अमेरिका ने विदेशों विद्यार्थियों को राहत देते हुए वह आदेश लिया वापस

अमेरिका ने विदेशों विद्यार्थियों को राहत देते हुए वह आदेश लिया वापस

अमेरिका (America) ने विदेशों विद्यार्थियों को राहत देते हुए वह आदेश वापस ले लिया है, जिसमें बोला गया था औनलाइन क्लास लेने वाले विद्यार्थियों को उनके देश वापस जाना होगा। 

अमेरिकी इमीग्रेशन व कस्टम विभाग (US Immigration and Custom Enforcement) ने मंगलवार को यह जानकारी दी। ट्रंप प्रशासन के इस निर्णय से भारतीय स्टूडेंट सहित बड़ी संख्या में विद्यार्थियों को राहत मिली है।   

पिछले सप्ताह इमीग्रेशन व कस्टम विभाग ने यह घोषणा की थी कि नॉन इमिग्रेंट F-1 व M-1 विद्यार्थी जिनकी कक्षाएं पूरी तरह से औनलाइन हो रही हैं, उन्हें अब देश में रहने की इजाजत नहीं होगी। ऐसे जो भी स्टूडेंट अमेरिका में हैं, उन्हें वापस अपने देश जाना होगा या ऐसे स्कूल में दाखिला लेना होगा जहां ऑफलाइन कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। वरना उनके विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी’।    

ट्रंप प्रशासन के इस आदेश की आलोचना हुई थी व कुछ संस्थानों ने इसके विरूद्ध न्यायालय का दरवाजा खटखटाया, जिसमें हार्वर्ड, मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी भी शामिल हैं। इसी के चलते सरकार को पीछे हटना पड़ा है। सरकार की तरफ से बोला गया है कि चूंकि इस निर्णय को न्यायालय में चुनौती दी गई है, इसलिए वैसे इस पर रोक लगा दी गई है। हालांकि, डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी (डीएचएस) के एक ऑफिसर ने बताया कि सरकार आने वाले हफ्तों में इस विषय में एक अधिनियम ला सकती है।  

गौरतलब है कि अधिकतर अमेरिकी कॉलेज व विश्वविद्यालय विदेशी विद्यार्थियों से मिलने वाली भारी-भरकम फीस पर निर्भर हैं, ऐसे में यदि सरकार के आदेश के चलते उन्हें वापस अपने देश लौटना पड़ता है, तो संस्थानों को बहुत ज्यादा नुकसान उठाना पड़ेगा। इसीलिए उन्होंने सरकार के निर्णय को न्यायालय में चुनौती दी है। उनका आरोप है कि प्रशासन ने यह आदेश बिना किसी सूचना के दिया। इससे ऐसा लगता है कि कॉलेज व विश्वविद्यालयों पर कक्षाएं फिर से खोलने का दबाव बनाया जा रहा है

मामले की सुनवाई के दौरान, जिला जज एलीसन बरोज (Allison Burroughs) ने बोला कि सरकार ने अपना पुराना निर्णय रद्द कर दिया है व कार्रवाई को तुरंत रोकने पर भी सहमति दे दी है। वहीं, सरकार के वीजा संबंधी नियमों को अलग से चुनौती देने वाले कैलिफोर्निया के अटॉर्नी जनरल जेवियर बेसेरा (Xavier Becerra) ने कहा, ‘ट्रंप प्रशासन के मनमाने फैसलों ने विद्यार्थियों व सारे समुदाय के स्वास्थ्य को खतरे में डाल दिया है। इस संकट की घड़ी में सरकार को लोगों के ज़िंदगी को खतरे में डालकर संसाधनों को बर्बाद करने की आवश्यकता नहीं है’।