पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को लंदन में होना पड़ा शर्मसार

पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को लंदन में होना पड़ा शर्मसार

पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को लंदन में शर्मसार होना पड़ा है और इस बार मामला पाकिस्‍तान में मीडिया पर लगी सेंसरशिप का था। कुरैशी को कनाडा के एक जर्नलिस्‍ट से जमकर फटकारा और उन पर आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार की शिकायत के बाद ट्विटर ने उनका अकाउंट ही सस्‍पेंड कर दिया। गुरुवार को यह वाकया उस समय हुआ जब कुरैशी 'डिफेंड मीडिया फ्रीडम' नामक एक कार्यक्रम की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में मौजूद थे। जिस कार्यक्रम में कुरैशी मौजूद थे वहां के एक वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि कुर्सियां खाली पड़ी हैं और प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के लिए ज्‍यादा लोग मौजूद नहीं थे।Image result for लंदन में बेइज्‍जत हुए पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री कुरैशी

कौन हैं कनाडा के जर्नलिस्‍ट

कनाडा के जर्नलिस्‍ट एजरा लेवांत जो रेबेल मीडिया से जुड़े हैं, उन्‍होने कुरैशी को आड़े हाथों लिया। रेबेल मीडिया कनाडा की राइट विंग वेबसाइट है। उन्‍होंने गुस्‍सा होते हुए कुरैशी से कहा कि उनका ट्विटर ने उनका अकांउट पाक सरकार की वजह से सस्‍पेंड हुआ था। लेवांत ने कहा, 'मैं आपसे यही बात कह रहां हूं कि ट्विटर ने मेरा पूरा अकाउंट डिलीट नहीं किया बल्कि सिर्फ एक ट्वीट डिलीट की और मुझे कहा कि मैंने पाक के कानून को तोड़ा है।' लेवांत ने बताया कि ट्विटर की तरफ से ई-मेल भेजकर उन्‍हें इस बारे में जानकारी दी गई। लेवांत ने आगे कहा, 'मैं कनाडा में हूं, ट्विटर अमेरिका में है लेकिन पाकिस्‍तान ने हमें सेंसर कर दिया।' इस पूरे वाकए की वीडियो क्लिप को पाकिस्‍तान के जर्नलिस्‍ट मुनिजे जहांगीर ने ट्विटर पर शेयर किया।

कुरैशी को कहा ठग

लेवांत ने कार्यक्रम के आयोजकों को कहा कि उन्‍हें इस बात पर शर्म आनी चाहिए कि उन्‍होंने एक ऐसे 'ठग' को इनवाइट किया है जों सेंसरशिप में आगे है और यहां पर फ्री स्‍पीच की बात करेंगे। लेवांत ने कुरैशी पर दोहरा मानदंड अपनाने का भी आरोप लगाया। कुरैशी ने आरोपों के जवाब में कहा कि लेवांत अपने ट्विटर हैंडल पर किसी खास एजेंडा को आगे बढ़ा रहे थे। कुरैशी ऐसे मौके पर लंदन में मीडिया से जुड़े कार्यक्रम में हिस्‍सा लेने के लिए पहुंचे थे जब पिछले दिनों पाकिस्‍तान के पूर्व राष्‍ट्रपति आसिफ अली जरदारी के एक टीवी इंटरव्‍यू को सेंसर कर दिया गया था। इस घटना के पाकिस्‍तान इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी (पामेरा) ने तीन प्राइवेट टीवी चैनल्‍स को इसलिए सस्‍पेंड कर दिया क्‍योंकि उन्‍होंने जरदारी का इंटरव्‍यू टेलीकास्‍ट किया था।