जानिए सूर्य नमस्कार से सम्पूर्ण व्यायाम के क्या-क्या होते हैं फायदे

जानिए सूर्य नमस्कार से सम्पूर्ण व्यायाम के क्या-क्या होते हैं फायदे

पूरे दुनिया में कोरोना महामारी के कारण लोगों में डर की स्थिति है, ऐसे समय में डरने के बजाय अपनी स्वास्थ्य का ध्यान रखना ज्यादा महत्वपूर्ण है.

डॉक्टर्स भी सलाह दे रहे हैं कि यदि हम अपने शरीर का इम्यून सिस्टम (बीमारियों से लड़ने की ताकत) मजबूत रखेंगे तो रोगों से भी बचाव कर सकते हैं. साथ ही चिकित्सक सुझाव दे रहे हैं कि योग के द्वारा हर तरह के रोगों से अपना बचाव किया जा सकता है. योग में सूर्य नमस्कार का बड़ा महत्व है.

डाक्टर लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, सूर्य नमस्कार से सम्पूर्ण व्यायाम मिलता है. सूर्य नमस्कार 12 तरह के आसनों को मिलाकर किया जाने वाला एक योगासन है. इसमें प्रणमासन, हस्तउत्तनासन, हस्तपादासन, अश्वसंचालानासन, चतुरंग दंडासन, अष्टांह नमस्कार, भुजंगासन सहित अन्य योगासन भी शामिल हैं.
 
ये 12 योगासन शरीर से टॉक्सिन निकालने में मदद करते हैं, जिससे शरीर का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है व रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है. सूर्य नमस्कार रोज प्रातः काल जल्दी उठकर करें तो इससे मन शांत व प्रसन्न रहता है. क्योंकि इसे करते समय सूरज की किरणें सीधे हमारे शरीर पर पड़ती हैं.
 
शरीर में बढ़ता है रक्त संचार
सूर्य नमस्कार में शरीर से हर अंग का संपूर्ण व्यायाम हो जाता है. इससे शरीर के हर अंग में रक्त संचार बढ़ जाता है. रक्त प्रवाह सुचारू होने से शरीर में स्फूर्ति बनी रहती है. सूर्य नमस्कार एंटी बैक्टेरियल तत्व को शरीर में बढ़ाता है.
 
ज्यादा कैलोरी बर्न होती है
लॉकडाउन के दौरान अधिकांश लोग घरों में समय व्यतीत कर रहे हैं. ज्यादा कैलोरी वाले खाने के कारण शरीर में वसा बढ़ती है. ऐसे में यदि शरीर से कैलोरी बर्न करनी है तो सूर्य नमस्‍कार सबसे बढ़िया आसन है. इससे शरीर के हर हिस्से पर जोर पड़ता है, जिससे चर्बी कम होने लगती है व शरीर लचीला भी हो जाता है.
 
पाचन को मजबूत करता है
डाक्टर लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, सूर्य नमस्कार के कुछ आसन ऐसे भी हैं, जिनसे छोटी आंत और बड़ी आंत पर दबाव पड़ता है, जिसके चलते पाचन तंत्र सुचारू रूप से कार्य करना प्रारम्भ कर देता है. खानपान में अनियमितता के कारण लोगों का पाचन भी निर्बल होने कि सम्भावना है. इसलिए सूर्य नमस्‍कार करने से पाचन में सुधार होता है व पेट में हल्कापन रहता है. गैस, अपच, एसिडिटी जैसी समस्या सूर्य नमस्कार करने से दूर हो जाती है.
 
मजबूत होती हैं हड्डियां
चूंकि, सूर्य नमस्कार सूर्य के सामने खड़े होकर किया जाता है, इससे सूरज की किरणों से हमारे शरीर की हड्डियों में विटामिन-डी की पूर्ति होती है. विटामिन डी मिलने के शरीर में कैल्शियम जल्द अवशोषित होता है व हड्डियां मजबूत होती हैं.
 
मानसिक तनाव से मुक्ति
कोरोना की रोज लगातार खबरें देखने के कारण लोगों में मानसिक तनाव भी बढ़ता जा रहा है. इसमें सूर्य नमस्कार से बहुत ज्यादा फायदा होगा. सूर्य नमस्‍कार करने से शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह बढ़ जाता है. दिमाग की कोशिकाएं भी स्फूरित हो जाती हैं, जिससे मानसिक तनाव कम हो जाता है.
 
दूर होती है अनिद्रा की समस्या
लोगों में अनिंद्रा की समस्‍या आम हो गई है तो ऐसे मे सूर्य नमस्‍कार जरूर करना चाहिए. सूर्य नमस्कार करते समय कैलोरी बर्न होने से शरीर में थकान भी आती है, इसलिए जब आराम करते हैं तो नींद भी अच्छे से आती है. यदि सूर्य नमस्कार नियमित तौर पर किया जाए तो अनिद्रा की समस्या हमेशा के लिए दूर हो जाती है. अत: कोरोना महामारी के इस संकट के दौर में खुद को स्वस्थ रखने से लिए नियमित सूर्योदय के समय सूर्य नमस्कार करना बहुत ज्यादा हितकारी होता है.