स्‍वास्‍थ्‍य के लिए वरदान है लहसुन की चाय, मिलते हैं कई स्वास्थ्य लाभ

स्‍वास्‍थ्‍य के लिए वरदान है लहसुन की चाय, मिलते हैं कई स्वास्थ्य लाभ

लहसुन खाने का स्वाद बढ़ाता है साथ ही लहसुन खाने से शरीर को बड़े फायदे होते हैं। ऐसे में कहा जाता है वजन और बीपी नियंत्रित करने में भी लहसुन का बड़ा योगदान होता है। अब आज हम बताने जा रहे हैं आपको लहसुन से बनी चाय के बारे में, जिसे आप पिएंगे तो यह काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।
आप नहीं जानते होंगे लेकिन लहसुन की चाय पीने से डायबिटीज कंट्रोल में रहता है। इसी के साथ कोलेस्ट्रोल कम होता है, इससे डाइबिटीज कम करने में मदद मिलती है।

लहसुन की चाय ब्लड प्रेशर के मरीजों को फायदा पहुंचाती है। इससे खून पतला होता है और रक्तप्रवाह सुचारू रूप से चलने लगता है।

लहसुन की चाय पीने से मोटापा धीरे-धीरे भाग जाता है। यह शरीर का मेटाबॉलिज्म भी बढ़ाता है और इससे अतिरिक्त वा भी पिघलती है।

ज्यादा गर्मी में लहसुन की चाय पीने से रक्तस्त्राव की समस्या हो सकती है इस कारण अगर किसी की कोई सर्जरी होने वाली है, तो उससे पहले लहसुन का सेवन न करें।


अगर आपने नहीं लगवाया है कोरोना का टीका तो दिल्ली मेट्रो और बसों में नहीं कर पाएंगे सफर, लागू होने जा रहा यह नियम

अगर आपने नहीं लगवाया है कोरोना का टीका तो दिल्ली मेट्रो और बसों में नहीं कर पाएंगे सफर, लागू होने जा रहा यह नियम

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन को देखते हुए दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) को एक प्रस्ताव जारी किया है। इस प्रस्ताव के तहत दिल्ली मेट्रो, बसों, सिमेना हॉल, मॉल, धार्मिक स्थलों, रेस्तरां, सार्वजनिक पार्क, सरकारी ऑफिस  में बिना वेरक्सीनेशन वाले लोगों के इन जगहों के प्रवेश पर रोक लगाने का फैसला जारी किया जा सकता है। यह 15 दिसंबर से लागू हो सकता है। बता दें कि, यह प्रतिबंध उन लोगों पर लगाया जा रहा है जिन्हें 31 मार्च, 2022 तक कोविड-19 वैक्सीन की एक खुराक मिली है। इस प्रस्ताव में न केवल सार्वजनिक स्थलों पर प्रतिबंध बल्कि उन लोगों को नकद पुरस्कार भी देने का सुझाव दिया है।

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के आने के बाद से देश में चिंता काफ बढ़ गई है क्योंकि गुरूवार को कर्नाटक में ओमिक्रोन वेरिएंट से 2 लोग संक्रमित पाए गए है जिसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गहरी चिंता जताई है। इस प्रस्ताव पर फिलहाल कोई चर्चा नहीं हुई है लेकिन डीडीएमए की अगली बैठक में इसको लाए जाने की संभावना है। एक अधिकारी ने कहा कि, आधी आबादी ने वैक्सीन लगा ली है जिससे लोगों को डरने की जरूरत नहीं है। यह एक महामारी है और जब तक सब सुरक्षित नहीं हैं तब तक कोई भी सुरक्षित नहीं है। हर किसी को अपने और अपने लोगों की सुरक्षा करनी होगी और वेक्सीन लगानी चाहिए।