सेक्स न करने से होते है ये नुक्सान, पढ़े

 सेक्स न करने से होते है ये नुक्सान, पढ़े

क्या आप जानते ही कि हमारे देश में सेक्स को लेकर इतनी हायतोबा मचाई जाती है मानो इस की बात करने पर प्रतिबंध हो. पोंगापंथी और धर्म के ठेकेदार सेक्स को गंदा काम बताते फिरते हैं. यह अलग बात है कि कई मुल्लामौलवी, बाबा और पादरी सैक्सुअल हैरासमैंट और रेप के मामलों में पकड़े जा चुके हैं.

विशेषज्ञों का कहना है कि सच बात तो यह है कि सेक्स एक शारीरिक जरूरत है, जो बेहद स्वाभाविक और प्राकृतिक है. लेकिन धर्म के ठेकेदारों द्वारा फैलाई गई भ्रांतियों और नकली बाबाओं द्वारा दिए गए उलटेसीधे प्रवचनों से प्रभावित हो कर भारतीय महिलाएं सेक्स को एक अधार्मिक क्रिया समझने लगती हैं और खुलेमन से इस का आनंद उठाने के बजाय इस से कतराने लगती हैं.

यौनेच्छा में कमी आने लगती है : वहीं इस बात की खोज में पता चला है कि जब आप सेक्स से कतराने लगते हैं या इस की आदत धीरेधीरे छूटती जाती है तो आप की यौनेच्छा खुदबखुद कम होने लगती है. सेक्स थेरैपिस्ट सारी कूपर कहती हैं, ''एक वक्त ऐसा आता है जब आप सेक्स करना चाह कर भी सेक्स नहीं कर पाते. सेक्स शारीरिक प्रक्रिया से ज्यादा एक मानसिक प्रक्रिया है. आदत छूटने या नियमित इस का उपभोग न करने पर आप का मन सेक्स के लिए तैयार नहीं हो पाता. जब तक मन तैयार नहीं होता, तो तन का साथ देने का सवाल ही नही.