भारतीय क्रिकेटरों को केवल कोविशील्ड वैक्सीन लेने की सलाह

भारतीय क्रिकेटरों को केवल कोविशील्ड वैक्सीन लेने की सलाह

नई दिल्ली भारतीय प्रीमियर लीग (IPL 2021) का 14वां सीजन समय से पहले ही खत्म हो गया अब भारतीय खिलाड़ियों को अगले महीने विश्व टेस्ट चैंपियनशिफ का फाइनल मुकाबला खेलने इंग्लैंड जाना है उससे पहले भारतीय खिलाड़ी अपने परिवार के साथ समय बिता सकेंगे इस बीच यह चर्चा जोरों पर है कि भारतीय खिलाड़ी इंग्लैंड जाने से पहले कोविड-19 वायरस का टीका ले सकते हैं एक रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय खिलाड़ी संभवत: कोविशिल्ड का टीका लेंगे हिंदुस्तान सरकार ने एक मई से 18 वर्ष के ऊपर के लोगों को भी टीका लगाना प्रारम्भ कर दिया है, इससे भारतीय खिलाड़ी भी इसके दायरे में आ गए हैं पहले बोला गया था कि भारतीय खिलाड़ियों को आईपीएल के बीच में ही खिलाड़ियों को टीका लगेगा लेकिन आईपीएल स्थगित होने के चलते यह योजना खटाई में पड़ गई

विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) के फाइनल में जाने से पहले क्या बीसीसीआई की भारतीय क्रिकेटरों को टीका लगाने की कोई योजना है? इस पर सौरव गांगुली ने कहा, ''अब उनके पास समय है वे पर्सनल तौर पर अपना वैक्सीनेशन करवा सकते हैं, क्योंकि प्रदेश सरकारें यह कर रही हैं सभी खिलाड़ी अपने-अपने घर चले गए हैं, इसलिए यही सरल और ठीक उपाय है " हालांकि खिलाड़ियों को केवल कोविशील्ड वैक्सीन लेने की सलाह दी गई है कोविशील्ड लेना केवल उन्हीं क्रिकेटरों के लिए महत्वपूर्ण है जो विश्व टेस्ट चैंपियनशिप और इंग्लैंड सीरीज का भाग हो सकते हैं यदि भारतीय खिलाड़ी यहां कोविशील्ड का पहला डोज हिंदुस्तान में लेते हैं तो उनके पास दूसरा डोज लेने का समय नहीं होगा चूंकि कोविशील्ड ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन है तो इंग्लैंड में रहने के दौरान भारतीय खिलाड़ी इसका दूसरा डोज ले सकते हैं

टाइम्स ऑफ इंडिया में सूत्रों के हवाले से बोला गया है, 'यह सलाह दी जाती है कि खिलाड़ी हिंदुस्तान में कोविशील्ड लें क्योंकि यह एस्ट्राजेनेका द्वारा बनाई गई वैक्सीन (यूके का उत्पाद) है उन्हें इंग्लैंड में दूसरी डोज मिल सकती है '

बता दें कि Covid-19 टीकाकरण गाइडलाइंस के मुताबिक कोविड-19 वायरस के किसी भी टीके को दो डोज लेना जरूरी है यदि किसी ने कोवेक्सिन का पहला डोज लिया है तो उसे दूसरा डोज भी कोवेक्सिन का ही लेना होगा इसलिए भारतीय खिलाड़ियों को कोविशील्ड टीका लगाने के लिए गया है भारतीय टीम करीब चार महीने इंग्लैंड में रहेगी तो ऐसे में वहां वह सरलता से कोविशील्ड का दूसरा डोज ले सकती है


न्यूजीलैंड टीम के पूर्व कोच ने बताया, WTC फाइनल में कौन होगा भारतीय टीम के लिए एक्स फैक्टर

न्यूजीलैंड टीम के पूर्व कोच ने बताया, WTC फाइनल में कौन होगा भारतीय टीम के लिए एक्स फैक्टर

ICC विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल को लेकर न्यूजीलैंड के पूर्व दिग्गज कोच माइक हेसन ने एक बड़ा दावा किया है। माइक हेसन ने भारतीय टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत को न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाले आगामी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल के लिए टीम इंडिया के एक्स फैक्टर के तौर पर देखा है। पंत ऑस्ट्रेलिया के बाद भारत में टेस्ट क्रिकेट में जो बल्ले से कोहराम दिखाया है, उसने सभी को प्रभावित किया है।

दिग्गज कोच हेसन ने कहा है, "ड्यूक बॉल स्पिन गेंदबाजों को हमेशा पसंद आती है, क्योंकि सीम ऊपर होती है। टीम इंडिया में ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा के होने से बैलेंस अच्छा रहेगा। इससे टीम को पांच गेंदबाज मिल जाते हैं। इतना ही नहीं बाएं और दाएं हाथ के बल्लेबाज के खिलाफ भी फायदा मिलता है। न्यूजीलैंड में पांच बाएं जबकि छह दाएं हाथ के बल्लेबाज हैं।"


न्यूजीलैंड टीम के कप्तानी कोच पद को वर्ल्ड कप 2019 के बाद छोड़ने वाले माइक हेसन ने कहा कि पंत ने ऑस्ट्रेलिया में शानदार प्रदर्शन किया था। उनको अधिक आत्मविश्वास आ गया है। इस कारण वह जैसा खेलना चाहते थे, उस तरह खेल रहे हैं। उन्हें खेलते देखना मुझे भी पंसद है। रिषभ पंत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दो टेस्ट मैचों में अहम पारियां खेली थीं, जहां टीम एक मैच जीतने में सफल रही थी, जबकि एक मैच में पंत ने टीम को हार से बचाया था।


उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड की टीम डब्ल्यूटीसी फाइनल में चार तेज गेंदबाजों के साथ उतर सकती है। पांचवें गेंदबाज के तौर पर कोलिन ग्रैंडहोम या बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज मिशेल सेंटनर को शामिल किया जा सकता है। इंग्लैंड के खिलाफ पदार्पण टेस्ट में दोहरा शतक लगाने वाले डेवन कॉनवे को लेकर उन्होंने कहा कि वह सीमित ओवरों के क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे। ऐसे में मुझे उनके प्रदर्शन में पर कोई आश्चर्य नहीं हुआ।