धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा

धरती पर हैं चार नहीं, पांच महासागर? अंटार्कटिका के पास है कुछ सबसे अनोखा

हमारी धरती का 75 परसेंट भाग पानी में डूबा हुआ है. सात महाद्वीपों के साथ चार महासागर जीवन का आधार हैं. हालांकि, नैशनल जियोग्राफिक के अनुसार महासागर चार नहीं बल्कि पांच हैं. इसके अनुसार अंटार्कटिका के पास दक्षिणी महासागर भी अपने आप में एक अलग महासागर है और उसे आर्कटिक, अटलांटिक, हिंद और प्रशांत महासागर के साथ स्थान मिलनी चाहिए. नैशनल जियोग्राफिक सोसायटी जियोग्राफर अलेक्स टेट के अनुसार वैज्ञानिक तो अंटार्कटिक दक्षिणी महासागर को अलग मानते रहे हैं लेकिन कभी अंतर्राष्ट्रीय सहमति नहीं बन पाई जबकि दुनिया का यह भाग बहुत खास है. (UK Ministry of Defence/REUTERS)

Southern Ocean of Antarctica: अंटार्कटिका के पास पानी का करंट इतना अलग है कि National Geographic ने इसे अलग महासागर मान लिया है.



हमारी धरती का 75 परसेंट भाग पानी में डूबा हुआ है. सात महाद्वीपों के साथ चार महासागर जीवन का आधार हैं. हालांकि, नैशनल जियोग्राफिक के अनुसार महासागर चार नहीं बल्कि पांच हैं. इसके अनुसार अंटार्कटिका के पास दक्षिणी महासागर भी अपने आप में एक अलग महासागर है और उसे आर्कटिक, अटलांटिक, हिंद और प्रशांत महासागर के साथ स्थान मिलनी चाहिए. नैशनल जियोग्राफिक सोसायटी जियोग्राफर अलेक्स टेट के अनुसार वैज्ञानिक तो अंटार्कटिक दक्षिणी महासागर को अलग मानते रहे हैं लेकिन कभी अंतर्राष्ट्रीय सहमति नहीं बन पाई जबकि दुनिया का यह भाग बहुत खास है. (UK Ministry of Defence/REUTERS)



अब तक कहां छिपा था?

नैशनल जियोग्राफिक के अनुसार यह महासागर अंटार्कटिका के तट से 60 डिग्री दक्षिण की ओर है और दूसरे राष्ट्रों से किसी महाद्वीप नहीं बल्कि अपने करंट की वजह से अलग होता है. इसके अंदर आने वाले क्षेत्र अमेरिका से दोगुना है. सोसायटी आमतौर पर इंटरनैशनल हाइड्रोग्राफिक ऑर्गनाइजेशन के नामों को मानती है जिसने 1937 की गाइडलाइन्स में दक्षिणी महासागर को अलग माना था लेकिन 1953 में इसे बाहर कर दिया. इसके बावजूद अमेरिका के जियोग्राफिक नेम्स बोर्ड ने 1999 से दक्षिणी महासागर नाम का इस्तेमाल किया है. फरवरी में National Oceanic and Atmospheric Administration ने इसे मान लिया. (फोटो: British Antarctic Survey Reuters)



खतरों से घिरा

यह कदम कई अर्थ में खास है. नैशनल जियोग्राफिक एक्सप्लोरर एनरिक साला ने बताया है कि दक्षिणी महासगर में बहुत अनोखे और गम्भीर जलीय ईकोसिस्टम पाए जाते हैं जहां वेल, पेंग्विन्स और सील्स जैसे जीव रहते हैं. ऐसी हजारों प्रजातियां हैं जो केवल यहीं रहती हैं, और कहीं नहीं पाई जातीं. इस क्षेत्र में मछली पकड़ने की गतिविधियों का बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ा है. ऐसे में संरक्षण की आवश्यकता के चलते भी इसे अलग से मान्यता देना अहम हो जाता है. इसके अतिरिक्त जलवायु बदलाव का प्रभाव भी पड़ रहा है. पिछले महीने दुनिया का सबसे बड़ा हिमखंड अंटार्कटिका से अलग हो गया. फरवरी में भी एक विशाल हिमखंड टूट गया था. (Reuters)



कब बना था?

एक खास अंटार्कटिक सर्कमपोलर करंट भारी मात्रा में पानी ट्रांसपोर्ट करता है और पूरे विश्व में ऐसे सर्कुलेशन सिस्टम को चलाता है जो धरती पर गर्मी ट्रांसपोर्ट करता है. नैशनल जियोग्राफिक 1915 से मैप तैयार कर रहा है और इसके करंट के आधार पर कार्टोग्राफर्स ने यह निर्णय किया है. वर्ल्ड वाइड फंड के अनुसार यह महासागर सबसे हाल में बना महासागर हुआ. यह 3 करोड़ वर्ष पहले बना था जब अंटार्कटिका और दक्षिण अमेरिका एक-दूसर से अलग हुए थे. टेट का बोलना है कि इस महासागर के बारे में लोगों को अलग से बताया-पढ़ाया नहीं गया तो इसकी जरूरतों, सम्मान और खतरों को समझा नहीं जा सकेगा.


दक्षिण कोरिया समेत कई देशों में बढ़ रहा डेल्‍टा वैरिएंट का दायरा

दक्षिण कोरिया समेत कई देशों में बढ़ रहा डेल्‍टा वैरिएंट का दायरा

देश और दुनिया में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। कई देशों में सामने आ रहे डेल्‍टा वैरिएंट के मामलों ने चिंता को बढ़ाने का काम किया है। आपको बता दें कि पिछले सप्‍ताह ही विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने इस बात की पुष्टि की थी कि दुनिया के 132 देशों में डेल्‍टा वैरिएंट के मामले सामने आ चुके हैं और विश्‍व के 29 देश ऑक्‍सीजन की किल्‍लत झेल रहे हैं। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन लगातार इसको लेकर दुनिया के देशों को आगाह कर रहा है। आइये डालते हैं विश्‍व में कोरोना मामलों की स्थिति पर एक नजर :-

दक्षिण कोरिया में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के 1725 नए मामले सामने आए हैं। पिछले दिन की तुलना में ताजा मामलों में करीब 1200 मामलों की तेजी आई है। देश में अब कोरोना के कुल मामलों की संख्‍या 203926 हो गई है। सिओल और गियांगी प्रांत से सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। एएनआई के मुताबिक दक्षिण कोरिया में डेल्‍टा वैरिएंट के मामले सामने आने के बाद सरकार की चिंता बढ़ गई है। यहां वैक्‍सीन के लिए योग्‍य लोगों की करीब 39 फीसद आबादी को इसकी खुराक दी जा चुकी है।


नेपाल में डेल्‍टा वैरिएंट के चलते जो मामले बढ़ रहे हैं उसकी वजह से दिक्‍कतें बढ़ गई हैं। इसको देखते हुए सुकराराज ट्रॉपिकल एंड इंफेक्शियस डिजीज अस्‍पताल में अस्‍थायी व्‍यवस्‍था की गई है जहां पर मरीजों को रखा जा सकता है। यहां पर मरीजों के लिए ऑक्‍सीजन सिलेंडर की भी व्‍यवस्‍था की गई है।

रायटर के मुताबिक थाईलैंड में बीते 24 घंटों के दौरान 20200 नए मामले सामने आए हैं और 188 मरीजों की मौत भी हुई है। यहां पर कोरोना के कुल मामले अब बढ़कर 672385 हो गए हैं।


जापान की राजधानी टोक्‍यो में 3709 नए मामले सामने आए हैं। आपको बता दें कि यहां पर ओलंपिक गेम्‍स चल रहे हैं। लगातार पांचवें दिन 3 हजार से अधिक मामले सामने आने के बाद सरकार की चिंता बढ़ गई है। रायटर ने बताया है कि जापान में सरकार विवादित नई कोरोना पॉलिसी को वापस लेने पर विचार कर रही है। इस पॉलिसी के तहत कम गंभीर वाले मामलों वाले रोगियों को भी अस्‍पताल में ही आइसोलेट होने का निर्देश दिया गया था। अब सरकार ने इस पर विवाद होने के बाद इसको वापस लेने का संकेत दे दिया है। सरकार इस बारे में फैसला ले सकती है कि ऐसे मरीजों को घर पर ही आइसोलेट रहने दिया जाए।


तुर्की में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के 24832 नए मामले सामने आए हैं। इसके बाद यहां पर इसके कुल मामले बढ़कर 5795665 हो गए हैं। इस दौरान देश में 126 मरीजों की मौत भी हुई है।

इजरायल में बीते 24 घंटों के दौरान 3460 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद यहां पर कुल मामले बढ़कर 882391 हो गए हैं। इस दौरान देश में 9 मरीजों की मौत भी हुई है।

मैक्सिको में बीते 24 घंटों के दौरान 18911 नए मामले सामने आए हैं और 657 मरीजों की मौत हुई है। यहां पर कोरोना के कुल मामले 2880409 हैं जबकि कुल मौतों की संख्‍या 241936 है।

चीन के राज वाले मकाऊ में कोरोना के चार मामले सामने आने के बाद यहां के 6 लाख लोगों की टेस्टिंग कराने की शुरुआत की जा चुकी है।

लेबनान में मंगलवार को 1240 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद यहां पर इसके कुल मामले 564364 हो गए हैं। यहां पर इस वायरस की वजह से अब तक 7917 मरीजों की मौत हो चुकी है।

भारत की बात करें तो एएनआई के मुताबिक यहां पर सोमवार के मुकाबले मंगलवार को कोरोना संक्रमण के मामलों में करीब 12 हजार से अधिक की तेजी आई है। वहीं मौतें भी बढ़ी हैं। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के मुतबिक देश में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना संक्रमण के कुल 42625 नए मामले सामने आए हैं जबकि 562 मौतें हुई हैं। आईएएनएस के मुताबिक तमिलनाडु ने कोरोना वैक्‍सीन की 79 लाख खुराक मिलने की पुष्टि की है। सरकार का कहना है कि इसमें से 17 लाख खुराक प्राइवेट सेक्‍टर को दी जाएंगी और बाकी सरकार इस्‍तेमाल में लाएगी।