जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के साथ ही PM मोदी के निशानेे पर रहा विपक्ष

जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के साथ ही PM मोदी के निशानेे पर रहा विपक्ष

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार को ग्रेटर नोएडा के जेवर में एशिया के सबसे बड़े और दुनिया के चौथे सबसे बड़े एयरपोर्ट की नींव रखी। इस मौके पर पीएम मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि जेवर एयरपोर्ट कनेक्टिविटी को आसान बनाएगा। यह उत्‍तर प्रदेश को अंतरराष्ट्रीय बाजारों से जोड़ने का काम करेगा। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में केंद्र और राज्‍यों की पिछली सरकारों पर भी निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि आजादी के बाद से यूपी की छवि नकारात्‍मक बनाकर रखी गई।

कुछ दलों ने केवल परिवार के विकास पर दिया ध्‍यान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि हमारे देश में कुछ राजनीतिक दलों ने हमेशा अपने स्वार्थ को सर्वोपरि रखा है। इन लोगों की सोच अपना स्वार्थ, सिर्फ अपना खुद का और परिवार के विकास पर ही ध्‍यान दिया है जबकि हम राष्ट्र प्रथम की भावना पर चलते हैं। बुनियादी ढांचे का विकास हमारे लिए राजनीति का नहीं वरन राष्ट्रनीति का हिस्सा है। हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि परियोजनाएं अटकें या भटकें नहीं। हमारी कोशिश है कि परियोजनाओं का काम तय समय के भीतर पूरा किया जाए।

पूर्व की सपा सरकार पर निशाना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूपी में पूर्व की अखिलेश यादव सरकार पर भी निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि उत्‍तर प्रदेश में पहले जो सरकार थी उसने तो बकायदा चिठ्ठी लिखकर तब की केंद्र सरकार को कह दिया था कि इस परियोजना को बंद कर दिया जाए लेकिन आज डबल इंजन सरकार की ताकत से हम उसी एयरपोर्ट के शिलान्यास के साक्षी बन रहे हैं। पीएम मोदी ने यह भी कहा कि दो दशक पहले यूपी की भाजपा सरकार ने जेवर एयरपोर्ट प्रोजेक्ट का सपना देखा था। उसके बाद ये एयरपोर्ट अनेक वर्षों तक दिल्ली और लखनऊ में जो सरकारें रहीं उनकी खींचतान में उलझा रहा।

पूर्व की सरकारों ने दिखाए झूठे सपने

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पहले की सरकारों ने उत्तर प्रदेश को अभाव और अंधकार में बनाए रखा। पहले की सरकारों ने जिस उत्तर प्रदेश को हमेशा झूठे सपने दिखाए। आज उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय ही नहीं, अंतर्राष्ट्रीय छाप छोड़ रहा है। आजादी के सात दशक बाद पहली बार उत्तर प्रदेश को वो मिलना शुरु हुआ है जिसका वह हमेशा से हकदार रहा है। डबल इंजन की सरकार की कोशिशों से आज यूपी देश के सबसे कनेक्टेड क्षेत्र में बदल रहा है। अब तो दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे भी तैयार होने वाला है।

यूपी छोड़ रहा अंतरराष्ट्रीय छाप

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आजादी के बाद उत्‍तर प्रदेश को ताने सुनने के लिए मजबूर कर दिया गया था। कभी गरीबी, कभी घोटालों, कभी खराब सड़कों तो कभी माफियाओं के ताने सुनने में आते थे। पहले दशकों तक परियोजनाएं अटकी रहती थीं और दूसरों पर इसका ठीकरा फोड़ा जाता था। मौजूदा वक्‍त में हमारी डबल इंजन की सरकार के कार्यकाल में यूपी अंतरराष्ट्रीय छाप छोड़ रहा है। आज डबल इंजन सरकार की ही देन है कि अकेले यूपी में ही पिछले वर्षों में आठ एयरपोर्ट से फ्लाइट शुरू हो चुकी हैं जबकि कहीं पर काम चल रहा है। 


सीएम योगी की सरकारी कर्मचारियों और वकीलों को बड़ी सौगात, सब्सिडी पर मिलेंगे घर, रहेगी ये शर्त

सीएम योगी की सरकारी कर्मचारियों और वकीलों को बड़ी सौगात, सब्सिडी पर मिलेंगे घर, रहेगी ये शर्त

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले योगी सरकार ने प्रदेश के ग्रुप सी और डी के लाखों कर्मियों और अधिवक्ताओं के हित में बड़ा फैसला लिया है. प्रदेश सरकार इन कर्मचारियों को सब्सिडी पर मकान उपलब्ध कराने जा रही है. इन मकानों को लेने वालों को भूमि का मूल्य महज एक रुपए अदा करना होगा.

दरअसल, छूट पर मकान लेने वालों को लिए शर्त रखी जाएगी कि वे इस भूमि की 10 साल तक बिक्री नहीं कर पाएंगे. इस योजना का प्रारूप तैयार कर लिया गया है. उच्चाधिकारियों से मंजूरी मिलने के बाद इस प्रस्ताव को कैबिनेट से पास कराया जाएगा. कैबिनेट से प्रस्ताव पास होने के बाद कर्मचारियों को योजना का लाभ मिल सकेगा.

मकान के लिए कर्मचारियों को नहीं होगी परेशानी

यूपी में अभी तक ग्रुप सी और डी के साथ ही अधिवक्ताओं को छूट पर मकान देने की व्यवस्था नहीं है. ग्रुप सी और डी के कर्मी और ऐसे अधिवक्ता जिनकी अधिक आय नहीं है, उन्हें मकान लेने में परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इसीलिए इनको छूट पर मकान देने पर विचार-विमर्श के बाद प्रारूप तैयार किया गया है.

अधिवक्ताओं के लिए प्रयागराज में भूमि

हालांकि, अभी तक मकान देने की प्रक्रिया को सार्वजनिक नहीं किया गया है, जल्द ही इस संबंध में सूचना उपलब्ध करा दी जाएगी. पात्रों को मकान देने के लिए संबंधित विभाग ही नोडल होगा. अधिवक्ताओं के लिए प्रयागराज शहर में भूमि चिह्नित की जाएगी, ये जगह कहां चिंन्हित की जाएगी इसका अभी तक निर्धारण नहीं किया गया है.