वाडा को लिखे लेटर में एनडीटीएल की ओर से बोली गई यह बड़ी बात

 वाडा को लिखे लेटर में एनडीटीएल की ओर से बोली गई यह बड़ी बात

हाल ही में प्रतिबंधित नेशनल डोप टेस्ट लैबोरेटरी (एनडीटीएल) ने वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी (वाडा) की ओर से उठाई गई 47 में से 45 शिकायतें व आपित्तयों को दूर की गई है। इन आपित्तयों को दूर करने के बाद प्रयोगशाला ने वाडा से प्रतिबंध उठाने की गुहार लगाई है। वाडा को लिखे लेटर में एनडीटीएल की ओर से बोला गया है कि आइसोटोप रेश्यो मॉस स्पेक्ट्रोमेट्री (आईआरएमएस) की दो आपत्तियों को छोड़ सभी को दूर कर लिया गया है। जंहा प्रयोगशाला ने वाडा टीम को परीक्षण के लिए आमंत्रित किया है। वहीं परीक्षण के आधार पर उसने प्रयोगशाला को मान्यता देकर संचालन बहाल करने को बोला है। वाडा की टीम जनवरी माह में प्रयोगशाला का दौरा कर सकती है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पोलैंड में वाडा से की मुलाकात खेल मंत्रालय व प्रयोगशाला के अधिकारियों ने हाल ही में कोटोवाइस (पोलैंड) में दुनिया डोपिंग कांग्रेस पार्टी के दौरान वाडा से मुलाकात कर उन्हें प्रयोगशाला का दौरा करने को कहा। प्रयोगशाला ने वाडा से बोला है कि आईआरएमएस को लेकर आपत्तियां जब तक दूर नहीं हो जाती हैं तब तक प्रयोगशाला के आईआरएमएस टेस्ट पर प्रतिबंध बरकरार रखते हुए इसके जरिए होने वाले टेस्टों को मान्यता दी जाए, लेकिन बाकी सभी तरह की टेस्टों की मान्यता बहाल की जाए। प्रयोगशाला में आने वाले आईआरएमएस टेस्ट को वाडा से मान्यता प्राप्त दूसरी लैबों से टेस्ट कराया जाएगा। वाडा की ओर से इस वर्ष 20 अगस्त को लगाए गए प्रतिबंध में आईआरएमएस में खामियां मुख्य कारण था। 38 आपत्तियों को प्रयोगशाला ने पहले ही दूर कर लिया था। बाकी बची नौ में से सात को अब दूर किया गया है।

जानकारी के लिए हम आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि आईआरएमएस की त्रुटियां दूर करने के लिए बेल्जियम की डोको लैब, रोम प्रयोगशाला व स्पेन की आईआरएमएस विशेषज्ञ मारिया सांचेज की सहायता ली गई है। दिसंबर माह में दोहा प्रयोगशाला की निदेशक को वाडा की आपत्तियां का जायजा लेने व परीक्षण के लिए बुलाया जा रहा है, जिससे वाडा टीम के दौरे के दौरान कोई कसर नहीं रह जाए। आईआरएमएस टेस्ट के लिए रोम प्रयोगशाला भेजे गए सैंपल प्रतिबंध के बाद प्रयोगशाला में खुले व बंद पड़े 45 सैंपलों को आईआरएमएस टेस्ट के लिए रोम प्रयोगशाला भेजा गया है। यही नहीं वाडा ने एक जनवरी 2016 से 20 अगस्त 2019 तक एनडीटीएल में आईआरएमएस के जरिए पॉजिटिव पाए गए 38 सैंपलों का डाक्यूमेंटेशन पैकेज भी मांगा है। प्रयोगशाला की ओर से इन सैंपलों का रिकार्ड भी वाडा को भेजा गया है।