DGP बोले- उन्नाव में बच्चियों की मौत के हर पहलू की हो रही जांच, शरीर पर नहीं मिले चोट के निशान

DGP बोले- उन्नाव में बच्चियों की मौत के हर पहलू की हो रही जांच, शरीर पर नहीं मिले चोट के निशान

उत्तर प्रदेश के डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने उन्नाव में दो किशोरियों की संदिग्ध हालात में हुई मौत के मामले में वरिष्ठ अधिकारियों को हर पहलू पर जांच करने का निर्देश दिया है। डीजीपी ने बताया कि स्थानीय पुलिस छह टीमों का गठन कर जांच कर रही है। एडीजी लखनऊ जोन व आइजी लखनऊ रेंज को पर्यवेक्षण की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने बताया कि एक बच्ची का उपचार कानपुर के अस्पताल में चल रहा है और डॉक्टरों ने इसे सस्पेक्टेड केस आफ पॉइजनिंग बताया है। जिन दो किशोरियों की मृत्यु हुई है, उनके शवों का पोस्टमार्टम डॉक्टरों के पैनल से कराया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। उनके शरीर पर मृत्यु से पूर्व की कोई चोट तथा कोई बाहरी चोट नहीं पाई गई है। डॉक्टरों ने विसरा सुरक्षित किया है। फोरेंसिक विशेषज्ञों के जरिये विसरा का अन्वेषण कराया जा रहा है। घटना की जांच में भी फोरेंसिक विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है। सभी संभावनाओं की जांच कराई जा रही है।


वहीं, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आइजी रेंज लखनऊ लक्ष्मी सिंह ने दावा किया है कि दोनों को एक तरह का जहरीला पदार्थ दिया गया था। जहर आशंका पर विसरा को केमिकल एनालिसिस (रासायनिक विश्लेषण) के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा गया है। दोनों के शरीर पर कहीं चोट के निशान नहीं मिले हैं। गंभीर हालत में मिली तीसरी किशोरी का इलाज कानपुर के एक निजी अस्पताल में चल रहा है, उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। उसका इलाज मुख्यमंत्री कोष से कराने की घोषणा की गई है। उधर, स्वजन की तहरीर पर अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 302 हत्या व 291 साक्ष्य छिपाने की रिपोर्ट दर्ज की है। 

उन्नाव जिले के असोहा क्षेत्र के एक गांव में बुधवार रात खेत में दो किशोरियों के शव के साथ एक किशोरी अचेत अवस्था में मिली थी। बुधवार रात से गुरुवार तक स्वजन के बयान बदलते रहे। कल तक हाथ-पैर बंधे होने की बात कह रहे थे, अब इन्कार कर रहे। इसके अलावा गांव के कई लोगों को हिरासत में लेकर घटना के संबंध में जानकारी ली गई। एक किशोरी के पिता को कुछ देर हिरासत में रखे जाने पर सपाइयों ने प्रदर्शन किया। इसके बाद उन्हें छोड़ दिया गया। 


यूपी: साप्ताहिक बंदी के दौरान इन उद्योगों को सरकार ने दी राहत, पहले से तय शादियों में भी शर्तों के साथ छूट

यूपी: साप्ताहिक बंदी के दौरान इन उद्योगों को सरकार ने दी राहत, पहले से तय शादियों में भी शर्तों के साथ छूट

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया है कि 35 घंटे के कोरोना कर्फ्यू के दौरान पहले से कोरोना जंग में सीधा संबंध रखने वाली औद्योगिक गतिविधियों पर रोक नहीं लगेगी। मतलब फर्मासिस्ट, सैनिटाइजर मेकिंग और इससे जुड़े अन्य उद्योगों के मजदूरों को आने-जाने की छूट रहेगी। वहीं, पहले से तय शादियों में भी सरकार ने शर्तों के साथ छूट दी है।

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि शादियों में खुले स्थान पर 100 लोग और बंद स्थान पर 50 लोगों को प्रतिबंधों और कोविड प्रोटोकाल के साथ आयोजन में शामिल होने की अनुमति दी गई है।

सभी तरह की परीक्षाएं जो रविवार को आयोजित हैं उनमें छात्रों को उनके आईकार्ड या प्रवेश पत्र के आधार पर परीक्षा केंद्रों तक जाने की छूट दी गई है। पब्लिक ट्रांसपोर्ट भी आधी क्षमता के साथ संचालित होगा। अंतिम संस्कार में अधिकतम 20 लोगों को शामिल होने की अनुमति रहेगी।

बता दें कि शुक्रवार को यूपी में 27,426 कोरोना के नए संक्रमित पाए गए हैं। वहीं, लखनऊ में रिकॉर्ड 6598 नए मरीज मिले हैं। जिसको देखते हुए प्रदेश में शनिवार रात आठ बजे से 35 घंटे का कर्फ्यू लगाया गया है। इस दौरान सभी जिलों में अग्निशमन विभाग स्वच्छता व सफाई का विशेष अभियान चलाकर सैनिटाइजेशन व फॉगिंग कराएगाा। यही नहीं, अगले आदेश तक पूरे प्रदेश में अब हर रविवार को साप्ताहिक बंदी रहेगी। जिन जिलों में कर्फ्यू लगाया गया है वह जारी रहेगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-11 के साथ वर्चुअल बैठक में मास्क न पहनने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। बिना मास्क बाहर निकलने पर पहली बार एक हजार रुपये जुर्माना लिया जाएगा। दूसरी बार 10 गुना ज्यादा जुर्माना देना होगा। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। यही नहीं, शत प्रतिशत लोगों को मास्क पहनना व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना सुनिश्चित करना होगा। स्थानीय स्तर पर इसकी जिम्मेदारी थानेदारों की होगी। वहीं, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी और प्रशासनिक अफसर इसके लिए चेकिंग अभियान चलाएंगे।


CM योगी ने यूपी में 10 नए ऑक्सीजन प्लांट लगाने का निर्देश दिया, 6 करोड़ से ज्यादा खर्च होंगे       यूपी: साप्ताहिक बंदी के दौरान इन उद्योगों को सरकार ने दी राहत, पहले से तय शादियों में भी शर्तों के साथ छूट       HC के चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने की CM योगी की तारीफ, कहा...       उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर, बीते 24 घंटे में 120 की मौत, 27357 नए संक्रमित       विटामिन सी से भरपूर चीजों को करें डाइट में शामिल और रहें इंफेक्शन से दूर       इंफेक्शन से रहना हो दूर या पेट दर्द की समस्या से चाहिए छुटकारा, हल्दी है इन सबका कारगर इलाज       अच्छे खानपान के साथ इन चीजों का भी रखेंगे ध्यान तो बने रहेंगे लंबे समय तक हेल्दी       घर पर आसानी से बनाएं ये 5 अलग-अलग किस्म की चाय       कोरोना वायरस में हल्के, मामूली और गंभीर लक्षणों को कैसे पहचानें?       किसी भी उम्र में हो सकता है डायबिटीज, जानें इसकी वजहें, लक्षण, बचाव व उपचार       वैज्ञानिक ने की पुष्टि, सूंघने और स्वाद के भाव का खोना है COVID-19 का शुरुआती लक्षण       इन चीजों के सेवन से शरीर में नहीं होगी पानी की कमी, दूर रहेंगी बीमारियां       अस्थमा के मरीज कोरोना वायरस से बचने के लिए ये टिप्स अपनाएं       कहीं आप भी तो नहीं कर रहे मास्क पहनने में ये 5 ग़लतियां?       बढ़ते वजन से हैं परेशान तो ब्रेकफास्ट में इन चीजों को जरूर जोड़ें       एक्सपर्ट से जानें क्या होता है पैनिक डिसऑर्डर, इसके लक्षण बचाव एवं उपचार के बारे में       लगातार मास्क पहनने से त्वचा में होने वाली परेशानियों को ऐसे करें दूर       इस तरह बनाएं अपना डाइट प्लान, आपका वजन भी रहेगा कंट्रोल       पुरानी बीमारियों से छुटकारा के लिए ड्रैगन फ्रूट खाएं, इसके ये हैं फायदे       'शांति' बन घर-घर में मशहूर हुई थीं मंदिरा बेदी, अपनी प्रेग्नेंसी की वजह से हमेशा रहीं चर्चा में