एक तरफ व्हाइट हाउस में इजराइल-बहरीन-यूएई शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए जा रहे थे तो दूसरी तरफ इजराइल पर हमास ने रॉकेट बरसाए

एक तरफ व्हाइट हाउस में इजराइल-बहरीन-यूएई शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए जा रहे थे तो दूसरी तरफ इजराइल पर हमास ने रॉकेट बरसाए

येरूसलम: एक तरफ व्हाइट हाउस में इजराइल-बहरीन-यूएई शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए जा रहे थे, तो दूसरी तरफ इजराइल (Israel) पर उसी समय हमास (Hamas) ने रॉकेट बरसाए। ये रॉकेट हमले गजा पट्टी के अंदर से किए गए। जानकारी के मुताबिक एक तरफ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की मध्यस्थता में इजराइल-बहरीन-यूएई शांति समझौते के मसौदे पर हस्ताक्षर करने वाले हैं, तो उससे अच्छा पहले इजराइल पर हमला किया गया, जो क्षेत्रीय शांति के लिए बड़ा खतरा है।

हमले में दो इजराइली नागरिक घायल
गजा पट्टी से किए गए रॉकेट हमले में दो इजराइली नागरिक घायल हो गए। इजराइल की सेना ने बोला कि एक रॉकेट को इजराइल के आयरन डोम एंटी मिसाइल सिस्टम (Iron Dome anti-missile system) ने इंटरसेप्ट करके हवा में ही नष्ट कर दिया था। लेकिन एक रॉकेट सीमा में गिरा, जिसमें दो नागरिक घायल हो गए।

अमेरिका का मध्यस्थता में शांति समझौता, इजराइल को मिली यूएई-बहरीन की मान्यता
अमेरिका से राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मध्यस्थता में इजरायल-बहरीन-यूएई के शीर्ष नेतृत्व ने शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए। इसके लिए व्हाइट हाउस (White House) में प्रोग्राम का आयोजन हुआ, जिसमें यूएई के विदेश मंत्री अब्दुल्लाह बिन जायेद अल-नहयान (UAE foreign minister Abdullah bin Zayed Al-Nahyan) , बहरीन के विदेश मंत्री अब्दुल्लातिफ अल-जयानी (Bahrain foreign minister Abdullatif al-Zayani) व इजराइल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) उपस्थित रहे। इन नेताओं ने द्विपक्षीय शांति समझौतों पर हस्ताक्षर किए व फिर डोनाल्ड ट्रंप के साथ साझे वक्तव्य जारी किए। इस प्रोग्राम में डोनाल्ड ट्रंप ने बोला कि दशकों के लड़ाई - झगड़े व तनाव के बाद अब से मिडिल ईस्ट में नयी आरंभ हुई है। हम आज यहां इतिहास बदलने के लिए आए हैं।

फिलीस्तीनी लोगों ने किया प्रदर्शन
चारों राष्ट्रों के प्रमुख नेताओं के बीच शांति समझौते पर हस्ताक्षर का फिलिस्तीनी नागरिकों ने विरोध किया है। वेस्ट बैंक के नेबुलस, हेब्रोन शहरों में फिलिस्तीनियों ने नीले रंग के मास्क लगाकर प्रदर्शन किया व फिलीस्तीनी झंडे लहराए। वहीं, गजा पट्टी में भी इन समझौतों के विरूद्ध प्रदर्शन हुए।

हमास ने तोड़ा शांति विराम समझौता, क्या इजराइल करेगा पलटवार?
हमास व इजराइल के बीच कुछ समय पहले एक समझौता हुआ था, जिसमें हमास ने बोला था कि वो इजराइल पर कोई हमला नहीं करेगा। बदले में इजराइल 13 वर्ष से जारी गजा पट्टी की नाकेबंदी खोल देगा। इस समझौते के मुताबिक गजा पट्टी में बिजली की आपूर्ति से लेकर ऑयल की आपूर्ति भी प्रारम्भ होनी थी। इस समझौते के लिए कतर ने मध्यस्थता की थी। लेकिन इजराइल ने बोला था कि ये समझौता उस समय टूट जाएगा, जब इजराइल पर कोई हमला होगा।   ऐसे में ये हमला बेहद गम्भीर मौके पर किया है। हालांकि ये उम्मीद जताई जा रही है कि हालिया समझौतों को ध्यान में रखते हुए इजराइल थोड़े समय तक चुप रहेगा, लेकिन वो कभी भी पलटवार कर सकता है।