कोरोनावायरस रोगियों के इलाज में उपयोग ये दवा पर लगा दिया गया प्रतिबंध, जाने क्यों

कोरोनावायरस रोगियों के इलाज में उपयोग ये दवा पर लगा दिया गया प्रतिबंध, जाने क्यों

coronavirus Update In Hindi: कोरोनावायरस की महामारी के बीच, स्वीडन के कई अस्पतालों ने कोरोनावायरस रोगियों के इलाज में क्लोरोक्वीन दवा के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है. एक रिपाेर्ट के मुताबिक, कोरोनावायरस रोगियों को दी जाने वाली मलेरिया रोधी दवा क्लोरोक्वीन के दुष्प्रभावों देखते हुए यह कदम उठाया गया है. इसके दुष्प्रभावाें में ऐंठन व दृष्टि की हानि के साथ अन्य स्वास्थ समस्याएं भी शामिल थी.

अनपेक्षित दुष्प्रभाव
रिपोर्टों के अनुसार,40 वर्षीय स्टॉकहोम निवासी कार्ल सिडेनहाग को प्रतिदिन क्लोरोक्वीन की दो गोलियां दी जाती थीं. लेकिन उसे बेहतर महसूस कराने के बजाय, दवा के दुष्प्रभाव होने लगे. सिडेनहैग काे ऐंठन के साथ-साथ दृष्टि हानि व गंभीर माइग्रेन की शिकायत रहने लगी.

गाैरतलब है कि वर्तमान में, काेराेनावायरस के उपचार के लिए कोई विशिष्ट दवा न हाेने के कारण, मलेरिया रोधी दवाएं क्लोरोक्वीन व हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन एक संभावित विकल्प के रूप में अत्यधिक लोकप्रिय हो गई हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भी ट्वीट के जरिए बता चुके हैं कि नाेवल कोरोनावायरस का उपचार करने के लिए कैसे हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का प्रयोग किया जा सकता है व साथ ही यह भी बताया गया है कि अमेरिका पहले ही 29 मिलियन गोलियों का स्टॉक कर चुका है. विभिन्न रिपोर्टों के अनुसार, कोरोनावायरस के विरूद्ध दवा की प्रभावशीलता केवल अब तक मिश्रित परिणाम दिखाती है.

क्लोरोक्वीन के कारण हुई मौत
अमेरिका में क्लोरोक्वीन खाने कारण एक आदमी की मृत्यु का मुद्दा भी सामने आया है. रिपोर्ट के अनुसार पति-पत्नी दाेनाें काेराेनावायरस के विरूद्ध उपचार के ताैर पर हो गई है व दोनों की कोरोनोवायरस के विरूद्ध आत्म-चिकित्सा के ताैर पर क्लोरोक्वीन फॉस्फेट का सेवन कर रहे थे. परिणाम में पति की माैत हाे गई व पत्नी की स्थिति गंभीर हो गई.