महाभियोग के फंदे में फंसे ट्रंप, राष्ट्रपति के खिलाफ डेमोक्रेट एकजुट

महाभियोग के फंदे में फंसे ट्रंप, राष्ट्रपति के खिलाफ डेमोक्रेट एकजुट

वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और अपने कार्यकाल के अंतिम दिनों में महाभियोग के फंदे में फंस गए हैं। अमेरिकी संसद भवन में पिछले बुधवार को हुई हिंसा के लिए प्रतिनिधि सभा के डेमोक्रेट सांसदों ने राष्ट्रपति ट्रंप को जिम्मेदार ठहराते हुए उनके खिलाफ महाभियोग का प्रस्ताव पेश किया है।

प्रस्ताव में आरोप लगाया गया है कि ट्रंप ने अमेरिकी संसद में हिंसा के लिए अपने समर्थकों को भड़काया। प्रतिनिधि सभा में डेमोक्रेट सांसदों का प्रभुत्व है और ट्रंप के खिलाफ पेश किए गए महाभियोग प्रस्ताव पर बुधवार को मतदान की संभावना जताई जा रही है।

ट्रंप के खिलाफ दो प्रस्ताव पेश
अमेरिकी संसद में गत बुधवार को हुई तोड़फोड़ और हिंसा की घटना में अभी तक एक पुलिसकर्मी सहित पांच लोगों की मौत हो चुकी है। लोकतांत्रिक परंपराओं के पालन में अभी तक अमेरिका की मिसाल दी जाती रही है मगर अमेरिकी संसद में हुई इस घटना से देश की छवि को काफी धक्का लगा है।

हिंसा की घटना को लेकर ट्रंप के खिलाफ दो महाभियोग प्रस्ताव पेश किए गए हैं। इनमें से एक प्रस्ताव डेमोक्रेटिक पार्टी के सदस्य इलहान उमर ने तैयार किया है जबकि दूसरा प्रस्ताव डेमोक्रेट सांसद जेमी रस्किन ने तैयार किया है।

प्रस्ताव के पक्ष और विपक्ष में लामबंदी
प्रस्ताव पेश होने के बाद प्रतिनिधि सभा में बहुमत के नेता स्टेनी होयर ने कहा कि अगर यह प्रस्ताव पारित हो जाता है तो ट्रंप पहले ऐसे रिपब्लिकन राष्ट्रपति होंगे जिन्हे दो बार महाभियोग प्रस्ताव का सामना करना पड़ा।

दूसरी ओर महाभियोग प्रस्ताव लाने के फैसले का विरोध करते हुए रिपब्लिकन सांसद एलेक्स मूने ने कहा की सदन को महाभियोग का यह प्रस्ताव नामंजूर कर देना चाहिए। ट्रंप के खिलाफ डेमोक्रेट्स व कुछ रिपब्लिकन सांसद एकजुट हो गए हैं और उनका मानना है कि ट्रंप को अपना कार्यकाल नहीं पूरा करना देना चाहिए।

पेलोसी के पत्र के बाद डेमोक्रेट एकजुट
सीनेट की स्पीकर नैंसी पेलोसी सहित उनकी डेमोक्रेटिक पार्टी के कई दूसरे नेता राष्ट्रपति ट्रंप को व्हाइट हाउस से बाहर करने की मुहिम में जुटे हुए हैं। पेलोसी ने ट्रंप को पद से हटाने के लिए 25वें संशोधन के लिए पत्र लिखा था जिसके बाद डेमोक्रेट सांसद एकजुट हो गए हैं।

यह संशोधन उपराष्ट्रपति व बहुमत को अधिकार देता है कि वे ट्रंप को हटाएं। प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष पेलोसी ने आरोपों का मसौदा संसद में रखने से पहले कहा कि हमारे संविधान और लोकतंत्र की रक्षा के लिए तत्काल कदम उठाना जरूरी हो गया है क्योंकि राष्ट्रपति ट्रंप के पद पर बने रहने से देश के संविधान को खतरा है।

प्रस्ताव पर वोटिंग की स्थिति
प्रतिनिधि सभा में डेमोक्रेटिक पार्टी को बहुमत हासिल है और माना जा रहा है कि वहां से महाभियोग का प्रस्ताव आसानी से पास हो जाएगा। जानकारों का कहना है कि कई रिपब्लिकन सांसद भी ट्रंप के खिलाफ वोटिंग कर सकते हैं।

वैसे अमेरिकी संविधान के मुताबिक राष्ट्रपति को उनके पद से हटाने के लिए सीनेट में भी वोटिंग कराना जरूरी है। राष्ट्रपति को दोषी ठहराने और पद से हटाने के लिए दो तिहाई सीनेटरों की सहमति जरूरी है। सीनेट में इस समय रिपब्लिकन पार्टी को बहुमत हासिल है और ऐसे में हर किसी की नजर सीनेट में प्रस्ताव को लेकर होने वाले फैसले पर टिकी है।

रिपब्लिकन पार्टी के नेता भी नाराज
वैसे राष्ट्रपति ट्रंप से रिपब्लिकन पार्टी के कई नेता भी नाराज हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेता और सीनेटर लिंडसे ग्राहम ने राष्ट्रपति ट्रंप से नाता तोड़ लिया है। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने कहा है कि वे ट्रंप को पद से हटाने के प्रस्ताव का समर्थन नहीं करेंगे।

डेमोक्रेटिक पार्टी को कम से कम 16 रिपब्लिकन सीनेटर का समर्थन चाहिए और इतने ज्यादा सीनेटरों का समर्थन मिलना मुश्किल माना जा रहा है।

शपथ ग्रहण समारोह में कड़ी सुरक्षा की मांग
दूसरी ओर वाशिंगटन की मेयर मुरियल बाउजर ने अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बिडेन के शपथ ग्रहण समारोह में कड़ी सुरक्षा का प्रस्ताव रखा है। उन्होंने गृह सुरक्षा मंत्रालय से इस संबंध में न्याय व रक्षा मंत्रालय के अलावा सुप्रीम कोर्ट और कांग्रेस से भी संपर्क करने को कहा है। उन्होंने पिछले हफ्ते अमेरिकी संसद में हुई हिंसा को आतंकी हमला बताते हुए कहा कि किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए शपथ ग्रहण समारोह में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था जरूरी है।


ताबिज से कोरोना को भगाने वाले मेक्सिको के राष्‍ट्रपति मैनुअल कोविड-19 से संक्रमित

ताबिज से कोरोना को भगाने वाले मेक्सिको के राष्‍ट्रपति मैनुअल कोविड-19 से संक्रमित

मेक्सिको के राष्‍ट्रपति आंद्रेस मैनुअल ओपेज ओब्रेडोर कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। उन्‍होंने रविवार को कहा कि उनकी कोरोना वायरस की जांच पॉजिटिव है। राष्‍ट्रपति ने कहा कि उन्‍होंने कोरोना के लक्ष्‍ण महसुस किया है, यह अभी शुरुआत चरण में है। आंद्रेस मैनुअल ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर कहा है कि वह चिकित्‍सा उपचार के तहत हैं। गौरतलब है कि देश में कोराना महामारी के प्रसार के बाद राष्‍ट्रपति मैनुअल की काफी निंदा हुई थी। उन पर यह आरोप है कि वह देश में कोरोना महामारी के प्रसार को रोक पाने में अक्षम रहे हैं।

उन्‍होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर कहा कि मुझे आपको यह बताते हुए खेद है कि मैं कोरोना वायरस से संक्रमित हूं। उन्‍होंने ट्वीट किया कि कोरोना के लक्ष्‍ण हल्‍के हैं, लेकिन मैं पहले से ही चिकित्‍सा उपचार के अधीन हूं। उन्‍होंने कहा कि मैं हमेशा की तरह आशावादी हूं, हम सभी आगे बढ़ेंगे। मेक्सिको में महामारी विज्ञान के निदेशक जोस लुइस अलोमिया जेग्रा ने कहा कि राष्‍ट्रपति में कोरोना वायरस के हल्‍के लक्ष्‍ण हैं। उन्‍हें घर में ही अलग रहने की सलाह दी गई है। उन्‍होंने बताया कि डॉक्‍टरों की एक पूरी टीम उनके इलाज में जुटी है।  घर पर ही उनकी देखभाल किया जा रहा है।

अमेरिका के पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की तरह मेक्सिको के 67 वर्षीय राष्‍ट्रपति मैनुअल भी कोरोना प्रोटोकॉल की उपेक्षा के कारण सुर्खियों में रहे। कोरोना महामारी के दौरान शायद ही राष्‍ट्रपति मैनुअलन को कभी मास्‍क पहने देखा गया हो। महामारी के दौरान भी उन्‍होंने अपनी यात्राओं एवं कार्यक्रमों को जारी रखा। इस बात को लेकर उनकी देश में काफी निंदा भी हुई थी। कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए दुनिया के मुल्‍कों ने जब लॉकडाउन की प्रक्रिया शुरू की उस वक्‍त राष्‍ट्रपति मैनुअल ने इसका विरोध किया था। वह अर्थव्‍यस्‍था को बंद करने का भी विरोध किया। इस लापरवाही का नतीजा देश को भोगना पड़ा। मैक्सिको में अब तक कोरोना के 1.7 करोड़ लोग कोरोना से संक्र‍मित हो चुके हैं। वायरस से अब तक 1,50,000 लोगों की जान जा चुकी है।

देश में कोरोना महामारी चरम पर है। महामारी के दौरान राष्‍ट्रपति मैनुअल से पूछा गया कि वायरस से मेक्सिको की रक्षा कैसे करेंगे ? इस पर उन्‍होंने अपने बटुए से दो धार्मिक ताबीज को निकालते हुए कहा, इससे। इस ताबीज में लिखा था यीशु मेरे साथ हैं। उनके इस बयान की काफी निंदा की गई थी। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने भी मेक्सिको में कोरोना वायरस के प्रसार पर गहरी चिंता प्रगट की थी। मेक्सिको के संदर्भ में डब्‍ल्‍यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अदनोम घेबियस राष्‍ट्रपति का नाम लिए बगैर कहा था कि कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए हमने सामान्य तौर पर कहा है कि मास्क पहनना महत्वपूर्ण है, स्वच्छता महत्वपूर्ण है और शारीरिक दूरी महत्वपूर्ण है और हम नेताओं से इसके उदाहरण की उम्मीद करते हैं।


25 जनवरी 2021 का राशिफल: मकर राशि वालों के चल या अचल संपत्ति में वृद्धि होगी, लेकिन...       Share Market Tips: बजट से पहले भी बाजार में आ सकती है अच्छी खासी गिरावट       नई शिक्षा नीति पर अमल को सरकार दे सकती है अलग से फंड, शिक्षा मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय को दिया है प्रस्ताव       Post Office के सुकन्या समृद्धि, आरडी और पीपीएफ खाते में ऑनलाइन जमा कर सकते हैं रुपये, जानें       Yes Bank के संस्थापक राणा कपूर को हाई कोर्ट से भी नहीं मिली जमानत       बैंक के नाम पर आने वाले फर्जी मैसेज की कैसे करें पहचान       गिर गई सोने की कीमतें, चांदी में आई उछाल, जानिए क्या हो गए हैं भाव       Home First Finance के IPO को मिला अच्छा-खासा समर्थन, बोली के आखिरी दिन तक हुआ 26.57 गुना सब्सक्राइब       पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाजी कोच ने की रिषभ पंत की तारीफ, कही...       ऑस्ट्रेलिया के इस दिग्गज तेज गेंदबाज पर टीम से बाहर होने का खतरा       IPL की वजह से हुआ बदलाव, ICC ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल किया स्थगित       गणतंत्र दिवस के मौक़े पर आयी फ़िल्मों ने जब बॉक्स ऑफ़िस पर भी मचाया धमाल       The Family Man के मेकर्स के साथ ओटीटी डेब्यू के लिए तैयार शाहिद कपूर       शेखर कपूर ने कहा कि फूलन ने बैंडिट क्वीन देखकर कहा था कि मुझे लगा फिल्म में गाने होंगे       शादी के बाद वरुण धवन ने शेयर कीं अपनी हल्दी सेरेमनी की फोटोज़, देखें एक्टर का कूल अंदाज़       Republic Day पर लौट रही है विक्की कौशल की 'उरी- द सर्जिकल स्ट्राइक', सिनेमाघरों में फिर गूंजेगा Hows The Josh       Sharmila Tagore ने 55 साल पहले करवाया था बिकिनी में फोटोशूट, अब एक्ट्रेस ने कहा...       The Kapil Sharma Show के फैंस के लिए बुरी खबर, अगले महीने बंद हो जाएगा शो!       Bigg Boss 14: अभिनव के प्यार में राखी ने पार की 'पागलपन' की हद       Bigg Boss 14 में आ सकती हैं राहुल वैद्य की गर्लफ्रैंड दिशा परमार और राखी सावंत के पति रितेश