कोरोना वायरस के चलते इतने लोगो की हुई मौत

कोरोना वायरस  के चलते इतने लोगो की हुई मौत

 आखिर वही हुआ जो नहीं होना चाहिए था। कोरोना वायरस (Corona Virus) का पता लगाने वाले डॉक्टर ली वेनलियांग की गुरुवार शाम मृत्यु हो गई। ये वही चिकित्सक हैं जिन्होने सबसे पहले कोरोना वायरस का पता लगाया था। खतरनाक वायरस की जानकारी देने के तुरंत बाद चीनी सरकार ने इस चिकित्सक को 'अंडरग्राउंड' कर दिया था। बता दें कि शुक्रवार प्रातः काल तक इस वायरस की वजह से 636 लोग दम तोड़ चुके हैं। चाइना समेत पूरी संसार में इस जानलेवा संक्रमण की चपेट में 31,000 से ज्यादा लोग आ चुके हैं।

इस कारण हुई है डाक्टर ली की मौत
अंतर्राष्ट्रीय मीडिया के अनुसार गुरुवार को डाक्टर ली वेनलियांग की मृत्यु हो गई। डाक्टर ली कोरोना वायरस संक्रमण से ही ग्रसित थे। चाइना के आधिकारिक मीडिया पीपुल्स डेली व वीबो ने डाक्टर ली के कोरोना वायरस से मरने की पुष्टि की है। बताया जा रहा है कि डाक्टर ली के चेस्ट में संक्रमण फैल गया था।  

क्यों 'गायब' कराया था चाइना सरकार ने चिकित्सक को
विभिन्न रिपोर्ट्स के मुताबिक 30 दिसंबर को पहली बार वुहान शहर के चिकित्सक ली वेनलियांग ने पहली बार सोशल ऐप WeChat में के जरिए लोगों से कोरोना वायरस के बारे में जानकारी साझा की थी। अपने पोस्ट में डाक्टर ली ने लिखा था कि शहर के नजदीकी मछली मार्केट में एक सार्स जैसा वायरस पाया गया है। इसके संक्रमण की वजह से लगभग सात लोगों को अस्पताल के अलग वार्ड में दाखिल किया गया है। पहली बार डाक्टर ली ने ही कोरोना वायरस को खोजा था।  

अंतरराष्ट्रीय साइटों के मुताबिक डाक्टर ली द्वारा इस समाचार को सोशस साइट में साझा किए जाने के तुरंत बाद ही लोकल वुहान पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया था। आखिरी पोस्ट में उन्होने लिखा था कि वे कोरोना वायरस से ग्रसित हो चुके हैं। लेकिन कई अंतर्राष्ट्रीय मीडिया के हवाले से समाचार है कि चाइना अपने देश के किसी भी नेगेटिव समाचार के विरूद्ध बहुत ज्यादा सख्ती से पेश आता है। ऐसे में आसार जताई जा रही थी कि चिकित्सक ली को सज़ा-ए-मौत दे दी गई हो।