जो बाइडेन की टीम में भारतीय को मिला स्थान, नीरा टंडन को बजट विभाग का जिम्मा

जो बाइडेन की टीम में भारतीय को मिला स्थान, नीरा टंडन को बजट विभाग का जिम्मा

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन की टीम में भारतीय को स्थान मिली है। जो वाइडेन ने भारतीय मूल की अमेरिकी नीरा टंडन को व्हाइट हाउस में टॉप पॉजिशन पर प्रबंधन एवं बजट ऑफिस निदेशक (Director of Office of Management and Budget) के तौर पर नामित किया है।

इस नियुक्ति को सीनेट से पुष्टि मिलनी बाकी है। यदि सीनेट इस नियुक्ति पर अपनी मुहर लगा देती है तो 50 वर्षीय नीरा टंडन व्हाइट हाउस में इतने बड़े पद पर बैठने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी महिला होंगी। इसके साथ ही वो ऐसी प्रथम महिला होंगी जो श्वेत नहीं होगी और इस पद पर आसीन होंगी। इस पद पर नीरा टंडन के पास बाइडेन प्रशासन का बजट संभालने का जिम्मा होगा। बता दें कि कोविड-19 महामारी के बाद अमेरिका के हेल्थ केयर के क्षेत्र में बड़ी चुनौतियां है। नीरा टंडन के सामने बजट, नौकरी, अंतर्राष्ट्रीय अनुदान के बीच तालमेल बिठाने की चुनौती होगी।

इस पद पर उन्हें बजट बनाने और उसे कार्यान्वित करने, सरकारी स्वीकृति दिलाने, सरकारी बाधाओं को पास कराने और राष्ट्रपति ऑफिस से समन्वय बिठाने की जिम्मेदारी होगी। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि टंडन वर्तमान में वामपंथी झुकाव वाले 'सेंटर फॉर अमेरिकन प्रोग्रेस की प्रमुख कार्यकारी ऑफिसर हैं। इसके अतिरिक्त वे अमेरिकन प्रोग्रेस एक्शन फंड की भी CEO हैं।


तिब्बत पर कानून बनाकर अमेरिका ने दी चीन को चुनौती, भारत को चीन से वार्ता में मिलेंगे ज्यादा विकल्प

तिब्बत पर कानून बनाकर अमेरिका ने दी चीन को चुनौती, भारत को चीन से वार्ता में मिलेंगे ज्यादा विकल्प

अमेरिका ने तिब्बत पर कानून बनाकर इस पर्वतीय इलाके पर चीन के अधिकार को सीधी चुनौती दे दी है। चीन यहां 50 साल से ज्यादा समय से लगातार उत्पीड़न कर रहा है। वहां की सांस्कृतिक पहचान नष्ट करने के लिए सुनियोजित चालें चल रहा है। तिब्बत के आध्यात्मिक प्रमुख दलाई लामा ने भारत में शरण ली हुई है और उनके संरक्षकत्व में यहीं से तिब्बत की निर्वासित सरकार कार्य कर रही है।

अमेरिका ने की तिब्बत में चीन के उत्पीड़न को रोकने की शुरुआत

अमेरिका ने हाल ही में द टिबेटन पॉलिसी एंड सपोर्ट एक्ट (टीपीएसए) बनाकर तिब्बत में चीन के उत्पीड़न को रोकने की शुरुआत कर दी है। इससे पहले तिब्बत की निर्वासित सरकार के प्रधानमंत्री को अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने आमंत्रित किया था और उनके साथ आधिकारिक वार्ता की थी। चीन ने इस पर कड़ा विरोध जताया था।


भारत को चीन से वार्ता में अब ज्यादा विकल्प मिलेंगे 

थिंक टैंक यूरोपियन फाउंडेशन फॉर साउथ एशियन स्टडीज (ईएफएसएएस) ने कहा है कि अमेरिकी कानून ने भारत के लिए चीन से भविष्य के संबंध तय करने के लिए बातचीत के विकल्पों को बढ़ाया है। भारत इस कानून का हवाला देकर चीन के साथ तिब्बत मसले पर कड़ाई के साथ बात कर सकता है। भारत को इस मामले में अब अमेरिका का साथ मिलना भी तय हो गया है।


तिब्बत के लिए चलने वाला अंतरराष्ट्रीय अभियान

अमेरिकी संसद में टीपीएसए को सत्ता पक्ष और विपक्ष का मजबूत समर्थन मिला। इससे संबंधित प्रस्ताव को प्रतिनिधि सभा में सांसद जेम्स मैकगवर्न और क्रिस स्मिथ ने रखा था। जबकि सीनेट में मार्को रूबियो और बेन कार्डिन ने पेश किया था। तिब्बत के लिए चलने वाला अंतरराष्ट्रीय अभियान का मानना है कि टीपीएसए पर्वतीय राष्ट्र को लेकर अमेरिकी नीति का नया अध्याय है।मध्य एशिया का स्वतंत्र देश तिब्बत में चीन कर रहा उत्पीड़न

एक समय मध्य एशिया का यह स्वतंत्र देश अब दुनिया के सबसे ज्यादा उत्पीड़न झेल रहे इलाकों में से एक है। तिब्बत में यह उत्पीड़न चीन कर रहा है। टीपीएसए दलाई लामा के उत्तराधिकारी के चयन के मामले में तिब्बती बौद्ध समुदाय का फैसला सर्वोपरि मानता है।

अमेरिका दलाई लामा के उत्तराधिकारी के चयन प्रक्रिया में चीन के हस्तक्षेप को नहीं देता मान्यता

अमेरिका दलाई लामा के उत्तराधिकारी के चयन प्रक्रिया में चीन सरकार के हस्तक्षेप को मान्यता नहीं देता। इस तरह के हस्तक्षेप में चीन का जो भी अधिकारी शामिल होगा, निश्चित रूप से उसे अमेरिका का प्रतिबंध झेलना होगा।


शराब पर बैन, खरीदने-बेचने पर 1000 जुर्माना       एक्सप्रेस-वे पर भीषण हादसा, आपस में टकराईं 10 से ज्यादा गाड़ियां       पाकिस्तान का हमला! अंधेरे में तड़तड़ाई गोलियां, श्रीनगर में गूंजी चीखें       आमने -सामने से भिड़ी गाड़ियां, जोरदार टक्कर में 13 घायल       कंपकपाती ठंड का अलर्टः घने कोहरे- बर्फीली हवाओं का सितम जारी       बंगाल में भाजपा के खिलाफ ममता की बड़ी रणनीति, रथयात्राओं का जवाब पदयात्राओं से       ट्रेन में डिलिवरी, 3 Idiots का रेंचो बना लैब टेक्निशन       अभी अभी: पीएम मोदी ने गुजरात को एक बार फिर से दिया बड़ा तोहफा       ITBP का कमाल, नक्सल प्रभावित जिले में शुरू किया ‘स्मार्ट’ स्कूल       PF Pension पर फैसला, सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई       रंगोली बनाकर हुआ बाइडन और हैरिस का स्वागत, 1800 से ज्यादा लोगों ने लिया हिस्सा       तिब्बत पर कानून बनाकर अमेरिका ने दी चीन को चुनौती, भारत को चीन से वार्ता में मिलेंगे ज्यादा विकल्प       उपराष्ट्रपति पेंस ने निर्वाचित राष्ट्रपति को किया आगाह, कहा...       अमेरिकी संसद हमले में कहीं चीन, रूस और ईरान का तो नहीं है हाथ, FBI कर रही छानबीन       पाकिस्तान में सरकारी एजेंसियां कर रहीं मानवाधिकारों का उल्लंघन, सीनेट उपाध्यक्ष करेंगे अंतरराष्ट्रीय संगठनों से संपर्क       तनावपूर्ण संबंधों के बीच कोरोना वैक्सीन पर भारत की तरफ पाकिस्तान का रुख, जानें       पाकिस्‍तान के जब्त विमान के मामले में ब्रिटेन और मलेशिया कोर्ट में पेश होगा पीआइए       इमरान पर कार्रवाई नहीं करने से चुनाव आयोग पर भड़के शरीफ, लगाया बड़ा आरोप       पांच महीने जर्मनी में इलाज कराकर रूस लौटते ही पुतिन के कटु आलोचक नवलनी हुए गिरफ्तार, जानें       ईरान बना रहा है विध्‍वंसक परमाणु हथियार, फ्रांस के विदेश मंत्री ने किया सनसनीखेज खुलासा