इमरान खान को सत्ता में लाने के लिए नवाज शरीफ को फंसाया गया, चीफ जस्टिस बोले- मुझपर दबाव था

इमरान खान को सत्ता में लाने के लिए नवाज शरीफ को फंसाया गया, चीफ जस्टिस बोले- मुझपर दबाव था

पाकिस्तान में एक कथित वायरल ऑडियो टेप ने सियासत में भूचाल ला दिया है। कुछ सेकेंड के इस ऑडियो टेप में जो खुलासा हुआ है वह इमरान खान की मुश्किलें बढ़ा सकती हैं। दरअसल, इस टेप में बताया गया है कि तीन साल पहले इमरान खान को सत्ता में लाने में फौज का हाथ था। इमरान खान को न ही इतने वोट मिले थे कि उनकी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार बना पाती। वायरल ऑडियो टेप में पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस साकिब निसार किसी अनजान शख्स से बात कर रहे हैं कि उनपर उस समय के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम नवाज को सजा देने का दबाव था, ताकि इमरान खान को सत्ता में लाया जा सके।

हमारे यहां ऐसे ताकतवर फौज हैं जो जजों को आदेश जारी करते हैं: चीफ जस्टिस निसार
वायरल ऑडियो में जस्टिस निसार सामने वाले शख्स से कह रहे हैं कि मैं बहुत स्पष्ट कहना चाहता हूं कि बदकिस्मती से हमारे यहां ऐसे ताकतवर फौज हैं जो जजों को आदेश जारी करते हैं। अब ये कह रहे हैं कि नवाज शरीफ को सजा देनी है, क्योंकि हमें इमरान खान को लाना है। शख्स कहता है कि- नवाज शरीफ को सजा ठीक है, लेकिन बेटी को सजा नहीं दी जानी चाहिए। इस पर जस्टिस निसार कहते हैं- हां, इससे तो ज्यूडिशियरी पर भी सवाल उठेंगे।

पाकिस्तान की मशहूर यूट्यूबर ने जारी किया है टेप
पाकिस्तान की मशहूर यूट्यूबर और जर्नलिस्ट आलिया शाह ने इस टेप को सामने लाया है। आलिया ने कहा कि इसे आप छोटा टेप समझने की गलती न करें। आने वाले दिनों में यह टेप पूरा सामने आएगा और पाकिस्तान की सियासत की सच्चाई सामने लाएगा। अब तक खुद को पाकसाफ बताने वाले फौज की कलई भी मुल्क के सामने खुल जाएगी।  


अमेरिका को चीन से सबसे अधिक खतरा, टक्कर देने के लिए व्हाइट हाउस ने बनाया ये प्लान

अमेरिका को चीन से सबसे अधिक खतरा, टक्कर देने के लिए व्हाइट हाउस ने बनाया ये प्लान

अमेरिका ने भी मान लिया है कि अगर उसे सबसे अधिक किसी देश से खतरा है तो वह चीन है। वहीं दूसरे और तीसरे विरोधी के रूप में रूस और ईरान को माना है। इन तीनों देशों को टक्कर देने के लिए अमेरिकी रक्षा विभाग गुआम और ऑस्ट्रेलिया में सैन्य सुविधाओं का उन्नयन और विस्तार करेगा। इसके अलावा अमेरिका ने ऑस्ट्रेलिया और प्रशांत क्षेत्र के कई दीपों पर इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण करवाने और रोटेशपल बेस पर एयरक्राफ्ट की तैनाती की योजना बनाई है। इतना ही नहीं चीन की तानाशाही को रोकने के लिए अमेरिका ने अपने मित्र देशों के साथ गठजोड़ कर सहयोग नीति के जरिए काम करने की अपील की है। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए कहा है कि सितंबर में ही इसका खाका तैयार कर लिया गया था।

अमेरिका ने ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया से गठबंधन के बाद उठाया ये कदम
अमेरिका ने यह कदम ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक नए रक्षा गठबंधन के गठन  के बाद उठाया है। दरअसल, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और अमेरिका ने हाल ही में एक त्रिपक्षीय सुरक्षा समझौते की घोषणा की है, जिसे 'ऑकस' (AUKUS) का संक्षिप्त नाम दिया गया है। अमेरिका की ओर से हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति व्यवस्था को कायम रखने के लिए ये कदम उठाया गया है। चीन और अमेरिका के बची कई मुद्दों को लेकर विवाद है। अमेरिका हमेशा से ही चीन में जारी मानवाधिकार उल्लंघन के अलावा ताइवान और दक्षिणी चीन सागर का मुद्दा उठाता आया है।

रूसी आक्रमण के खिलाफ हमारी योजना: अमेरिका
पेंटागन के एक अधिकारी ने बताया कि अमेरिका का यह कदम यूरोप में रूसी आक्रमण के खिलाफ योजना को मजबूत करता है और नाटो बलों को अधिक प्रभावी ढंग से संचालित करने में सक्षम बनाता है। अधिकारी ने कहा कि बाइडन प्रशासन ने अपने पूर्ववर्ती डोनाल्ड ट्रम्प के विघटनकारी दृष्टिकोण के बाद समीक्षा को आवश्यक महसूस किया, जिसने अमेरिकी प्रतिबद्धताओं को अचानक बदल दिया।