ग्रेटरनोएडा के यशपाल भाटी को मिलेगा पुलिस बहादुरी पदक, पढ़े

ग्रेटरनोएडा के यशपाल भाटी को मिलेगा  पुलिस बहादुरी पदक, पढ़े

ग्रेटरनोएडा के डाबरा गांव के रहने वाले यशपाल भाटी को राष्ट्रपति का पुलिस बहादुरी पदक (गैलेंट्री अवॉर्ड) मिलेगा. गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर राष्ट्रपति उन्हें पुरस्कृत करेंगे. यशपाल भाटी दिल्ली पुलिस में सब-इंस्पेक्टर के पद पर स्पेशल सेल में तैनात हैं. दिल्ली पुलिस के साथ-साथ उन्होंने ग्रेटर नोएडा का भी नाम रोशन किया है.

इस कारण मिल रहा अवार्ड

उन्होंने 25 नवंबर, 2018 को जान की बाजी लगाते हुए जम्मू और कश्मीर के श्रीनगर में बड़ा आत्मघाती हमला करने की फिराक में जुटे तीन दुर्दात आतंकवादियों को हिरासत में लिया था.दिल्ली स्पेशल सेल को आतंकवादियों की मंशा की भनक लग गई.

यशपाल के नेतृत्‍व में बनी टीम

इसके बाद डीसीपी प्रमोद कुशवाहा, एसीपी ललित मोहन नेगी और दिल भूषण के नेतृत्व में टीम बनी. ऑपरेशन के लीड की जिम्मेदारी यशपाल भाटी को सौंपी गई. दिल्ली से यशपाल भाटी के नेतृत्व में सुनील, सुंदर गौतम, गुलाब सिंह, ब्रजपाल ठाकुर और विनोद बडोला आदि पुलिस कर्मियों का दल श्रीनगर पहुंचा.

चंद सेकेंड में मचने वाली थी तबाही

आतंकी श्रीनगर स्थित पर्यटन सूचना केन्द्र को बम से उड़ाने के लिए सेंटर के करीब पहुंच चुके थे व ग्रेनेड की पिन खोलकर उसे सेंटर की इमारत पर फेंकने ही वाले थे कि यशपाल व उनकी टीम के जवान अदम्य साहस का परिचय देते हुए आतंकवादियों से भिड़ गए. यशपाल ने जान की परवाह किए बिना आतंकवादी के हाथ में पकड़े ग्रेनेड को दबोचे रखा व उसके मंसूबों को नाकाम कर दिया.

तीन आतंकवादी को पकड़ने में मिली सफलता

जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ हुए इस ऑपरेशन में तीन आतंकवादी ताहिर अली खान, हारिस मुमताज और आसिफ सुहैल को पकड़ा. पूछताछ के बाद उनकी निशानदेही पर सेना के साथ मिलकर सात आतंकवादियों को व हिरासत में लिया गया. इसके अतिरिक्त चार बंकर ध्वस्त किए. यशपाल भाटी 1998 में दिल्ली पुलिस में सिपाही के रूप में भर्ती हुए थे.