30 राष्ट्रों के विशेषज्ञ संयुक्त रूप से समुद्री सुरक्षा को लेकर करेंगे संयुक्त एक्सरसाइज 

 30 राष्ट्रों के विशेषज्ञ संयुक्त रूप से समुद्री सुरक्षा को लेकर करेंगे संयुक्त एक्सरसाइज 

देश की राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम के सोहना रोड स्थित इंफॉर्मेशन मैनेजमेंट एंड एनालिटिक सेंटर (आइमेक) में बुधवार से 30 राष्ट्रों के विशेषज्ञ संयुक्त रूप से समुद्री सुरक्षा को लेकर संयुक्त एक्सरसाइज करेंगे. यह एक्सरसाइज लगातार दो दिन तक चलेगा. यह संयुक्त एक्सरसाइज हिंद महासागर की सुरक्षा को व अधिक पुख्ता बनाने को लेकर होगा. इसकी सुरक्षा को लेकर भारतीय नौ सेना संसार के 43 राष्ट्रों के साथ मिलकर कार्य कर रही है.

आइमेक में नौ सेना ने इंफॉर्मेशन फ्यूजन सेंटर भी प्रारम्भ किया था. इसके जरिए हिंद महासागर में चलने वालीं जहाजों के बारे में जानकारी रियल टाइम में नौ सेना मिल रही है. सामरिक दृष्टि से हिंद महासागर बहुत ज्यादा जरूरी है. चाइना इस क्षेत्र में लगातार अपना वर्चस्व स्थापित करने का कोशिश कर रहा है. यही वजह है कि संसार के वह देश जिनका हिंद महासागर से हित जुड़ा है, वह हिंदुस्तान के साथ इस जल क्षेत्र की सुरक्षा को अभेद्य बनाने का कोशिश कर रहे हैं.

इस महासागर के जरिए संसार भर में आने-जाने वाले करीब 40 फीसद माल की ढुलाई होती है. दो तिहाई पेट्रोलियम पदार्थ इसी क्षेत्र से होकर गुजरता है. संयुक्त एक्सरसाइज के दौरान हिंद महासागर में शत्रु की शिप का एक मॉडल तैयार किया जाएगा. उसको कितनी देर में ट्रैक किया जाता है, आदि को लेकर डाटा एकत्र किया जाएगा. इसके आधार पर संभावित खतरे से निपटने के लिए ठोस कार्ययोजना तैयार की जाएगी. गुरुग्राम के सोहना रोड में 2012 में आइमेक की नींव रखी गई थी. हिंदुस्तान की 7,500 किमी लंबी समुद्री सीमा में कुल 51 रडार स्टेशन लगाए गए जिनके जरिए हिंद महासागर में आने वाले हर जहाज के बारे में सूचना मिलती रहती है.