19 अगस्त तक के लिए न्यायिक रिमांड भेज दिए गए अली जरदारी

19 अगस्त तक के लिए न्यायिक रिमांड भेज दिए गए अली जरदारी

पाक की एक जवाबदेही न्यायालय ने शुक्रवार को पाक पीपुल्स पार्टी ( PPP ) के सह-अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी ( Asif Ali Zardari ) को 19 अगस्त तक के लिए न्यायिक रिमांड पर भेज दिया. जरदारी को रावलपिंडी की अदियाला कारागार में फर्जी बैंक खातों के मुद्दे में न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.

Image result for अली जरदारी न्यायिक रिमांड

जरदारी को जवाबदेही न्यायाधीश मोहम्मद बशीर के सामने पेश किया गया, जिन्होंने NAB के अभियोजक मुजफ्फर अब्बासी के तर्क के बाद पूर्व राष्ट्रपति को कारागार भेज दिया. इस मुद्दे में सुनवाई के दौरान पीपीपी नेता जरदारी के रिमांड बढ़ाने की मांग की गई थी.

अदालत द्वारा जारी एक आधिकारिक अधिसूचना में बोला गया है कि जरदारी की न्यायिक रिमांड को मंजूरी दे दी गई है व उन्हें 19 अगस्त को अपनी अगली न्यायालय में पेश होने तक कारागार में रखा जाना है.

इससे पहले, पीपीपी के सह-अध्यक्ष जरदारी एनएबी की हिरासत में थे. 29 जुलाई को न्यायालय ने पूर्व राष्ट्रपति की 10 दिन की रिमांड मंजूर की थी.

जरदारी ने 90 दिन की रिमांड के लिए अनुरोध किया था

शुक्रवार की कार्यवाही के दौरान, जरदारी के एडवोकेट लतीफ खोसा ने बोला कि पूर्व राष्ट्रपति ने पहले अनुरोध किया था कि NAB को कई छोटे रिमांड के बजाय एक बार 90 दिनों का भौतिक रिमांड दिया जाए. एडवोकेट ने तर्क दिया कि जबकि 90 दिन की रिमांड नहीं दी जा सकती है, न्यायालय 14 दिन की रिमांड मंजूर कर सकती है.

जेल पहुंचने से पहले जरदारी ने 'ए-क्लास' सुविधाओं के लिए एक आवेदन प्रस्तुत किया था. इसके बाद, पूर्व राष्ट्रपति को एक बख़्तरबंद कार में कारागार में स्थानांतरित कर दिया गया था.

इस बीच, जरदारी की बहन फरयाल तालपुर जो कि अदियाला कारागार में है, ने सिंध विधानसभा के एक सत्र में भाग लेने का अनुरोध प्रस्तुत किया था. न्यायालय ने NAB अभियोजक से 19 अगस्त को ट्रांजिट रिमांड के अनुरोध पर जवाब देने के लिए बोला है.