अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान , किया फिर ये काम

 अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान , किया फिर ये  काम

पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. उसने संयुक्त देश (यूएन) के महासचिव एंतानियो गुतारेस के सामने कश्मीर राग अलापा है. गुतारेस इन दिनों पाक के दौरे पर हैं. सोमवार को उनके साथ मीटिंग में इमरान ने बोला कि यूएन कश्मीर के लोगों से किए अपने वादे को पूरा करे व उन्हें आत्मनिर्णय का अधिकार दिला में मदद करे. इमरान ने हिंदुस्तान पर आरोप लगाया है कि पिछले वर्ष पांच अगस्त

को जम्मू और कश्मीर को विशेष प्रदेश का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 व 35ए को हचाने के बाद से वहां के लोगों के मानवाधिकारों का हनन हो रहा है.

पाक के पीएम ऑफिस द्वारा जारी किए बयान के अनुसार, 'प्रधानमंत्री ने संयुक्त देश को अवगत कराया कि कश्मीरी लोग अपने अधिकारों को हासिल करने के लिए लगातार यूएन की ओर देख रहे हैं क्योंकि संयुक्त देश सुरक्षा परिषद के कई प्रस्तावों में निहित है.' पिछले वर्ष पांच अगस्त को जब केन्द्र सरकार ने जम्मू और कश्मीर से विशेष प्रदेश का दर्जा वापस लिया था तब से हिंदुस्तान व पाक के बीच तनाव व बढ़ गया है.

हिंदुस्तान के फैसला पर पाक ने अपनी बौखलाहट दिखाते हुए हिंदुस्तान के साथ अपने राजनयिक रिश्तों को समाप्त करते हुए भारतीय दूत को निष्कासित कर दिया था. वहीं हिंदुस्तान ने अपने कदम का बचाव करते हुए बोला था कि जम्मू और कश्मीर को मिले विशेष दर्जे ने केवल क्षेत्र में आतंकवाद व अलगाववाद को बढ़ावा दिया था. साथ ही यह साफ कर दिया था कि यह उसका आतंरिक मसला है.

भारत की नीतियों के कारण पाकिस्तान नए शरणार्थी संकट का सामना कर सकता है: इमरान 

इमरान खान ने सोमवार को चेताया कि अगर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय हिंदुस्तान की मौजूदा स्थिति का संज्ञान लेने में नाकाम रहता है तो पाक शरणार्थी संकट का सामना कर सकता है. इस्लामाबाद में दो दिवसीय शरणार्थी सम्मेलन को संबोधित करते हुए खान ने बोला कि हिंदुस्तान की अति राष्ट्रवाद की विचारधारा बिना किसी रुकावट के चलती रही तो इससे तबाही फैल सकती है व यह क्षेत्र इसका केन्द्र होगा.

शरणार्थी सम्मेलन पाक में अफगान शरणार्थियों के आने के 40 वर्ष सारे होने के मौके पर आयोजित हो रहा है. खान ने बोला कि पीएम नरेंद्र मोदी का यह बयान कि हिंदुस्तान 11 दिन में पाक को तबाह कर सकता है, परमाणु हथियार से संपन्न देश के व इतनी बड़ी आबादी वाले देश के पीएम की ओर से दिया गया जिम्मेदाराना बयान नहीं है. खान ने यह बयान गुतारेस की उपस्थिति में दिया. 

खान ने बोला कि हिन्दुत्व की विचारधारा की वजह से कश्मीरियों को 200 से ज्यादा दिनों से बंद किया हुआ है. उन्होंने आरोप लगाया कि इसी विचारधारा के तहत हिंदुस्तान के 20 करोड़ मुसलमानों को निशाना बनाने के लिए बीजेपी नीत सरकार ने दो भेदभावपूर्ण राष्ट्रवादी कानून पारित किए हैं. खान हिंदुस्तान के संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) व जम्मू और कश्मीर का विशेष दर्जा रद्द करने का हवाला दे रहे थे.