नेपाली संसद के स्पीकर कृष्ण बहादुर महरा को लेकर बड़ी समाचार आ रही

नेपाली संसद के स्पीकर कृष्ण बहादुर महरा को लेकर बड़ी समाचार आ रही

नेपाली संसद के स्पीकर कृष्ण बहादुर महरा को लेकर बड़ी समाचार आ रही है. निवर्तमान स्पीकर को बलात्कार के आरोप में हिरासत में लिया गया है. बता दें कि बीते सप्ताह संसद सचिवालय में कार्यरत एक महिला कर्मचारी ने महरा पर दुष्कर्म के गंभीर आरोप लगाए थे. अब न्यायालय के आदेश पर रविवार को उन्हें सरकारी आवास से हिरासत में लिया गया है.

गिरफ्तारी के बाद सांसद पद से भी बर्खास्त

हफ्तेभर पहले महरा पर आरोप लगने के बाद उन्हें अपना स्पीकर का पद छोड़ना पड़ा था. हालांकि, उस वक्त उन्होंने सांसद पद नहीं छोड़ा था. लेकिन अब गिरफ्तारी के बाद कृष्ण बहादुर महरा सांसद पद से भी बर्खास्त किए जा चुके हैं. गौरतलब है कि इससे पहले महारा के व्यक्तिगत सचिवालय ने बलात्कार के आरोपों पर को खारिज कर दिया था. उस वक्त उनके प्रेस सचिव ने बयान दिया था कि, 'ये आरोप निराधार है. इसमें कोई सच्चाई नहीं है.'

निष्पक्ष जाँच के लिए दिया था इस्तीफा

यही नहीं, प्रेस सचिव ने यह भी दावा किया था कि ये साजिश महारा को बदनाम करने व उनसे बदला निकालने के लिए ये आरोप लगाया गया है. आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि आरोप लगने के बाद कई सियासी पार्टियों ने महारा से त्याग पत्र मांगा था. इसके बाद कृष्ण बहादुर महारा ने अपनी सफाई में मीडिया व लोगों की आलोचना करते हुए बोला था कि लोग मेरे चरित्र पर सवाल उठा रहे हैं व आरोप मढ़ रहे हैं. ऐसे में आरोपों की जाँच निष्पक्ष तरह से हो इसके लिए मैं अपने पद से त्याग पत्र दे रहा हूं.

क्या है मामला?

आरोप लगाने वाली लड़की का बोलना है कि महारा ने काठमांडू के तिकुने इलाके में एक किराये घर में उनके साथ बलात्कार किया. पीड़िता का बोलना है कि उस वक्त उसका पति घर में नहीं था. हालांकि, इन आरोपों पर प्रेस सचिव का कुछ व ही बोलना है. उन्होंने कहा, 'संसदीय सचिवालय के स्वास्थ्य विभाग में कोई पद खाली नहीं था. पीड़िता के साथ-साथ कई मेडिकल कर्मचारी विभाग में पोस्टिंग की मांग कर रहे थे. लेकिन उनको इन्कार कर दिया क्योंकि यह हमारे हाथ में नहीं था. इसी बात का बदला निकालने के लिए पीड़िता ने स्पीकर पर झूठा आरोप लगाया है.'