सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के कारण हुए लॉकडाउन को लेकर कही ये बात

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के कारण हुए लॉकडाउन को लेकर कही ये बात

 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शनिवार को अपने सरकारी आवास पर जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा का शुरुआत किया. इस मौका पर उन्होंने कोविड-19 की जाँच के लिए नवसृजित मंडलीय प्रयोगशालाओं का लोकार्पण भी किया.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने दुनिया जनसंख्या दिवस पर प्रोग्राम का शुरुआत करने के बाद सभा को संबोधित किया. इस मौका पर उन्होंने बोला कि आज के दौर में हम लोग बेहद चुनौती झेल रहे हैं. कोविड-19 संक्रमण के साथ ही बरसात के मौसम में संचारी रोग भी बढ़ने की आसार है. कोविड-19 के संक्रमण के प्रचार पर रोक लगाने के साथ हमको अब बरसात जनित यानी संचारी रोग को रोकना है. कोविड-19 के कारण ही हमने प्रदेश में तीन दिन लॉकडाउन का कदम उठाया है. इसके लिए भी हमने 11 और 12 जुलाई का समय लिया, इसमें सेकेंड सेटर डे और संडे को अवकाश रहता है. हम बिना अपने कार्य को प्रभावित किए इन दोनों दिन का समय सैनेटाइजेशन तथा बचाव के अन्य साधन अपनाने में करेंगे.

उन्होंने बोला कि आज के दौर में हमको स्वस्थ समाज की स्थापना के लिए हमको नए स्तर से कोशिश करने की आवश्यकता है. पीएम नरेंद्र मोदी के आदेश पर देश और प्रदेश में अब काल,समय और हालात के अनुसार वरीयता तय की जा रही है. प्रदेश में हमने 18 मंडल में कोविड-19 की सुविधा प्रदान की है. भविष्य में हम हर जनपद में ट्रू नेट मशीन लगाकर जनपद वार कोविड का परीक्षण करेंगे.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने बोला कि प्रदेश में शिशु मौत दर को कम करने में हम पास रहे हैं. दुनिया जनसंख्या दिवस पर हमारा कोशिश प्रदेश की सकल जन्मदर को राष्ट्रीय स्तर से कम करने का है. प्रदेश में हमने शिशुओं के स्वास्थ्य के लिए अलग से आधुनिक व्यवस्था की है. जिला तथा मंडल स्तर पर अस्पतालों में अलग से ओपीडी स्थापित की गई है. माताओं के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखा जा रहा है. समय-समय पर बच्चों का टीकाकरण अभियान भी चलाया जा रहा है.