फिर खुलने जा रहे टोक्यो ओलंपिक में खेलने के बड़े मौके, जाने

फिर खुलने जा रहे  टोक्यो ओलंपिक में खेलने के बड़े मौके, जाने

कुश्ती में ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार व साक्षी मलिक के लिए टोक्यो ओलंपिक में खेलने के एक बार फिर बड़े मौका खुलने जा रहे हैं. कुश्ती की सर्वोच्च अंतर्राष्ट्रीय संस्था यूनाइटेड वल्र्ड रेसलिंग (यूडब्लूडब्लू) ने टोक्यो ओलंपिक के क्वालिफायर अगले साल कराने की तैयारी कर ली है.

हालांकि भारतीय कुश्ती संघ को अब तक यूडब्लूडब्लू से इस बारे में कोई आधिकारिक सूचना नहीं मिली है, लेकिन कुश्ती संघ का मानना है कि सारे एक वर्ष तक ओलंपिक क्वालिफायर बढने की स्थिति में उनके पास टीम चयन के लिए दोबारा ट्रायल कराने के अतिरिक्त कोई चारा नहीं बचेगा. कुश्ती संघ का बोलना है कि एक वर्ष क्या इससे कुछ कम अवधि के लिए भी दोबारा ट्रायल क राने होंगे.
लंबे समय तक नहीं बरकरार रखी जा सकती टीम
यूडब्लूडब्लू अध्यक्ष नेनाद लालोविच की प्रतिनिधित्व में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शनिवार को ब्यूरो सदस्यों  की मीटिंग हुई. विदेशी मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक मीटिंग में ओलंपिक क्वालिफायर जिन राष्ट्रों को दिए गए थे वहीं उन्हीं तारीखों में अगले साल कराए जाएंगे. कुश्ती संघ के एक ऑफिसर के मुताबिक कुश्ती में इतने लंबे समय तक के लिए टीम बरकरार रखना है कठिन है.  ओलंपिक क्वालिफायर लंबा खिचने की स्थिति में दोबारा ट्रायल के अतिरिक्त कोई चारा नहीं बचेगा. कुश्ती में दो एशियाई व दुनिया ओलंपिक क्वालिफायर होने हैं.

जितेंदर व सोनम ने बना रखी है टीम में जगह
सुशील कुमार के वजन वर्ग 74 व साक्षी मलिक के 62 किलो वजन में जितेंदर व सोनम ने टीम में स्थान बना रखी है. जितेंदर व सोनम के ओलंपिक क्वालिफायर में कोटा हासिल करने पर सुशील, साक्षी की टोक्यो के लिए उम्मीदें समाप्त हो जातीं, लेकिन अब इन दोनों के  साथ नर सिंह यादव के फिर ट्रायल में खेलने के  अवसर बन पड़े हैं. पुरुष फ्रीस्टाइल वर्ग में रवि कुमार (57) बजरंग (65) व दीपक पूनिया (86) के अतिरिक्त स्त्रियों में विनेश (53 किलो) में ओलंपिक टिकट हासिल कर रखा है. कुश्ती में पुरुष फ्रीस्टाइल में तीन स्त्रियों में पांच व ग्रीको रोमन में छह ओलंपिक कोटा पर भारतीय पहलवानों को दांव लगाना है.