बेरहम ज्‍वालामुखी ने दहलाया फिलीपींस के मनीला को, हुए एक के बाद एक धमाके

 बेरहम  ज्‍वालामुखी ने दहलाया फिलीपींस के मनीला को, हुए  एक के बाद एक धमाके

पिछले कई दिनों से लोगों में आपदा को लेकर भय दढ़ता ही जा रहा है व आज के समय में हर कोई इस बात से परेशान ही है कि वह आखिर करें तो क्या करें फिर भी कोई न कोई इस बात कि समाचार सामने ही जाती है जो फिर से डरा देती है वहीं भूकंप के झटकों के बीच करीब ढाई हजार फीट से भी अधिक ऊंचा उठता धुआं, धमाकों के बीच आए भूकंप के झटके, हवा में फैलती चारों तरफ गरम राख व इसकी दहशत से भागते हुए लोग। ये नजारा फिलीपींस के मनीला का है। इन सभी तस्‍वीरों के पीछे है यहां का बेरहम ताल ज्‍वालामुखी,जो चार दशक बाद फिर आग उगल रहा है। 

इतिहास गवाह है कि जब-जब ये ज्‍वालामुखी फटा है, कई जिंदगियां इसकी भेंट चढ़ी हैं। इसकी वजह से मनीला के अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे को बंद कर दिया गया है।

दर्दनाक इतिहास: सूत्रों से इस बात कि जानकारी मिली है कि इसका इतिहास बेहद भयावह रहा है। कहने को तो ये संसार के सबसे छोटे ज्‍वालामुखियों में शामिल किया जाता है लेकिन 1911 में इस ज्‍वालामुखी का सबसे उग्र रूप देखने को मिला था। उस वक्‍त 1300 से ज्‍यादा जिंदगी इसकी भेंट चढ़ गई थीं। 1756 में इसकी दहशत में यहां के लोगों ने छह माह गुजारे थे। रह-रहकर इस ज्‍वालामुखी से गरम राख निकलती रही थी। इसकी चपेट में बहुत ज्यादा बड़ा क्षेत्र आया था।

ताल की दहशत: वहीं यह भी बोला जा रहा है कि 1965 में भी ज्‍वालामुखी के फटने से 190 लोगों की मृत्यु हो गई थी। जंहा दशकों से ये ज्‍वालामुखी अपनी इस राख व लावा से यहां के लोगों का ज़िंदगी नरक बनाए हुए है। वहीं सन 1966, 1967,1968, 1977 में भी इस ज्‍वालामुखी में धमाके हो चुके हैं। वर्तमान में भी इसकी वजह से दस हजार लोग दहशत के साए में हैं।