दुनिया के हथियार मार्केट पर है अमेरिका और चाइना का दबदबा, जानें

दुनिया के हथियार मार्केट पर है अमेरिका और चाइना का दबदबा, जानें

पूरे विश्व में हथियार बेचने के मुद्दे में पिछले वर्ष अमेरिका और चाइना की कंपनियों का दबदबा रहा. SIPRI रिसर्च इंस्टीट्यूट ने सोमवार को अपनी एक रिपोर्ट में ये जानकारी दी. खास बात है हथियार बेचने वाली 25 बड़ी कंपनियों में पहली बार मध्य पूर्व के देश ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई. स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिकी हथियार निर्माता कंपनियों ने 2019 में विश्व में 61 प्रतिशत हथियारों की सप्लाई दी. चाइना ने 15.7 प्रतिशत हथियार बेचे.

विश्व की टॉप 25 हथियार कंपनियों की ब्रिकी 2019 में 8.5 प्रतिशत बढ़कर 361 अरब US डॉलर तक पहुंच गई है. ये आंकड़ा संयुक्त राष्ट्र के शांति अभियानों के वार्षिट बजट का 50 गुना है. रिपोर्ट के अनुसार हथियार निर्माताओं में अमेरिका छह और चाइना की तीन कंपनियां टॉप 10 में हैं. लिस्ट में ब्रिटेन की बीएई सिस्टम सातवें जगह पर है.

SIPRI के हथियार और सैन्य खर्च कार्यक्रम डायरेक्टर लूसी बेरूद-सुद्रेयू ने बताया कि हथियारों की वैश्विक ब्रिकी के मुद्दे में अमेरिका और चाइना दो बड़े देश हैं. उनके अनुसार इस मार्केट पर दशकों से अमेरिका दबदबा रहा है. मगर चाइना इस मुद्दे में अब अमेरिका को टक्कर देने की प्रयास में है. चीनी हथियार बनाने वाली कंपनियों ने पिछले वर्ष करीब पांच प्रतिशत अधिक ब्रिकी दर्ज की.

विश्व में हथियार बेचने वाली टॉप कंपनियों में लॉकहीड मार्टिन, बोइंग, नॉर्थ्रॉप ग्रुम्मन, रेथियॉन और जनरल डायनामिक (सभी अमिरिकी) हैं. इसी तरह चाइना की एवीआईसी, सीईटीसी और नोरिनको छठे, आठवें और नौवें जगह पर हैं. अमेरिकी L3 हैरिस टेक्नोलॉजीज दसवें जगह पर है.

खास है कि 25 कंपनियों की लिस्ट में मिडल ईस्ट की एक कंपनी शामिल हुई है. ये कंपनी संयुक्त अरब अमीरात की EDGE है जिसें वर्ष 2019 ही स्थापित किया गया था. EDGE लिस्ट में 22वें जगह पर है. लिस्ट में रूस की कंपनी अल्माज एनटी 15वें और यूनाइटेड शिपबिल्डिंग 25वें जगह पर हैं.


NASA का मार्स हेलीकॉप्टर अपनी पहली उड़ान रविवार को भरेगा, जानें

NASA का मार्स हेलीकॉप्टर अपनी पहली उड़ान रविवार को भरेगा, जानें

नासा का इंजेंविनिटी मार्स हेलीकॉप्टर इतिहास रचने में सिर्फ दो दिन दूर है। पहला मौका होगा जब दूसरे ग्रह पर एक विमान के संचालन, नियंत्रित उड़ान में मानवता को कामयाबी मिलने वाली है। यदि सब योजना के अनुसार होता है, तो 4-पाउंड (1.8-किग्रा) रोटरक्राफ्ट रविवार को दोपहर 12:30 बजे (मंगल स्थानीय समय) मंगल के जेजेरो क्रेटर से उड़ान भरेगा। बताया गया कि ये 30 सेकंड तक सतह से 10 फीट (3 मीटर) ऊपर चलेगा।

दक्षिणी कैलिफोर्निया में नासा की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी के मिशन कंट्रोल विशेषज्ञों को उम्मीद है कि अगले दिन सुबह 4:15 बजे ईडीटी (1:15 बजे पीडीटी) से पहली उड़ान का प्रयास किया जाएगा। नासा टीवी टीम के लाइव कवरेज को प्रसारित करेगा।  ये फ्लाइट सुबह 3:30 EDT (अमेरिका के स्‍थानीय समयानुसार) या 12:30 PDT (पेसेफिक डेलाइट टाइम) पर होगी।

नासा इस हेलीकॉप्‍टर की टेस्ट फ्लाइट के लिए पूरी तरह से तैयार है। नासा ने इसके रोटर को घुमाकर भी चेक किया है। ये बिल्‍कुल सही से काम कर रहा है। नासा ने एक ट्वीट के जरिए ये जानकारी दी है। रोवर परसिवरेंस की तरफ से किए गए इस ट्वीट में कहा गया है कि मेरे पास इस फ्लाइट को देखने और निगाह बनाए रखने के लिए जूमिंग कैमरे होंगे। आप हेलीकॉप्‍टर इंजेंविनिटी को मेरे नेविगेशन कैमरों से देख सकते हैं।


मार्स हेलिकॉप्टर एक उच्च जोखिम, उच्च प्रौद्योगिकी का प्रमाण है। यदि इंजेंविनिटी को अपने 30-सोल (Martian day) मिशन के दौरान कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, तो यह NASA के दृढ़ता मंगल रोवर मिशन की विज्ञान सभा को प्रभावित नहीं करेगा। 

क्यों है खास?

बता दें कि आज तक दुनिय में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ है कि पृथ्वी के अलावा किसी और ग्रह पर हेलिकॉप्टर उड़ा हो। वहीं, मंगल की सतह से उड़ने का मतलब है कि पृथ्वी पर 30,000 मीटर की ऊंचाई पर उड़ रहे हों। यह ऐतिहासिक उपलब्धि होगी। 

इस पथरीले ग्रह की सतह पर हेलीकॉप्‍टर इंजेंविनिटी करीब 30 दिनों तक उड़ान भरकर यहां की जानकारियां जुटाएगा। ये तीस दिन मंगल ग्रह के हिसाब से होंगे। फ्लाइट के दौरान इंजेंविनिटी को मार्स रोवर का पूरा सपोर्ट भी मिलता रहेगा। ये इमेज क्लिक करने से लेकर वहां के वातावरण से डाटा एकत्रित करने का भी काम करेगा और इससे जुटाई गई जानकारी को नासा के कंट्रोल रूम में भेजेगा।


CM योगी ने यूपी में 10 नए ऑक्सीजन प्लांट लगाने का निर्देश दिया, 6 करोड़ से ज्यादा खर्च होंगे       यूपी: साप्ताहिक बंदी के दौरान इन उद्योगों को सरकार ने दी राहत, पहले से तय शादियों में भी शर्तों के साथ छूट       HC के चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने की CM योगी की तारीफ, कहा...       उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर, बीते 24 घंटे में 120 की मौत, 27357 नए संक्रमित       विटामिन सी से भरपूर चीजों को करें डाइट में शामिल और रहें इंफेक्शन से दूर       इंफेक्शन से रहना हो दूर या पेट दर्द की समस्या से चाहिए छुटकारा, हल्दी है इन सबका कारगर इलाज       अच्छे खानपान के साथ इन चीजों का भी रखेंगे ध्यान तो बने रहेंगे लंबे समय तक हेल्दी       घर पर आसानी से बनाएं ये 5 अलग-अलग किस्म की चाय       कोरोना वायरस में हल्के, मामूली और गंभीर लक्षणों को कैसे पहचानें?       किसी भी उम्र में हो सकता है डायबिटीज, जानें इसकी वजहें, लक्षण, बचाव व उपचार       वैज्ञानिक ने की पुष्टि, सूंघने और स्वाद के भाव का खोना है COVID-19 का शुरुआती लक्षण       इन चीजों के सेवन से शरीर में नहीं होगी पानी की कमी, दूर रहेंगी बीमारियां       अस्थमा के मरीज कोरोना वायरस से बचने के लिए ये टिप्स अपनाएं       कहीं आप भी तो नहीं कर रहे मास्क पहनने में ये 5 ग़लतियां?       बढ़ते वजन से हैं परेशान तो ब्रेकफास्ट में इन चीजों को जरूर जोड़ें       एक्सपर्ट से जानें क्या होता है पैनिक डिसऑर्डर, इसके लक्षण बचाव एवं उपचार के बारे में       लगातार मास्क पहनने से त्वचा में होने वाली परेशानियों को ऐसे करें दूर       इस तरह बनाएं अपना डाइट प्लान, आपका वजन भी रहेगा कंट्रोल       पुरानी बीमारियों से छुटकारा के लिए ड्रैगन फ्रूट खाएं, इसके ये हैं फायदे       'शांति' बन घर-घर में मशहूर हुई थीं मंदिरा बेदी, अपनी प्रेग्नेंसी की वजह से हमेशा रहीं चर्चा में