संघीय न्यायाधीश ने ट्रंप के अभियान की ओर से पेनसिल्वेनिया में दायर मुकदमे को खारिज किया

संघीय न्यायाधीश ने ट्रंप के अभियान की ओर से पेनसिल्वेनिया में दायर मुकदमे को खारिज किया

वाशिंगटन। अमेरिका में एक संघीय न्यायाधीश ने देश के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के अभियान की ओर से पेनसिल्वेनिया में दायर उस मुकदमे को खारिज कर दिया है जिसमें लाखों मतों को अवैध घोषित करने की मांग की गई थी। न्यायाधीश ने कहा कि आरोप अटकलों पर आधारित हैं। यूएस मिडल डिस्ट्रिक्ट ऑफ पेनसिल्वेनिया के न्यायाधीश मैथ्यू ब्रान ने ट्रंप अभियान का अनुरोध शनिवार को खारिज कर दिया, जिससे तीन नवंबर को हुए चुनाव के परिणामों को चुनौती देने के राष्ट्रपति ट्रंप के प्रयासों को खासा झटका लगा है। 

राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन विजयी रहे हैं। न्यायाधीश ब्रान ने कुछ दिन पहले आरोप लगाया था कि उन्हें फोन कॉल करके परेशान किया जा रहा है। उन्होंने अपने फैसले में कहा कि ट्रंप अभियान ने ‘‘तोड़-मरोड़ कर और बिना आधार के कानूनी दलीलें’’ पेश कीं और अटकलों पर आधारित आरोपों के समर्थन में सबूत पेश नहीं किए। ट्रंप अभियान ने मतदान प्रक्रिया में अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए इस महीने की शुरुआत में मुकदमा दायर किया था। नव-निर्वाचित राष्ट्रपति बाइडन ने पेनसिल्वेनिया में ट्रंप को 81,000 से भी अधिक मतों के अंतर से पछाड़ दिया। इस महत्वपूर्ण राज्य में 20 इलेक्टोरल कॉलेज वोट हैं। न्यायाधीश ब्रान ने अपने फैसले में कहा, ‘‘यह अदालत ऐसा कोई आधार नहीं समझ सकी है जिसके तहत वादी ने चुनाव में इतने व्यापक सुधार की मांग की है।


सीमाओं को तोड़ते हुए महिलाएं कर रही हैं ऐसा काम, दुनिया में हो रही वाहवाही

सीमाओं को तोड़ते हुए महिलाएं कर रही हैं ऐसा काम,  दुनिया में हो रही वाहवाही

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी के दौरान अपने अपनों से ही पराए हो गए। लेकिन इस दौरान कई ऐसे लोग भी सामने आए हैं, जिन्होंने सामाजिक बेड़ियों को तोड़ते हुए इंसानियत का रिश्ता पहले निभाया। इसी क्रम में नेपाल में महिला सैनिक ऐसा काम कर रही हैं, जिसके लिए दुनियाभर में उनकी तारीफें हो रही हैं। ये महिला सैनिक सामाजिक बाधा को तोड़ते हुए कोरोना की वजह से जान गंवाने वाले लोगों का अंतिम संस्कार कर रही हैं।

सामाजिक बेड़ियों को तोड़ती महिला सैनिक
नेपाल में महिला द्वारा अंतिम संस्कार करना सांस्कृतिक मान्यताओं के खिलाफ माना जाता था, लेकिन इन सब की परवाह किए बगैर ये महिला सैनिक लोगों की मदद करने में जुटी हुई हैं। इन महिलाओं ने इस सामाजिक बाधा को तोड़ दिया है। नेपाल की महिला सैनिक पहली बार ऐसा काम कर रही हैं। महिला सैनिकों की एक टुकड़ी को कोरोना से जान गंवाने वाले पीड़ितों के अंतिम संस्कार के काम में लगाया गया है।

महिलाओं को शामिल करने से हमें मिली नई ताकत
बीते महीने चार महिला सैनिकों ने पहली बार कोरोना पीड़ितों का अंतिम संस्कार किया था। उन्होंने छह कोरोना मृतकों के शव को अस्पताल से दाहगृह तक पहुंचाया था। उसके बाद ये काम लगातार महिला सैनिक कर रही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस संबंध में नेपाली सेना के प्रवक्ता संतोष बी. पौडयाल का कहना है कि हमारे पास 95 हजार सैनिकों की एक मजबूत फोर्स है। इसमें महिलाओं को शामिल करने से हमें नई ताकत मिली है।

नेपाल की महिला कुछ नया करना चाहती हैं
एक समाचार एजेंसी को संतोष बी. पौडयाल ने बताया कि युद्ध क्षेत्र, अस्पताल, हथियार गृह, इंजीनियरिंग सर्विसेज और आपदाओं में महिलाएं बहुत अच्छा काम कर रही हैं। नेपाल में पहली बार कोरोना मृतकों के शवों का संभालने का काम महिला सैनिकों को दिया गया है। नेपाल की महिलाएं अब सामाजिक सीमाओं को तोड़ रही हैं। ये कुछ नया करना चाहती हैं।


बड़े घरेलू मार्केट का मिला फायदा, दुनिया के टॉप 10 एयरलाइन स्टॉक्स लिस्ट में चीन की 9 कंपनियां तो भारत की एकमात्र इंडिगो शामिल       घरेलू उड़ानों में 10% का इजाफा, एविएशन मिनिस्ट्री ने अब 80% फ्लाइट्स की मंजूरी दी       किसानों के समर्थन में प्रकाश सिंह बादल ने पद्मविभूषण लौटाया, ताकि कैप्टन फायदा न उठा सकें       सरकार भरोसा दिला रही और किसान कानून वापस लेने पर अड़े, चौथी बैठक में भी नहीं बनी बात...       शिवसेना में शामिल होने के बाद उर्मिला ने सोशल मीडिया पर किया यह अनोखा ट्वीट       विधानसभा चुनाव से पहले साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत करेंगे अपनी पार्टी का ऐलान       पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने फ़ौरन नए कृषि कानूनों को लेकर की यह बड़ी मांग       झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार ने कहा,''अपने पैरों पर खड़ा करके बनाएंगे दौड़ने योग्य.....       कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसान आंदोलन को लेकर दिया यह बड़ा बयान, जाने       हरियाणा में नगर निगम चुनाव के लिए जाने कब होगा मतदान       लव जिहाद : आला हजरत ने फतवा देकर लालच- जबरन तरीके से धर्म परिवर्तन कराने को लेकर बोली यह बड़ी बात       ममता सरकार के कथित भ्रष्टाचार को उजागर करने के लिए भाजपा कर सकती है इतने करोड़ से ज्यादा परिवारों का दौरा       कांग्रेस की दिल्ली इकाई के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को लेकर की यह बड़ी मांग       GMCH में भाजपा ने लगाई अपनी पूरी जान, जाने क्या है ओवैसी की पार्टी AIMIM का हाल       घर से निकल जाने के बाद कविता कौशिक ने कही रुबीना को लेकर यह बड़ी बात       कंगना रनौत ने किया हिमांशी खुराना को ट्विटर पर ब्लॉक, जाने यह बड़ा कारण       शो कौन बनेगा करोड़पति : IPS अधिकारी बनने के लिए बहादुर सिंह को देना होगा इतने करोड़ के प्रशन का उत्तर       जाने क्यों बॉलीवुड फिल्मों में नहीं मिली कायनात अरोड़ा को जगह       आपके जीवन के कई गहरे राज खोलता है आपकी हथेली का रंग       बाजारों में धड़ल्ले से बिक रहा मिलावटी शहद