आतंकवाद जैसा खतरा हैं रूस, चीन और ईरान, UK इंटेलिजेंस चीफ का विवादित बयान

आतंकवाद जैसा खतरा हैं रूस, चीन और ईरान, UK इंटेलिजेंस चीफ का विवादित बयान

चीन दुनिया भर में अपनी ताकत बढ़ाता जा रहा है। इस बीच यूनाइटेड किंगडम की खुफिया एजेंसी के प्रमुख ने चेताया है कि चीन, ब्रिटेन और उसके सहयोगियों के लिए सबसे बड़ा खतरा बन चुका है। MI6 के प्रमुख रिचर्ड मूर ने कहा चीन, रूस, ईरान और अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद यह चार बड़े खतरे हैं जिनका सामना इस अस्थिर दुनिया में ब्रिटेन की जासूसी एजेंसियों को करना पड़ रहा है। उन्होंने इन तीनों देशों को आतंकवाद जैसा खतरा बताया है।

ब्रिटेन की खुफिया सेवा का प्रमुख बनने के बाद रिचर्ड मूर ने अपने पहले संबोधन में खतरे की अलग-अलग प्रकृतियों के बारे में बताया। मूर ने कहा कि चीन की खुफिया एजेंसियां हमारी सिंगल प्राथमिकताओं में शुमार है। चीन को अपने देश से बिल्कुल अलग बताते हुए मूर ने कहा बीजिंग, यूके और उसके सहयोगियों के खिलाफ बड़े पैमाने पर जासूसी करवा रहा है। चीन की मंशा यहां के राजनीतिक निर्णयों को प्रभावित करने की है। रिचर्ड मूर ने कहा कि चीन जैसे देश संप्रभुता और लोकतंत्र को खत्म करने के लिए ‘कर्ज के जाल, डाटा खुलासे’ का उपयोग कर रहे हैं।

मूर ने कहा, 'ताइवान मुद्दे को हल करने के लिए चीन अपनी मिलिट्री ताकत बढ़ा रहा है और इस पार्टी की मंशा है कि वो जरुरत पड़ने पर फोर्स का इस्तेमाल कर इस मुद्दे को हल करे। इससे दुनिया में स्थिरता और शांति को भारी चुनौती पैदा होगी। मूर ने कहा कि रूस से भी यूके को खतरा है। उन्होंने कहा कि मॉस्को स्पॉन्सर कीलिंग करवा रहा है। उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि साल 2018 में इंग्लैंड में पूर्व जासूस सेरजेई स्क्रिपल को जहर दे दी गई। इसके अलावा साइबर हमले किये गये ताकि देश के प्रजातांत्रिक ढांचे को आघात पहुंचाया जा सके। उन्होंने कहा, 'हमें और हमारे सहयोगियों को रूस की इन गतिविधियों के खिलाफ खड़ा होना चाहिए।


अमेरिका के टेक्सास में यहूदियों के एक पूजा स्थल में बंधक बनाए गए इतने लोगों

अमेरिका के टेक्सास में यहूदियों के एक पूजा स्थल में बंधक बनाए गए इतने  लोगों

अमेरिका के टेक्सास में यहूदियों के एक पूजा स्थल में बंधक बनाए गए लोगों को करीब 12 घंटे बाद रात को रिहा करा लिया गया। सुरक्षा बलों की गोलीबारी में संदिग्ध मारा गया है। व्यक्ति को घटना की लाइवस्ट्रीमिंग (सोशल मीडिया मंच पर सीधा प्रसारण) के दौरान एक पाकिस्तानी न्यूरो साइंटिस्ट(तंत्रिका विज्ञानी) को रिहा करने की मांग करते सुना गया, जिसे अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना के

अधिकारियों की हत्या के प्रयास के जुर्म में सजा सुनाई गई है। अधिकारियों ने बताया कि कोलीविले में कांग्रिगेशन बेथ इस्राइल भवन में लोगों को बंधक बनाया गया था जिन्हें अमेरिकी खुफिया एजेंसी एफबीआई की स्वात टीम ने भवन में संदिग्ध के साथ कई घंटों के गतिरोध के बाद रिहा कराया। हमलावर को मार गिराया गया और एफबीआई के स्पेशल एजेंट इंचार्ज मैट डेसारनो ने बताया कि एक टीम ''गोलीबारी की घटना'' की जांच करेगी। डलास टीवी स्टेशन डब्ल्यूएफएए से जारी वीडियो फुटेज में लोग पूजा स्थल के एक दरवाजे से भागकर बाहर निकलते देखे गए, इसके महज कुछ सेकंड बाद बंदूकधारी एक व्यक्ति दरवाजा खोलते और फिर उसे बंद करते दिखा। कुछ समय बाद गोलीबारी की आवाज सुनी गई और फिर धमाके की भी आवाज सुनाई दी। एफबीआई और पुलिस की प्रवक्ता ने हालांकि यह नहीं बताया कि हमलावर को किसने गोली मारी। डेसारनो ने बताया कि बंधक बनाने वाला व्यक्ति विशेष रूप से ऐसे मुद्दे पर केंद्रित था जो सीधे तौर पर यहूदी समुदाय से संबंधित नहीं था और तत्काल इस बात के भी कोई संकेत नहीं मिले हैं कि व्यक्ति की कोई बड़ी साजिश थी। लेकिन डेसारनो ने बताया कि जांच एजेंसी ''हर पहलू से जांच करेगी।'' हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि हमलावर ने यहूदी पूजा स्थल को ही क्यों चुना।

गवर्नर ग्रेग एबॉट ने यह जानकारी दी। एबॉट ने ट्वीट किया, ''प्रार्थनाएं सुन ली गईं। सभी बंधक जीवित और सुरक्षित हैं।'' अधिकारियों ने बताया कि एक व्यक्ति ने लोगों को बंधक बना लिया था और वह अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना के अधिकारियों की हत्या के प्रयास के लिए दोषी ठहराई गई एक पाकिस्तानी तंत्रिका विज्ञानी की रिहाई की मांग कर रहा था।

उल्लेखनीय है कि अमेरिका के टेक्सास में शनिवार को यहूदियों के एक पूजा स्थल पर प्रार्थना के दौरान एक व्यक्ति ने वहां मौजूद लोगों को बंधक बना लिया और घटना की 'लाइवस्ट्रीमिंग' (सोशल मीडिया मंच पर सीधा प्रसारण) भी की, जिसमें व्यक्ति को एक पाकिस्तानी तंत्रिका विज्ञानी को रिहा करने की मांग करते सुना गया। पाकिस्तानी तंत्रिका विज्ञानी को अफगानिस्तान पर अमेरिकी सेना के अधिकारियों की हत्या का दोषी ठहराया गया है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। दो सुरक्षा अधिकारियों ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर बताया कि शुरू में कम से कम 4 बंधकों के पूजा स्थल में होने का अनुमान था।

अधिकारियों में से एक ने कहा कि माना जाता है कि बंधकों में पूजा स्थल के रब्बी (यहूदी धार्मिक नेता) भी शामिल हैं। एक अधिकारी ने कहा कि व्यक्ति ने अपने पास हथियार होने का दावा किया लेकिन अधिकारियों ने इसकी पुष्टि नहीं की। कोलीविले पुलिस विभाग ने कहा कि शनिवार शाम 5 बजे के बाद एक बंधक को बिना किसी नुकसान के रिहा कर दिया गया। अधिकारियों ने कहा कि बंधक बनाने वाले को पाकिस्तानी तंत्रिका विज्ञानी आफिया सिद्दीकी की रिहाई की मांग करते हुए सुना गया था, जिस पर अलकायदा से संबंध रखने का संदेह था और अफगानिस्तान में हिरासत में अमेरिकी सैन्य अधिकारियों को मारने की कोशिश करने का दोषी ठहराया गया था। अधिकारियों के अनुसार, व्यक्ति ने यह भी कहा कि वह आफिया से बात करना चाहता है। आफिया सिद्दीकी टेक्सास की संघीय जेल में बंद है। एक अधिकारी ने बताया कि न्यूयॉर्क शहर में एक रब्बी को संभवत: बंधक बनाए गए रब्बी का फोन आया था जिसके बाद न्यूयॉर्क शहर के रब्बी ने घटना की रिपोर्ट करने के लिए पुलिस को फोन किया। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने ट्वीट किया कि राष्ट्रपति जो बाइडन को इस बारे में जानकारी दे दी गई है और उन्हें वरिष्ठ अधिकारियों से पल-पल की सूचना मिल रही है।

कई लोगों ने लाइवस्ट्रीम के दौरान बंधक बनाने वाले को सिद्दीकी को अपनी ''बहन'' के रूप में संबोधित करते सुना, लेकिन डलास फोर्ट-वर्थ टेक्सास में काउंसिल ऑन अमेरिकन इस्लामिक रिलेशंस (सीएआईआर) के कार्यकारी निदेशक फैजान सैयद ने 'द एसोसिएटेड प्रेस' को बताया कि सिद्दीकी का भाई मोहम्मद सिद्दीकी इसमें शामिल नहीं था। ब्रैंडिस यूनिवर्सिटी और मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से डिग्री लेने वाली पाकिस्तानी तंत्रिका विज्ञानी सिद्दीकी को 2010 में 86 साल की जेल की सजा सुनाई गई थी। उन पर 2 साल पहले अफगानिस्तान में हिरासत में लिए जाने के बाद अमेरिकी सेना के अधिकारियों पर हमला करने और गोली मारने का आरोप है।