नए मोटर व्हीकल एक्ट में भारी जुर्माने को लेकर लोगों में नाराज़गी, गडकरी ने कही ये बड़ी बात

नए मोटर व्हीकल एक्ट में भारी जुर्माने को लेकर लोगों में नाराज़गी, गडकरी ने कही ये बड़ी बात

देश में नए मोटर व्हीकल एक्ट में भारी जुर्माने को लेकर लोगों की नाराज़गी देखते हुए कुछ प्रदेश सरकारें थोड़ी रियायत देने पर विचार कर रही है।

इसी कड़ी में गुजरात की विजय रूपाणी सरकार ने जुर्माने की रकम को कम कर दिया है। हालांकि इस बीच केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बोला कि 'मोटर व्हीकल संशोधन बिल में कोई भी प्रदेश परिवर्तन नहीं कर सकता। '

गडकरी ने कहा, 'मैंने राज्यों से जानकारी ली है। अभी तक कोई ऐसा प्रदेश नहीं है, जिसमें बोला हो कि इस एक्ट को लागू नहीं करेंगे। कोई भी प्रदेश इससे बाहर नहीं जा सकता। '

गडकरी इससे पहले भी ट्रैफिक फाइन बढ़ाने के निर्णय का कई बार बचाव कर चुके हैं। उन्होंने साफ बोला था कि सरकार ने ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर जुर्माने की रकम बढ़ाने का निर्णय जेब भरने के लिए बल्कि लोगों को ट्रैफिक रूल अनुसरण करने के लिए प्रेरित करने तथा सड़कों को सुरक्षित बनाने के मकसद से लिया है। इसके साथ ही उन्होंने बताया था कि एक बार ओवर स्पीडिंग के चक्कर में उनकी गाड़ी तक का चालान कट चुका है।

बता दें कि गुजरात सरकार ने मंगलवार को जुर्माने की रकम घटाने का ऐलान किया है। प्रदेश सरकार ने खास तौर से दोपहिया तथा कृषि काम में लगे वाहनों को ये छूट दी है। गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी ने एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कहा, हमने इस में नए नियमों की धारा 50 में परिवर्तन किया है। इसमें हमने जुर्माने की रकम को घटाया है।

नए नियमों के मुताबिक हेलमेट नहीं पहनने पर जुर्माने की राशि को 1000 रुपए से बदलकर 500 कर दिया गया है। वहीं सीट बेल्ट नहीं लगाने पर भी जुर्माना 1000 से घटाकर 500 कर दिया गया है। इसके अतिरिक्त बिना ड्राइविंग लाइसेंस गाड़ी चलाने पर नए नियम के तहत 5000 रुपये जुर्माना है, जबकि गुजरात में टू व्‍हीलर वाहन चालकों को 2000 हजार व बाकी वाहन को 3000 हजार जुर्माना देना होगा।