केवड़े के पानी से नहानेे से जलन और पसीने की बदबू होती है दूर

केवड़े के पानी से नहानेे से जलन और पसीने की बदबू होती है दूर

केवड़े का रस 40 से 60 मिलीलीटर की मात्रा में बुखार पीडि़त को पिलाने से बुखार दूर होता है व शरीर में स्फूर्ति आती है.

कमर दर्द-
केवड़े के ऑयल से प्रतिदिन कमर की मालिश करने से कमर दर्द में राहत मिलती है. केवड़ा का अर्क शरीर के हर तरह के दर्द खासतौर पर जोड़ों के दर्द से राहत देता है. प्रतिदिन केवड़े के ऑयल से मालिश करने से गठिया जैसे रोग भी जड़ से खत्म हो जाते हैं.

त्वचा रोग-
त्वचा रोग, फोड़े-फुंसी, दाद-खुजली में केवड़े के पत्तों को पीसकर लगाने से फायदा होता है.

माहवारी-
केवड़े की जड़ को पानी में घिसकर चीनी के साथ पीने से माहवारी में अधिक रक्त स्राव की कठिनाई दूर होती है.

पसीने की बदबू-
केवड़े के पानी से नहानेे से जलन और पसीने की बदबू दूर होती है. गर्मियों में यह बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है.

तनाव दूर करे-

केवड़ा तनाव दूर करने का सबसे प्रभावी व प्राकृतिक तरीका माना जाता है. केवड़ा के पत्तों में एंटी- स्ट्रेस एजेंट पाये जाते हैं जो कि हमारे तनाव व मानसिक असंतुलन को अच्छा करते हैं.