पाक से मिली 49 रन की पराजय के बाद, साउथ अफ्रीका का सफर हो गया समाप्त

पाक से मिली 49 रन की पराजय के बाद, साउथ अफ्रीका का सफर हो गया समाप्त

इस दुनिया कप में सउथ अफ्रीका का सफर समाप्त हो गया है। पाक से मिली 49 रन की पराजय ने उसकी उम्मीदों पर पूरी तरह से पानी फेर दिया। खेले गए अपने कुल सात मुकाबलों में प्रोटियाज सिर्फ एक में ही जीत पंजीकृत कर पाई। बाकी पांच मैचों में पराजय का सामना करना पड़ा। इसी के साथ दुनिया कप में उनकी वापसी करने की उम्मीद भी अब समाप्त हो गई है। साउथ अफ्रीका को अब सिर्फ दो मैच खेलने हैं व कुल तीन अंकों के साथ वह टेबल में नीचे से दूसरे नंबर पर है। 2015 दुनिया कप की सेमीफाइनलिस्ट साउथ अफ्रीका की दशा इस दुनिया कप में बहुत ज्यादा बेकार दिखी व 1992 से लेकर अब तक ऐसा दूसरी बार है, जब प्रोटियाज लीग स्टेज में ही टूर्नामेंट से बाहर हो गए हैं। इससे पहले 2003 में साउथ अफ्रीकन टीम ग्रुप स्टेज से बाहर हो गई थी।

अब तक के दुनिया कप में साउथ अफ्रीका की स्थिति

1992 सेमीफाइनल
1996 क्वार्टर फाइनल
1999 सेमीफाइनल
2003 ग्रुप स्टेज

2007 सेमीफाइनल

2011 क्वार्टर फाइनल
2015 सेमीफाइनल
2019 ग्रुप स्टेज

साउथ अफ्रीकन बल्लेबाजों में से कोई भी इस बार विस्फोटक बल्लेबाजी तक नहीं कर पाया। लॉड्र्स में खेले गए मुकाबले में पाक ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सात विकेट पर 308 रन बनाए। जवाब में साउथ अफ्रीकन टीम निर्धारित ओवर में 259 रन ही बना सकी। हालांकि क्विंटरन डी कॉक, कैप्टन फाफ डू प्लेसी, विन भय दुसान ने टीम के रन तो बनाए, लेकिन बल्लेबाजी बहुत ज्यादा धीमी रही। एंडिले फेहलुकवायो ने 143.75 की स्ट्राइक रेट से नाबाद 46 रन बनाए, लेकिन दूसरे छोर पर उन्हें कोई साथ नहीं मिला। टीम के स्टार बल्लेबाज इस बार टूर्नामेंट में फ्लॉप ही रहे।

इस दुनिया कप में साउथ अफ्रीकन बल्लेबाजों की स्ट्राइक रेट पर नजर डाला जाए तो यह साफ हो जाएगा कि स्टार बल्लेबाजों में से किसी की भी स्ट्राइक रेट 90 तक भी नहीं पहुंच पाई।क्विंटन डी कॉक की स्ट्राइक रेट 83.80, हाशिम अमला की 59.13, फाफ डू प्लेसी की 81.27, एडेन मा​र्करम की 71.14, वान दर दुसान की 87.44 व डेविड मिलर की स्ट्राइक रेट 86.62 रही।