अफगानिस्‍तान संकट को लेकर अपनी ही पार्टी में घिरे राष्‍ट्रपति बाइडन, लोकप्र‍ियता ग्राफ में बड़ी गिरावट

अफगानिस्‍तान संकट को लेकर अपनी ही पार्टी में घिरे राष्‍ट्रपति बाइडन, लोकप्र‍ियता ग्राफ में बड़ी गिरावट

अफगानिस्‍तान में अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद राष्‍ट्रपति जो बाइडन की लोकप्रियता में गिरावट आई है। हालांकि, पूर्व में अफगानिस्तान से सेना बुलाने का समर्थन न केवल डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता कर रहे थे, बल्कि विपक्षी पार्टी रिपब्लिकन के ज्यादातर सदस्य कर रहे थे। लेकिन अब हालात पूरी तरह से बदल चुके हैं। अब अफगानिस्‍तान के मामले में राष्‍ट्रपति बाइडन को सेना के दिग्गज अधिकारियों और अपनी ही पार्टी के सदस्‍यों का विरोध झेलना पड़ रहा है। बाइडन के राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार उनकी रेटिंग 50 फीसद से नीचे गिर गई है। इसके चलते अगले साल होने वाले महत्वपूर्ण मिड टर्म चुनाव में पार्टी की स्थिति कमजोर हो सकती है।

अफगान समस्‍या को निपटाने में राष्‍ट्रपति बाइडन से हुई चूक

अमेरिका में इस बात की चर्चा जोरों पर है कि अफगानिस्‍तान की समस्‍या को निपटाने में राष्‍ट्रपति बाइडन से चूक हुई है। यह कहा जा रहा है कि इस समस्‍या का निस्‍तारण और बेहतर ढंग से किया जा सकता था। राष्‍ट्रपति बाइडन की डेमोक्रेटिक पार्टी के कई सदस्‍य उनके फैसले के खिलाफ है। उन्‍होंने कहा कि राष्‍ट्रपति ने आश्वासन दिया था कि सैनिकों के जाने से पहले कोई भी अमेरिकी अफगानिस्‍तान में नहीं फंसेगा, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। अभी भी सौ से अधिक अमेरिकी नागरिक फंसे हैं। इसके अलावा कई अन्‍य देशों के नागरिक अफगानिस्‍तान में फंसे हुए हैं।

डेमोक्रेटिक पार्टी दो विरोधी खेमे में विभक्‍त

बाइडन को लेकर डेमोक्रेटिक पार्टी में दो विरोधी खेमे बन गए हैं। कई डेमोक्रेटिक नेता अफगानिस्‍तान में अमेरिकी सैनिकों की तैनाती के पक्ष में हैं। वहीं, बर्नी सैंडर्स के नेतृत्व में वामपंथी डेमोक्रेटिक नेता इसके खिलाफ हैं। दोनों ही बाइडन को घेर रहे हैं। बर्नी सेंडर्स धड़े के नेता रो खन्ना ने सेना वापसी को शेखी बघारने जैसा कदम बताया है। सीनेट की विदेश संबंधी समिति के अध्यक्ष बाब मेनेंडेज ने कहा कि राष्‍ट्रपति के फैसले से मैं निराश हूं। उन्‍होंने कहा कि हमें खुफिया विफलताओं के भयावह परिणाम सामने दिख रहे हैं। सीनेट में सशस्त्र सेवाओं के अध्यक्ष जैक रीड ने कहा कि हम पता करेंगे कि आखिर गलती कहां हुई। सीनेट की विदेश नीति समिति के सदस्य बेन कार्डिन कहते हैं कि अमेरिका के लिए यह एक धब्बा है। इससे अमेरिकी हितों को नुकसान होगा।

42 फीसद अमेरिकी मानते हैं कि बाइडन पूरी तरह नाकाम रहे

सितंबर में हुए ज्यादातर सर्वे में राष्‍ट्रपति बाइडन की अप्रूवल रेटिंग 50 फीसद से नीचे गिर गई है। 42 फीसद लोग इस बात को मजबूती से कह रहे हैं कि अफगानिस्तान में बाइडन पूरी तरफ से नाकाम रहे हैं। 2024 के राष्ट्रपति चुनाव के लिए डोनाल्ड ट्रंप ने बाइडन पर बढ़त बना ली है। उधर, अब लोग कोरोना पर भी बाइडन को घेर रहे हैं। अमेरिका में प्रतिदिन 1.5 लाख केस सामने आ रहे हैं और 1500 मौतें हो रही हैं। बाइडन के फैसले के बाद डेमोक्रेट्स इस बात से च‍िंतित हैं कि इस विनाशकारी वापसी ने मिड टर्म चुनाव में उनकी पकड़ कमजोर कर दी है। अधिकांश डेमोक्रेट पत्रकारों को ऑफ द रिकार्ड बता रहे हैं कि यह बाइडन प्रशासन का सबसे कठिन पल है। उनका मानना है कि रिपब्लिकन पार्टी के पास कोई मुद्दा नहीं था, लेकिन इस वापसी से उनके हाथ एक शक्तिशाली ‘गोला बारूद’ लग गया है।


बाइडन नीति की सेना में हो रही है निंदा

अफगानिस्‍तान से अमेरिकी सैनिकों को बुलाने को लेकर सबसे बड़ा निशाना सेना के पूर्व अफसरों ने साधा है। वर्ष 2009 में अफगानिस्तान में एक खदान में डैन बर्शिंस्की के पैर उड़ गए थे। उन्होंने कहा कि मैं इस बात से निराश हूं कि बाइडन प्रशासन के पास अफगानिस्‍तान की समस्‍या से निपटने की कोई योजना नहीं थी। इसलिए हर स्तर पर आलोचना होनी चाहिए। अफगानिस्तान में 2012 में अमेरिकी मरीन रहे माइकल बायड का कहना है कि जमीन पर सामरिक हालात के लिए हमेशा कमांडर-इन-चीफ ही जिम्मेदार होता है। इस नाकामी की जिम्मेदारी बाइडन को लेनी चाहिए। वह बाइडेन के इस तर्क को भी खारिज करते हैं कि अफगानिस्तान से निकलते समय अराजकता की पहले ही आशंका थी। उन्‍होंने कहा कि यह बकवास है। 20 साल बाद हमें पीठ नहीं दिखानी चाहिए थी।


अफगानिस्तान में लौटेगा मौत की सजा का दौर, तालिबानी नेता मुल्ला नूरुद्दीन तुराबी का बयान

अफगानिस्तान में लौटेगा मौत की सजा का दौर, तालिबानी नेता मुल्ला नूरुद्दीन तुराबी का बयान

अफगानिस्तान में तालिबान की सत्ता में वापसी के बाद अब कट्टर इस्लामी कानूनों को लागू किया जाएगा। तालिबान के संस्थापकों में से एक और पूर्व कार्यकाल में इस्लामी कानूनों को कठोर व्याख्या के साथ लागू करने करने वाले एक प्रमुख प्रवर्तक ने कहा कि अफगानिस्तान में फिर से फांसी देने और हाथ काटने जैसी सजाएं देने का दौर लौटेगा। द एसोसिएटेड प्रेस के साथ एक साक्षात्कार में, मुल्ला नूरुद्दीन तुराबी ने अतीत में तालिबान के फांसी देने के तरीके पर दुनिया के ऐतराज को खारिज कर दिया है।

उल्लेखनीय है तालिबान के पिछले कार्यकाल में अक्सर चोरी करने वालों के हाथ काटने जैसी सजाएं स्टेडियम में भीड़ के सामने दी जाती थीं। तुराबी ने दुनिया को अफगानिस्तान के नए शासकों के मामले में हस्तक्षेप करने के खिलाफ चेतावनी दी।तुराबी ने कहा, स्टेडियम में दंड के लिए सभी ने हमारी आलोचना की। लेकिन हमने कभी उनके कानूनों और सजा देने के तरीके के बारे में कुछ नहीं कहा। हम नहीं चाहते कि कोई हमें बताए कि हमारे कानून क्या होने चाहिए। हम इस्लाम का पालन करेंगे और कुरान के मुताबिक अपने कानून बनाएंगे।


अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे से अमेरिका को सताने लगा हमले का डर

फेडरल ब्यूरो आफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआइ)के निदेशक क्रिस्टोफर रे ने चेतावनी दी कि अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा अमेरिका स्थित चरमपंथियों को अमेरिकी जमीन पर हमले की साजिश रचने के लिए प्रेरित कर सकता है। रे ने मंगलवार को सीनेट होमलैंड सिक्योरिटी एंड गवर्नमेंटल अफेयर कमेटी के समक्ष यह आशंका जाहिर की।दि हिल की रिपोर्ट के मुताबिक, रे ने कहा कि 2020 के मध्य से घरेलू आतंकवाद के मामले आसमान छू रहे हैं। मामले एक हजार से 2700 तक पहुंच गए हैं, जिनकी जांच अभी जारी है। चरमपंथी संगठनों ने कभी भी अमेरिकी जमीन पर हमलों की साजिश रचना बंद नहीं किया है।


इतना ही नहीं, नेशनल काउंटरटेररिज्म सेंटर के निदेशक क्रिस्टाइन अबीजेद ने भी कमेटी के समक्ष कहा कि दो दशक पूर्व की तुलना में अमेरिका में आतंकी हमलों की आशंका अधिक बढ़ गई है। अबीजेद ने यह भी कहा कि अमेरिकी अधिकारियों को इस बात पर ध्यान देना होगा कि अल-कायदा और इस्लामिक स्टेट किस प्रकार अपनी ताकत में इजाफा कर सकते हैं और अमेरिका में हमलों की साजिश रच सकते हैं।