भारतीय स्टेट बैंक की खास स्कीम से अब बुढ़ापे में भी होगा घर का सपना पूरा, अब घर दिलाएगा आपको पेंशन, जानें स्कीम

भारतीय स्टेट बैंक की खास स्कीम से अब बुढ़ापे में भी होगा घर का सपना पूरा,  अब घर दिलाएगा आपको पेंशन, जानें स्कीम

घर खरीदने में लोगों की पूरी जमा पूंजी लग जाती है। जिसके बाद उनके पास रिटायरमेंट (Retirement) के बाद घर चलाने के पैसे भी सारे नहीं हो पाते हैं। यह समस्य खास कर उन लोगों के लिए उत्पन्न होती है जो प्राइवेट जॉब (Private Job) कर रहे होते हैं वअपने भविष्य को लेकर चिंतित होते हैं। आज हम आपको एक ऐसे प्लान के बारे में बता रहे हैं जिसको जानने के बाद आपको की टेंशन समाप्त हो जाएगी। भारतीय स्टेट बैंक में अगर आपका अकाउंट है तो आपके घर से ही आपकी पेंशन का बंदोवस्त हो जाएगा। जानें कैसे आपको पेंशन दिलाएगा भारतीय स्टेट बैंक ।

आपका घर भी आपके लिए पेंशन के तौर पर हर माह एक नि‍श्चित रकम का बंदोवस्त कर सकता है। भारतीय स्‍टेट बैंक यानी भारतीय स्टेट बैंक और पंजाब नेशनल बैंक (PNB) सहित दूसरे बैंकों की रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम आपको हर माह एक निश्चित रकम का विकल्‍प देती है। आगे जानें इस स्कीम के बारे में सब कुछ।

Image result for एसबीआई

रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम क्या है

बैंकों की रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम 60 साल से अधिक आयु के व्‍यक्तियों को नियमित इनकम का विकल्‍प देती है। इसके लिए उनके पास अपना घर होना चाहिए। इस स्‍कीम के तहत बैंक घर के ओनर को रेजीडेंशियल प्रॉपर्टी अगेंस्‍ट हर माह एक तय रकम देता एक तय समय तक देता है। इसके बदले में रेजीडेंसियल प्रॉपर्टी बैंक के पास गिरवी रहती है।



इस स्‍कीम के तहत मालिक को बैंक को यह पैसा वापस नहीं करना होता है। बैंक रेजीडेंसियल प्रॉपर्टी गिरवी रखने पर हर माह कितना पैसा देगा, यह प्रॉपर्टी की मूल्य पर निर्भर करता है। इसके अतिरिक्त मालिक अपने घर में रह सकता है। रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम के तहत अपना घर गिरवी रखने वाले व्‍यक्ति की मृत्‍यु के बाद घर बैंक का हो जाता है। अगर उस व्‍यक्ति के परिवार वाले चाहें तो बैंक को घर की मूल्य चुका कर घर खरीद सकते हैं।

कौन उठा सकता है स्कीम का फायदा
कोई भारतीय जिसकी आयु 60 साल है इस स्कीम के के तहत अपना घर गिरवी रखने के लिए आवेदन कर सकता है। अगर पति वपत्नी मिल कर स्कीम के तहत आवेदन कर रहे हैं तो पत्नी की आयु कम से कम 58 वर्ष होनी चाहिए। इस स्कीम के तहत बैंक 10 से 15 वर्ष के लिए आवेदक को हर माह एक तय रकम देता है। एबीआई इस स्कीम के तहत 3 लाख रुपए से 1 करोड़ रुपए तक का कर्ज़ देता है। स्त्रियों ओर अन्य लोगों को एसबीआई इस स्कीम के तहत 11 प्रतिशत ब्याज दर पर कर्ज़ देता है। वहीं एसबीआई पेंशनर्स को सालाना 10 प्रतिशत ब्याज दर पर यह कर्ज़ मिलता है।

किसके लिए फायदेमंद
अगर किसी के पास अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए इनकम का कोई स्रोत नही है व उसके पास अपना घर है तो उस आदमी के लिए यह स्कीम कार्य की हो सकती है। वह आदमी इस स्कीम के तहत अपना घर गिरवी रख कर बैंक से हर माह एक तय रकम ले सकता है व आराम की जिंदगी जी सकता है। उस आदमी को अपनी न्यूनतम जरूरतें पूरी करने के लिए मुश्किलों का सामना नहीं करना होगा।