्धता आदि सुनिश्चित करने के लिए अलग-अलग प्रभारी नियुक्त किये जाएं।

प्रत्येक जनपद में सभी वेंटिलेटर्स और आक्सीजन कन्संट्रेटर्स को कार्यशील रखने के लिए एनेस्थेटिक्स एवं टेक्नीशियन्स की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। कोविड अस्पताल में भर्ती मरीज के स्वास्थ्य एवं उपचार की जानकारी प्रतिदिन कम से कम एक बार उसके परिजनों को उपलब्ध कराने के लिए एक चिकित्सक नामित किया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में आंशिक कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) को प्रभावी ढंग से लागू करें। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी स्थान पर भीड़भाड़ न हो। कोविड गाइडलाइन्स का पालन कराने के लिए प्रभावी प्रवर्तन कार्यवाही की जाए। जरूरतमन्द लोगों के लिए लखनऊ व प्रयागराज में कम्युनिटी किचन (Community Kitchen) शुरू हो गये हैं। इस व्यवस्था को सभी जनपदों में संचालित किया जाए। ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित क्वारण्टीन सेण्टरों में भोजन, पेयजल, स्वच्छता, सुरक्षा की समुचित व्यवस्था रहनी चाहिए।


सीएम योगी का निर्देश, कोरोना संक्रमण को लेकर अभी भी रहें गंभीर

सीएम योगी का निर्देश, कोरोना संक्रमण को लेकर अभी भी रहें गंभीर

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण की गति थमने के बाद भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसको लेकर बेहद गंभीर है। कोरोना वायरस की समीक्षा बैठक में रविवार को अपने सरकारी आवास पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-09 को जरा सा भी शिथिल न पडऩे का निर्देश दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति हर दिन के साथ और नियंत्रित होती जा रही है। वायरस अब भले ही कमजोर पड़ चुका है, लेकिन संक्रमण का खतरा अब भी बना हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोविड संक्रमण की स्थिति नियंत्रण में है। धीरे-धीरे स्थिति सामान्य हो रही है, लेकिन हमें यह समझना होगा कि वायरस कमजोर हुआ है, खत्म नहीं हुआ। अभी तो यहां पर संक्रमण कम हुआ है, पर जरा सी लापरवाही संक्रमण को फिर बाधा सकती है। उन्होंने कहा कि आप सभी लोग देखें कि सभी लोग मास्क, सैनिटाइजेशन, सोशल डिस्टेंसिंग जैसे कोविड बचाव के व्यवहार को जीवनशैली में शामिल करें। इतना ही नहीं बहुत जरूरी हो तभी घर से बाहर निकलें। भीड़ से बचें। इस सबको लेकर तो पुलिस बल सक्रिय रहे।


सामान्य है ऑक्सीजन की मांग व आपूर्ति

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बेहतर होती स्थिति के बीच लगातार प्रयासों से ऑक्सीजन की मांग और आपूर्ति सामान्य हो गई है। इसके साथ ही, भविष्य के दृष्टिगत सभी भी तरह की चुनौतियों के लिए तैयारी की जा रही है। ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना का कार्य तेजी से चल रहा है। कुल स्वीकृत 427 ऑक्सीजन प्लांट में से 87 प्लांट क्रियाशील हो चुके हैं। प्लांट स्थापना कार्यों की सतत मॉनीटरिंग की जाए।


15 के बाद भी जारी रखें गेंहूं खरीद

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों के हित संरक्षण को सुनिश्चित करते हुए गेहूं खरीद 15 जून के बाद भी जारी रखने की जरूरत है। जब तक किसान आएंगे, गेहूं खरीद जारी रहेगी। कोरोना महामारी के बीच इस वर्ष गेहूं खरीद में उतर प्रदेश ने नया कीॢतमान रचा है। 10 लाख से अधिक किसानों को सीधा लाभ हुआ है। इसके साथ ही सभी जगह पर 72 घंटे के भीतर भुगतान भी सुनिश्चित कराया जा रहा है। अब तो इन व्यवस्थाओं की हर दिन मॉनीटरिंग की जाएं।


हाईस्कूल व इंटर में नहीं जारी होगा मेरिट लिस्ट

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोविड महामारी के कारण इस बार माध्यमिक शिक्षा परिषद के 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं रद कर दी गई हैं। स्थिति सामान्य होने पर इन बच्चों को अंक सुधार का अवसर भी दिया जाए। कोई मेरिट न जारी किया जाए। परीक्षाफल तैयार करने की विस्तृत नियमावली से बच्चों/अभिभावकों को यथाशीघ्र अवगत करा दिया जाए। इसके साथ ही प्राविधिक शिक्षण संस्थानों में सुविधानुसार ऑनलाईन परीक्षा कराई जानी चाहिए। उच्च शिक्षण संस्थानों में 31 अगस्त तक परीक्षाफल जारी कर सितंबर के दूसरे पखवारे से नवीन शैक्षणिक सत्र की शुरुआत की जानी चाहिए। संबंधित विभाग छात्रों को प्रोन्नत करने के फार्मूले और परीक्षा आयोजन की विधि सहित सभी नियमों के बारे में विस्तृत जानकारी जल्द से जल्द जारी करें।