रोमांचक मैच में झूलन ने आखिरी गेंद डाली 'No Ball'

रोमांचक मैच में झूलन ने आखिरी गेंद डाली 'No Ball'

सलामी बल्लेबाज बेथ मूनी की नाबाद शतकीय पारी के दम पर आस्ट्रेलियाई महिला टीम ने तीन मैचों की सीरीज के रोमांचक दूसरे वनडे में भारत को पांच विकेट से हराकर 2-0 की अजेय बढ़त हासिल कर ली। भारतीय महिला टीम आस्ट्रेलिया के विजयी अभियान को थामने के लिए बेताब थी। जिसके चलते मैच के अंतिम पल में अनुभवी तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी दबाव को झेल नहीं सकीं व दो नो बाल कर बैठी। भारतीय महिला टीम अंतिम गेंद के बाद जश्न भी मनाने लगी थी लेकिन बाद में अंपायर ने नो बाल देकर इस मजे को किरकिरा कर दिया। वहीं आस्ट्रेलिया ने इसका फायदा उठाते हुए वनडे प्रारूप में लगातार 26वीं जीत दर्ज की।

अंतिम ओवर का रोमांच :


आखिरी ओवर में आस्ट्रेलिया को जीत के लिए 13 रन की जरूरत थी और गेंद झूलन के हाथ में थी। मूनी ने गोस्वामी की पहली गेंद पर तीन रन लिए और कैरी ने दूसरी गेंद पर दो रन लिए। इसके बाद गोस्वामी ने तीसरी गेंद कमर से अधिक ऊंचाई पर फेंकी और वह सीधे कैरी के सिर पर लगी और वह हेलमेट पहने होने के कारण बाल-बाल चोटिल होने से बच गईं। यह गेंद नोबाल हुई और नो बाल के कारण एक रन मिल गया।

झूलन ने फिर से तीसरी गेंद फेंकी और एक रन दिया। चौथी गेंद पर एक रन जबकि पांचवी गेंद पर दो रन गए। अंतिम गेंद पर आस्ट्रेलिया को तीन रन चाहिए तभी यह गेंद भी गोस्वामी ने कमर से अधिक ऊंचाई पर डाली और आस्ट्रेलिया की बल्लेबाज कैरी एक भी रन नहीं बना सकी। इस पर भारतीय महिलाएं जश्न मनाने लगी तभी अंपायर ने नो बाल करार दिया और अगली गेंद पर दो रन लेकर आस्ट्रेलिया ने जीत हासिल कर ली।

इस हार के लिए भारतीय गेंदबाजी के साथ लचर फील्डिंग भी बड़ा कारण रहा। भारतीय खिलाडि़यों ने कई कैच टपकाए। जीत के लिए 275 रन के लक्ष्य का पीछा कर रही आस्ट्रेलिया टीम अपनी पारी के शुरुआती 25 ओवरों में दबाव में थी लेकिन मूनी की 133 गेंद में 125 रन की नाबाद साहसिक पारी के दम पर लक्ष्य का पीछा करते हुए महिला क्रिकेट में सफलतापूर्वक सबसे बड़ा लक्ष्य हासिल किया।


आस्ट्रेलियाई टीम 52 रन पर चार विकेट गंवाकर मुश्किल में थी लेकिन मूनी ने ताहलिया मैकग्रा (77 गेंद में 74 रन) के साथ भी 126 रन की साझेदारी कर जीत की नींव रखी। इस दौरान भारतीय स्पिनरों दीप्ति शर्मा और पूनम यादव ने एक बार फिर निराश किया। दोनों ने मिलकर 15 ओवर में 98 रन लुटाए। आस्ट्रेलिया टीम का जीत का यह सिलसिला 2018 में शुरू हुआ था जिसके बाद उसके खिलाफ बना यह सबसे बड़ा स्कोर था।


इससे पहले सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना की 86 रन की संयमित पारी के दम पर भारतीय टीम ने सात विकेट पर 274 रन बनाए। टास हारने के बाद पहले बल्लेबाजी का निमंत्रण मिलने पर मंधाना और शेफाली वर्मा (22) ने पहले विकेट के लिए 74 रन की साझेदारी निभाई। शेफाली (22 रन) को 12वें ओवर में सोफी मोलिनेक्स ने बोल्ड किया।

मंधाना ने इसके बाद विकेटकीपर बल्लेबाज रिचा घोष (44) के साथ भी चौथे विकेट के लिए 76 रन की शानदार साझेदारी की। भारत की ओर से पूजा वस्त्राकर ने 29 और झूलन गोस्वामी ने नाबाद 28 रन बना कर अच्छा योगदान दिया और स्कोर को 274 तक पहुंचाया। आस्ट्रेलिया की तरफ से ताहलिया मैकग्रा ने 45 रन देकर तीन विकेट लिए जबकि मोलिनेक्स ने दो विकेट झटके।


चेन्नई ने फाइनल में कोलकाता को किया पस्त, बनी इस सीजन की चैंपियन

चेन्नई ने फाइनल में कोलकाता को किया पस्त, बनी इस सीजन की चैंपियन

इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन के फाइनल में दुबई में चेन्नई सुपर किंग्स की टीम ने कोलकाता नाइट राइडर्स को 27 रन से हराते हुए चौथी बार आइपीएल खिताब जीता। इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई ने फाफ डु प्लेसिस की दमदार 86 रन की पारी के दम पर 20 ओवर में 192 रन का स्कोर खड़ा किया। जवाब में कोलकाता की टीम 9 विकेट पर 165 रन ही बना पाई। पिछले सीजन (2020) में आइपीएल से बाहर होने वाली चेन्नई पहली टीम थी और इस बार खिताब जीतकर पहला स्थान हासिल किया।

धौनी की कप्तानी के सामने मोर्गन पूरी तरह से फीके नजर आए तो वहीं माही सबसे बड़ी उम्र में आइपीएल फाइनल खिताब जीतने वाले कप्तान भी बने। चेन्नई ने इससे पहले साल 2010, 2011 और 2018 में खिताब जीते थे। खिताब जीतने वाली टीम सीएसके को 20 करोड़ रुपये ईनाम के तौर पर दिए गए तो वहीं उप-विजेता टीम केकेआर को 12.5 करोड़ रुपये मिले। 

इस मैच में डुप्लेसिस को उनकी बेहतरीन पारी के लिए प्लेयर आफ द मैच का खिताब दिया गया।  इसके अलावा रितुराज गायकवाड़ को इमर्जिंग प्लेयर आफ द सीजन का खिताब मिला। राजस्थान रायल्स ने इस सीजन में फेयरप्ले का अवार्ड अपने नाम किया। दिल्ली के बल्लेबाज शिमरोन हेटमायर को सुपर स्ट्राइकर आफ द सीजन का खिताब मिला और उनका स्ट्राइक रेट 168 का रहा। हर्षल पटेल गेम चेंजर आफ दी सीजन का खिताब जीतने में सफल रहे साथ ही वो प्लेयर आफ द सीरीज भी बने। वेंकटेश अय्यर पावर प्लेयर आफ द सीजन बने।

रवि बिश्नोई इस सीजन में सबसे बेहतरीन कैच पकड़ने वाले फील्डर करार दिए गए। उन्होंने अहमदाबाद में सुनील नरेन का कैच डीप मिड-विकेट पर फुल लेंथ डाइव करते हुए लिया था। आइपीएल 2020 में केएल राहुल सबसे ज्यादा छक्के (30) लगाने वाले खिलाड़ी रहे। वहीं 32 विकेट लेने वाले हर्षल पटेल ने पर्पल कैप तो वहीं सबसे ज्यादा 635 रन बनाने वाले रितुराज गायकवाड़ ने आरेंज कैप हासिल किया। हर्षल पटेल मोस्ट वैल्यूएबल प्लेयर आफ दी सीन भी रहे। 

अच्छी शुरुआत के बाद हारी कोलकाता

चेन्नई से मिले बड़े लक्ष्य का पीछा करने उतरे कोलकाता के लिए हमेशा की तरह वेंकटेश अय्यर और शुभमन गिल ने दमदार शुरुआत की। दोनों ने पावरप्ले के 6 ओवर में बिना विकेट गंवाए 55 रन बना डाले। वेंटकेश ने अपनी पारी को जारी रखते हुए 31 गेंद पर टूर्नामेंट का चौथा अर्धशतक पूरा किया। शार्दुल ठाकुर ने एक ही ओवर में पहले कोलकाता को दो झटके दिए। पहले वेंकटेश और फिर नितीश राणा को उन्होंने आउट किया। सुनील नरेन इसके बाद महज 2 रन बनाकर बाउंड्री पर बड़ा शाट खेलने की कोशिश में जडेजा को कैच दे बैठे।  

वेंकटेश के बाद दूसरे ओपनर गिल ने भी अपना अर्धशतक पूरा किया। 40 गेंद पर 6 चौका लगाकर उन्होंने अपने पचास रन पूरे किए। इसके ठीक बाद दीपक चाहर की गेंद पर विकेट के पीछे लैप शाट लगाने की कोशिश में गिल lbw होकर वापस लौटे। टीम का पांचवां विकेट दिनेश कार्तिक के रूप में गिरा जब वह जडेजा को बड़ा शाट लगाने की कोशिश में बाउंड्री पर अंबाती रायडु द्वारा लपके गए। शाकिब अल हसन को जडेजा ने शून्य पर lbw कर ओवर का दूसरा विकेट हासिल किया। चेन्नई की तरफ से इस मैच में शार्दुल ठाकुर ने तीन, हेजलवुड व जडेना ने दो-दो जबकि चाहर व ब्रावो ने एक-एक विकेट लिए। 

IPL 2021 Final Match LIVE स्कोरकार्ड

चेन्नई की पारी, डुप्लेसिस का अर्धशतक

टास हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी चेन्नई सुपर किंग्स की टीम के लिए ओपनर रितुराज गायकवाड़ और फाफ डुप्लेसिस ने शानदार कार्य किया। दोनों ने पावरप्ले के 6 ओवरों में बिना विकेट खोए 50 रन जोड़े। हालांकि, 9वें ओवर की पहली गेंद पर रितुराज गायकवाड़ 32 रन के निजी स्कोर पर सुनील नरेन की गेंद पर शिवम मावी के हाथों कैच आउट हो गए। चेन्नई के ओपनर फाफ डुप्लेसिस ने 35 गेंदों में दमदार अर्धशतक पूरा किया। सीएसके को दूसरा झटका रोबिन उथप्पा के रूप में लगा जो 15 गेंदों में 31 रन बनाकर आउट हुए। डुप्लेसिस 86 रन बनाकर आउट हुए जबकि मोइन अली ने नाबाद 37 रन बनाए। केकेआर की तरफ से सुनील नरेन ने दो जबकि शिमव मावी ने एक विकेट लिए। 

दोनों टीमों ने प्लेइंग इलेवन में नहीं किए कोई बदलाव

आइपीएल के 14वें सीजन के फाइनल मैच के लिए सीएसके ने अपनी प्लेइंग इलेवन में किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं किया। वो दिल्ली के खिलाफ पहले क्वालीफायर में जिस टीम के साथ उतरे थे उसी टीम के साथ फाइनल में भी उतरे। वहीं केकेआर भी दिल्ली के खिलाफ दूसरे क्वालीफायर में जिस प्लेइंग इलेवन के साथ मैदान पर उतरी थी उसी कांबिनेशन के साथ सीएसके खिलाफ उतरी। 

सीएसके की प्लेइंग इलेवन-

रितुराज गायकवाड़, फाफ डुप्लेसिस, राबिन उथप्पा, मोइन अली, अंबाती रायुडू, एम एस धौनी (कप्तान/विकेटकीपर), रवींद्र जडेजा, ड्वेन ब्रावो, शार्दुल ठाकुर, दीपक चाहर, जोस हेजलवुड।

केकेआर की प्लेइंग इलेवन-

शुभमन गिल, वेंकटेश अय्यर, नीतिश राणा, राहुल त्रिपाठी, इयोन मोर्गन (कप्तान), दिनेश कार्तिक, शाकिब अल हसन, सुनील नरेन, लाकी फर्ग्यूसन, शिवम मावी, वरुण चक्रवर्ती।