कोऑपरेटिव बैंक के नियमों किया गया यह बड़ा बदलाव, आप भी जाने

कोऑपरेटिव बैंक के नियमों किया गया यह बड़ा बदलाव, आप भी जाने

पीड़ितों का दर्द कम होने का नाम नहीं ले रहा है। अपना पैसा पाने के लिए परेशान निवेशक दर-दर की ठोकरे खा रहे हैं। अब उन्हें सरकार की तरफ से भी कोई आश्वासन नहीं मिला है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पीएमसी घोटाले (PMC Bank) से पल्ला झाड़ते हुए बोला कि कोऑपरेटिव बैंक का सरकार से लेना-देना नहीं है। इस तरह के बैंक को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) नियंत्रित करता है। दूसरी तरफ वित्त मंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले पीएमसी बैंक खाताधारक भाजपा कार्यालय प्रदर्शन करने पहुंच गए।

वित्त मंत्री ने की निवेश्कों से मुलाकात
इस दौरान निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने बोला कि कोऑपरेटिव बैंक को ग्रामीण विकास मंत्रालय की तरफ से ग्रामीण हिंदुस्तान में रजिस्टर्ड किया जाता है। मैंने डिपार्टमेंट ऑफ इकोनॉमिक अफेयर्स (DEA) व बैंकिंग सेक्रेटरी को कहा है कि वे ग्रामीण विकास मंत्रालय से इस पर स्टडी करने के लिए कहें। उन्होंने इस मौके पर पीएमसी के कुछ निवेश्कों से भी मुलाकात की व बोला बैंकिंग सचिव इस सारे मुद्दे की जानकारी लेंगे। साथ ही अन्य मंत्रालयों से भी सम्पर्क किया जाएगा।

उन्होंने बताया इस चर्चा में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) भी चर्चा में शामिल होगा। इस मुद्दे पर गुरुवार शाम के समय RBI गवर्नर के साथ मीटिंग की जाएगी। संसद के शीतकालीन सत्र में नियमों में परिवर्तन किया जा सकता है। कॉपरेटिव बैंक के नियमों में आवश्यकता पड़ने पर परिवर्तन संभव है।