जम्मू और कश्मीर मामले पर चर्चा के लिए चाइना के लिए रवाना हुए पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी

जम्मू और कश्मीर मामले पर चर्चा के लिए चाइना के लिए रवाना हुए पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी

नयी दिल्लीः जम्मू और कश्मीर से हटाने के बाद पाक की बौखलाहट साफ नजर आ रही है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी पाक को जम्मू और कश्मीर मामले पर कोई समर्थन नहीं मिल रहा है। ऐसे में अब उसने चाइना से मदद लेने का निर्णय लिया है, जिसके चलते अब कुरैशी अपनी तीन दिवसीय दौरे पर चाइना के लिए रवाना हो गए हैं।

इस दौरान कुरैशी चीनी विदेश मंत्री वाय यी से मुलाकात करेंगे व जम्मू और कश्मीर मामले पर बात करेंगे। वाय यी के अतिरिक्तवह चाइना के अन्य बड़े नेताओं से भी मुलाकात करेंगे। बता दें जम्मू और कश्मीर मामले पर अभी तक चाइना की तरफ से किसी भी तरह की रिएक्शन सामने नहीं आई है।

Image result for पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी

हालांकि, लद्दाख को टेरटरी बनाए जाने पर चाइना ने ऐतराज जताया था, लेकिन जम्मू और कश्मीर मामले पर अभी तक किसी भी तरह की रिएक्शन नहीं दी है। बता दें चाइना हमेशा से ही व हर मुद्दे में पाक का समर्थन करता दिखा है।

Foreign Minister of Pakistan, Shah Mehmood Qureshi departs for Beijing, China where he will meet Foreign Minister of China, Wang Yi and other Chinese leaders. pic.twitter.com/UcTbGnBdTv

— ANI (@ANI) August 9, 2019

हाल ही मेंने ट्विटर पर जम्मू और कश्मीर से धारा 370 व 35ए को निष्प्रभावी किए जाने पर नाराजगी जताते हुए ट्विटर हैंडल से लिखा है था, जिसमें , 'पूरी संसार इंतजार कर रही है कि जम्मू और कश्मीर (Jammu Kashmir)से कर्फ्यू हटने के बाद वहां क्या दशा बनते हैं। भाजपा की सरकार क्या सोचती है कि वह सैन्य बल की ताकत से उत्पीड़ित कश्मीरियों के स्वंतत्रता आंदोलन को कुचल देगी? मुझे पूरा भरोसा है कि यह आंदोलन फिर से गति पकड़ेगा। '

एक अन्य ट्वीट में इमरान खान ने बोला कि, 'क्या अंतर्राष्ट्रीय समुदाय कश्मीरियों के नरसंहार का साक्षी बनेगा। सवाल यह है कि क्या हम भाजपा सरकार के दबाव में फासीवादी राज का नमूना देखेंगे। क्या अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में नैतिक स्तर पर इसे रोकने की हौसला नहीं है। '