कोई ठोस उन्नति न होने पर हाईकोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग: गोपाल सिंह विशारद

कोई ठोस उन्नति न होने पर हाईकोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग: गोपाल सिंह विशारद

अयोध्या राम जन्मभूमि टकराव की त्वरित सुनवाई की मांग वाली याचिका पर उच्चतम न्यायालय आज सुनवाई करेगा। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की संविधान बेंच गुरुवार को प्रातः काल 10:30 बजे सुनवाई शुरुआत करेगी। दरअसल, हिन्दू पक्षकार गोपाल सिंह विशारद ने मध्यस्थता में कोई ठोस उन्नति न होने की बात कहते हुए न्यायालय से मुख्य मुद्दे पर जल्द सुनवाई की मांग की है।उल्लेखनीय है कि पिछली सुनवाई में समिति ने मध्यस्थता प्रक्रिया के लिए अलावा समय देने की मांग की थी। न्यायालय ने कमेटी को 15 अगस्त तक की मोहलत दी थी। दरअसल, 8 मार्च को शीर्ष कोर्ट द्वारा पूर्व जज एफएम कलीफुल्ला, धर्म गुरु श्रीश्री रविशंकर व वरिष्ठ एडवोकेट श्रीराम पंचु को मध्यस्थ नियुक्त किया गया था। न्यायालय ने सभी पक्षों से बात कर मसले का सर्वमान्य हल निकालने का कोशिश करने को बोला था। शीर्ष न्यायालय ने बोला था कि पैनल 4 सप्ताह में मध्यस्थता के जरिए टकराव निपटाने की प्रक्रिया प्रारंभ करने के साथ 8 सप्ताह में यह प्रक्रिया समाप्त हो।

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने बोला था कि मध्यस्थता प्रक्रिया न्यायालय की निगरानी में होगी व इसे सीक्रेट रखा जाएगा। शीर्ष न्यायालय ने बोला था कि जरूरत पड़े तो मध्यस्थ व लोगों को पैनल में शामिल कर सकते हैं। वे कानूनी मदद भी ले सकते हैं। मध्यस्थों को यूपी सरकार फैजाबाद में सारी सुविधाएं उपलब्ध कराएगी।