एक्सीडेंट के बाद कितना सुरक्षित है आम आदमी, पढ़े इस खबर को और जाने

एक्सीडेंट के बाद कितना सुरक्षित है आम आदमी, पढ़े इस खबर को और जाने

हाल ही में मिली समाचार के अनुसार नेशनल हाईवे पर ओमेक्स सिटी के सामने सड़क पार करते समय महिला को तेज गति ट्रक ने टक्कर मार दी, जिससे महिला घायल हो गई व वह सड़क किनारे पड़ी हुई तड़पती रही। उसे अस्पताल पहुंचाने की स्थान लोग रुककर वीडियो बनाने लगे तो उसी समय वहां पहुंचा कपड़ा व्यापारी पुलिस कंट्रोल रूम में फोन करने लगा, लेकिन कंट्रोल रूम का बहुत ज्यादा देर तक फोन नहीं मिला। जिससे वह घायल महिला को लेकर व्यक्तिगत अस्पताल पहुंचा तो वहां पुलिस केस बताकर इलाज करने से इन्कार कर दिया गया।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इसके बाद महिला को नागरिक अस्पताल में लाया गया, जहां प्राथमिक इलाज के बाद महिला को रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया। उसे पीजीआई लेकर जाने के लिए आधे घंटे तक एंबुलेंस नहीं मिली व वहां खड़ी एंबुलेंस में ऑयल समाप्त था। जब आधे घंटे बाद एंबुलेंस वहां से उसे पीजीआई लेकर चली गई तो उसकी रास्ते में मृत्यु हो गई। पुलिस ने उसका पोस्टमार्टम कराकर मृत शरीर परिजनों को सौंप दिया।

एक रिपोर्ट में पता चला है कि लेकिन वहां नागरिक अस्पताल में खड़ी एंबुलेंस में ऑयल नहीं था व दूसरी एंबुलेंस लगभग आधा घंटे बाद मिली। उसके बाद ही महिला को रेफर किया जा सका, लेकिन उसने रास्ते में दम तोड़ दिया। महिला के बैग में मिले मोबाइल के सहारे परिजनों से बात करने पर उसकी शनाख्त हो सकी। महिला पानीपत की रहने वाली पुष्पा (32) थी जो मजदूरी करती थी व वह सोमवार को ओमेक्स सिटी में एक अस्पताल में सफाई करने के लिए आई थी। वहां सड़क पार करते हुए ही वह ट्रक की चपेट में आ गई। इस मुद्दे में परिजनों ने मुरथल थाने में अज्ञात ट्रक चालक के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया है। वहीं पुलिस ने महिला के मृत शरीर का पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया है।

जांच की जा रही है:सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हम आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि अस्पताल से महिला की मृत्यु होने की सूचना मिली थी। महिला ओमेक्स सिटी स्थित अस्पताल में सफाई का कार्य करने आई थी। मृत शरीर का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया। वाहन चालक के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया गया है, जिसकी जाँच की जा रही है।