ग्राहकों को मिनिमम बैलेंस के झंझट से मुक्त करने का प्लान कर रहा भारतीय स्टेट बैंक, जाने ये ख़ास बातें

ग्राहकों को मिनिमम बैलेंस के झंझट से मुक्त करने का प्लान कर रहा भारतीय स्टेट बैंक, जाने ये ख़ास बातें

देश का सबसे बड़ा बैंक करने की तैयारी कर रहा है। भारतीय स्टेट बैंक ग्राहकों को मिनिमम बैलेंस के झंझट से मुक्त करने का प्लान कर रहा है। इस योजना के तहत बैंक अकाउंट में मंथली एवरेज बैलेंस (MAB) मेंटेन नहीं कर पाने पर चार्ज में लगभग 80 प्रतिशत तक की कमी आ जाएगी।

इसके अतिरिक्त NEFT व RTGS जैसे डिजिटल मोड के जरिए ट्रांजेक्शन भी सस्ता करने का प्लान कर रहा है। अंग्रेजी वेबसाइट फाइनेंशीयल एक्सप्रेस के मुतबिक भारतीय स्टेट बैंक के नए सर्विस चार्ज 1 अक्टूबर 2019 से लागू हो सकते हैं।

मिनिमम मंथली एवरेज बैलेंस मेंटेन न कर पाने पर पेनल्टी
अभी मेट्रो शहरों, पूर्ण शहरी इलाकों में उपस्थित एसबीआई ब्रांच में बैंक अकाउंट खुलवाने वाले लोगों को 5000 रुपये व 3000 रुपये तक तक मिनिमम मंथली एवरेज बैलेंस रखना महत्वपूर्ण होता है। 1 अक्टूबर से यह बैलेंस घटकर दोनों इलाकों के लिए 3000 रुपये होने कि सम्भावना है। इलाकों में किसी के अकाउंट का मिनिमम बैलेंस 3000 रुपये से 75 प्रतिशत से ज्यादा कम हुआ तो पेनल्टी 15 रुपये+ GST लग सकता है, जो कि अभी 80 रुपये+ GST है। NEFT/ RTGS चार्जेस
भारतीय स्टेट बैंक डिजिटल मोड से RTGS व NEFT के जरिए ट्रांजेक्शंस को चार्ज फ्री कर चुका है। जो 1 जुलाई से अमल में आ गया है। वहीं एसबीआई ब्रांच में NEFT/ RTGS के जरिए ट्रांजेक्शन की लागत भी घट गई है। 1 अक्टूबर से बैंक ब्रांच में NEFT/ RTGS से ट्रांजेक्शन पर चार्ज इस तरह होंगे। 10 हजार रुपए के ट्रांजेक्शंस पर कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा।

भारतीय स्टेट बैंक के एटीएम चार्ज भी 1 अक्टूबर से बदल सकते हैं। कस्टमर मेट्रो शहरों के 6 एसबीआई एटीएम में से मैक्सिमम 10 बार फ्री डेबिट ट्रांजेक्शन कर सकेगा। वहीं अन्य जगहों के एटीएम से मैक्सिसम 12 फ्री ट्रांजेक्शन कर सकेगा।

चेकबुक के लगेगा इतना चार्ज
सेविंग्स बैंक अकाउंट रखने वाले खाताधारकों के लिए एक वित्त साल में पहले 10 चेक फ्री होंगे। इसके बाद 10 चेक वाली चेकबुक 40 रुपये + GST व 25 चेक वाली चेकबुक के लिए 75 रुपये+ GST लिया जाएगा। सीनियर सिटीजन व सैलरी पैकेज अकाउंट्स के लिए चेक फ्री होंगे।