मोदी सरकार ने शुरू की सस्ते एसी की बिक्री, जल्द उठाएं फायदा

मोदी सरकार ने शुरू की सस्ते एसी की बिक्री, जल्द उठाएं फायदा

ऊर्जा खपत में कमी लाने के इरादे से बिजली मंत्री आर.के. सिंह ने ग्राहकों से अपने एयर कंडीशनर (एसी) को औसत तापमान 24 डिग्री पर चलाने का आग्रह किया है। जी हां देश में ऊर्जा खपत में कमी लाने के उद्देश्य से बिजली मंत्री आर के सिंह ने केंद्र सरकार के कार्यालयों और सरकारी कंपनियों को एयर कंडीशनर (एसी) को औसत तापमान 24-25 डिग्री सेल्सियस पर चलाने को कहा है। मोदी सरकार ने शुरू की सस्ते एसी की बिक्री, जल्द उठाएं फायदा

Image result for एसी को 24 डिग्री पर चलाएं, ब‍िजली की होगी कम खपत

एसी इतने तापमान पर ही चलाएं
बता दें कि मंत्री के अनुसार, एसी को अगर 24-25 डिग्री सेल्सियस तापमान पर चलाया जाता है। तो उससे बिजली बिल में उल्लेखनीय बचत हो सकती है। एसी के एक डिग्री तापमान बढ़ाने से कुल बिजली खपत में 6 फीसदी की कमी आती है। वहीं उनका कहना हैं कि आमतौर पर कमरे का तापमान 20-21 डिग्री तय किया जाता है। जबकि आरामदायक स्थिति के हिसाब से ह्यूमिडिटी, हवा प्रवाह आदि को ध्यान में रखते हुए तापमान 24-25 के बीच नियत किया जाना चाहिए।

ग्राहकों के बिजली बिल में आयेगी काफी कमी

बिजली मंत्रालय के अधीन आने वाले ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (बीईई) के अनुमान के अनुसार एसी का तापतान केवल एक डिग्री बढ़ाने से हम करीब 6 फीसदी बिजली बचा सकते हैं। इससे ग्राहकों के बिजली बिल में काफी कमी आएगी। सिंह ने कहा कि हमने कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने को लेकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिबद्धता जताई है। हमें पेरिस समझौते के तहत राष्ट्रीय स्तर पर खुद से निर्धारित प्रतिबद्धता (एनडीसी) के अनुसार यह सुनिश्चित करना है कि 2030 तक भारत प्रति इकाई जीडीपी उत्सर्जन गहनता स्तर में 2005 के स्तर से एक तिहाई कमी लाए। इसमें ऊर्जा दक्षता को अहम भूमिका निभानी है।

इस बात से भी अवगत कराया कि देश में कुल बिजली खपत में इमारतों की हिस्सेदरी 30 फीसदी से अधिक है। इसमें सरकारी इमारतें बिजली खपत के सबसे बड़े स्रोत हैं। बता दें कि सरकार ऊर्जा की सबसे बड़ी उपयोगकर्ता के रूप में बिजली के कुशल उपयोग के जरिये राष्ट्रीय ऊर्जा दक्षता और कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने की जरूरत को मानती है। इससे सरकार की ऊर्जा खपत और परिचालन लागत में कमी आएगी।

देश करीब 23 अरब यूनिट कर सकता बिजली की बचत

एसी को 24-25 डिग्री पर उपयोग करने से बिजली खपत के साथ ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन में कमी आएगी। इससे देश उत्सर्जन में कमी लाने को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर स्वयं से निर्धारित प्रतिबद्धता को पूरा करने में सफल होगा। इतना ही नहीं बीईई के दिशानिर्देश के अनुसार एसी को 20 डिग्री के बजाय 24 डिग्री पर चलाया जाए तो इससे करीब 24 फीसदी बिजली की बचत होगी। इसलिए ऐसा करने से कुल मिलाकर देश करीब 23 अरब यूनिट बिजली की बचत कर सकता है।

सस्ता एसी मुमकिन किया मोदी सरकार ने

सरकारी कंपनी एनर्जी इफिसिएन्सी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) ने एसी की बिक्री शुरू कर दी है। जानकारी दें कि सरकारी कंपनी एनर्जी इफिसिएन्सी सर्विसेज लिमिटेड ने 1.5 टन इन्वर्टर एसी की बिक्री शुरू की है। इस बात से भी आपको अवगत कराना चाहेंगे कि इस एसी की कीमत दूसरी कंपनियों के मुकाबले कम बताई जा रही है। जी हां इसकी कीमत 41,300 रुपये है। ईईएसएल ने फरवरी 2019 में रेजिडेंशियल और इंस्टीट्यूशनल कंज्यूमर्स के लिए हाई क्वालिटी एयर कंडीशनिंग कार्यक्रम की शुरुआत की थी। इस कार्यक्रम के तहत हाई क्वालिटी के एसी पेश किए जाने हैं।