सोशल मीडिया पर तेजी से फ़ैल रहा है कोरोना वायरस की निमारी का यह भ्रम व सच, न फसे आप

सोशल मीडिया पर तेजी से फ़ैल रहा है कोरोना वायरस की निमारी का यह भ्रम व सच, न फसे आप

कोरोना वायरस (Coronavirus) संसार के लिए खतरा बनता हुआ दिख रहा है. इस बीमारी की वजह से लोग पब्लिक प्लेस पर जाने व एक दूसरे से हाथ मिलाने से भी भय रहे हैं। इसके अतिरिक्त भय की स्थिति में लोगों के मन में इस बीमारी को लेकर कई तरह के भ्रम भी पैदा हो गए हैं. आइए, जानते हैं इस बीमारी से जुड़े भ्रम व उनके सच- 


मिथक: गौ माता का गोबर व गोमूत्र के सेवन से होगा करोना वायरस का इलाज
सच: सोशल मीडिया पर ऐसे कई मैसेज घूम रहे हैं, जिनमें दावा किया जा रहा है कि गौ माता का गोबर या गोमूत्र से कोरोना वायरस अच्छा हो जाता है जबकि यह बात पूरी तरह गलत है क्योंकि अभी तक इस जानलेवा वायरस की दवा बन ही नहीं पाई है. 


मिथक: लहसुन खाने से शरीर से निकलते जाते हैं कोरोना वायरस 
सच: सोशल मीडिया खासतौर पर वाट्सअप पर ऐसे कई मैसेज घूम रहे हैं, जिनमें बोला जा रहा है कि लहसुन का सेवन करने से कोरोना वायरस इंफेक्शन से बचा जा सकता है लेकिन ये बात पूरी तरह से गलत है. लहसुन में एंटीमाइक्रोबियल गुण तो होते हैं लेकिन कोरोना वायरस के लिए यह असरदार नहीं है.

 
मिथक: निमोनिया की वैक्सीन कोरोना वायरस से बचाने में मदद करती है
सच: हाल ही में WHO की रिपोर्ट के अनुसार निमोनिया के लिए दी जाने वाली न्यूमोकॉकल वैक्सीन इस बेहद नए व खतरनाक कोरोना वायरस के विरूद्ध सुरक्षा प्रदान नहीं करती है. इस नए वायरस के लिए अनुसंधानकर्ता नयी वैक्सीन बनाने की प्रयास में लगे हुए हैं.


मिथक: पालतू जानवरों से फैल सकता है कोरोना वायरस
सच: इस बात को जान लेना सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है क्योंकि वायरस के नाम पर जानवरों पर हिंसा करना, कानूनन क्राइम है इसलिए आप अपने इर्द-गिर्द उपस्थित लोगों को इस बात की जानकारी दें कि पालतू जानवर जैसे कुत्ते या बिल्ली इस खतरनाक कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं होता है. अभी तक पालतू जानवरों से इंसानों में कोरोना फैलने का कोई मुद्दा सामने नहीं आया है.